loader

पेगासस : सुप्रीम कोर्ट की जाँच शुरू, फ़ोन जमा कराने को कहा

सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस जासूसी मामले की जाँच शुरू कर दी है। इसके तहत सुप्रीम कोर्ट कमेटी ने याचिकाकर्ताओं से कहा है कि वे तकनीकी मूल्यांकन के लिए अपने डिवाइस यानी  मोबाइल फ़ोन जमा कराएं। 

सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस आर. वी. रवींद्रन की अगुआई में बनी कमेटी ने कहा है कि याचिकाकर्ता चाहें तो शपथ ले कर अपनी बातें भी कह सकते हैं। 

इस कमेटी में नेशनल फ़ोरेंसिक साइंस लैबोरेटरी के नवीन कुमार चौधरी, सेंटर फ़ॉर इंटरनेट स्टडीज़ एंड आर्टिफ़िशियल इंटेलीजेंस के प्रोफ़ेसर प्रबाहरण पूर्णचंद्रन और इंडियन इंस्टीच्यूट ऑफ़ टेक्नोलोजी के प्रोफ़ेसर अश्विन अनिल गुमास्ते भी हैं। 

ख़ास ख़बरें
सुप्रीम कोर्ट कमेटी की ओर से भेजे गए ई-मेल में कहा गया है कि पेगासस सॉफ़्टवेअर को जिस डिवाइस में लगाया गया था, याचिकाकर्ता उसे जमा करें ताकि आगे की जाँच की जा सके। 

क्या कहा था सुप्रीम कोर्ट ने?

सुप्रीम कोर्ट ने पेगासस जासूसी मामले की जाँच का आदेश देते हुए कहा था कि सरकार की ओर से राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा बताए जाने का मतलब यह नहीं है कि न्यायपालिका मूकदर्शक बनी रहे। 

अदालत ने कहा, “किसी लोकतांत्रिक देश में, जहाँ क़ानून का शासन हो, वहाँ किसी की भी जासूसी करने की इजाजत नहीं दी जा सकती है।”

अदालत ने कहा कि भारत सरकार ऐसे मामलों में जानकारी देने से इनकार कर सकती है, जो सुरक्षा से जुड़े हों लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि हर वक़्त राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा खड़ा कर दिया जाए। 

सुप्रीम कोर्ट ने निजता और तकनीक की अहमियत पर भी टिप्पणी की और कहा कि अगर तकनीक का इस्तेमाल लोगों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए किया जा सकता है तो इसका इस्तेमाल लोगों की निजता पर हमले के लिए भी हो सकता है। 

supreme court panel begins NSO pegasus snooping case - Satya Hindi

क्या है मामला?

याद दिला दें कि शीर्ष अदालत में दायर याचिकाओं में पेगासस जासूसी मामले की स्वतंत्र जांच कराने की मांग की गई थी।

एम. एल. शर्मा, पत्रकार एन. राम और शशि कुमार, परंजय गुहाठाकुरता, एस. एन. एम. आब्दी, एडिटर्स गिल्ड, टीएमसी नेता यशवंत सिन्हा सहित कई लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। 

याचिकाकर्ताओं ने शीर्ष अदालत से यह भी माँग की थी कि वह सरकार को निर्देश दे कि वह इस बात को बताए कि उसने पेगासस स्पाईवेअर ख़रीदा या नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें