loader

ये कैसा राष्ट्रवाद! यूरोपीय सांसदों के दौरे पर सोशल मीडिया पर ज़बरदस्त प्रतिक्रिया

यूरोपीय संसद के 23 सदस्यों के जम्मू-कश्मीर दौरे पर सोशल मीडिया पर ज़बरदस्त प्रतिक्रिया हो रही है। ट्विटर पर #ये_कैसा_राष्ट्रवाद  ट्रेंड कर रहा है, जिससे सैकड़ों लोग जुड़ गए हैं। ज़्यादातर लोग यह सवाल उठा रहे हैं कि अपने ही देश के सांसदों को जम्मू-कश्मीर जाने की इजाज़त नहीं दी गई, पर विदेश से आए सांसदों को अनुमति ही नहीं दी गई, उन्हें पूरी सुविधाएँ मुहैया कराई गईं हैं। 

वरिष्ठ पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने ट्वीट कर कहा, 'यह अजीब है कि हम अपने ही सांसदों को कश्मीर जाकर लोगों से पूरी आज़ादी से मिलने नहीं देते हैं, पर यूरोपीय संघ के सदस्यों को वहाँ जाने की अनुमति देने में ज़्यादा दिलचस्पी लेते हैं। निश्चित तौर पर हमें अपने सांसदों से पहले यूरोपीय संघ के सर्टिफिकेट की ज़रूरत नहीं है!'
वरिष्ठ पत्रकार सुहासिनी हैदर (@suhasinih) ने ट्वीट कर कहा है कि अनाम ग़ैर सरकारी संगठन ने इन यूरोपीय सांसदों की यात्रा का खर्च उठाया है, उन्होंने प्रधानमंत्री के साथ लंच किया और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने उनसे मुलाक़ात कर उन्हें कश्मीर की स्थिति से अवगत कराया। हैदर ने इसके आगे कहा कि ऐसा तो भ्रमण पर आए राष्ट्राध्यक्षों का साथ भी नहीं होता है। 
कैनेडियन भारत (@indcheated2014) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं और उसी क्रम में यूरोपीय सांसदों के दौरे की भी बात की है। 

शर्मिष्ठा मुखर्जी (@Sharmistha_GK) ने भी भारतीय सांसदों को अनुमति नहीं देने और यूरोपीय सांसदों का स्वागत करने का मुद्दा उठाया है। इसके अलावा उन्होंने यह जानकारी दी है कि यूरोपीय संघ ने ख़ुद को इस दौरे से अलग कर लिया है। 
मंजू जाधव ने बेहद अहम सवाल उठाया है। उन्होंने कहा है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है, ऐसे में बाहर के लोगों को वहाँ क्यों ले जाया गया, जहाँ भारतीय भी नहीं जा सकते?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें