loader

यूपी में स्वास्थ्य 'राम भरोसे' वाले हाई कोर्ट के आदेश पर सुप्रीम कोर्ट का स्टे

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जिस आदेश में यूपी में स्वास्थ्य व्यवस्था 'राम भरोसे' वाली टिप्पणी की थी उस पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को रोक लगा दी है। इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कुछ दिनों पहले ही योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार से कहा था कि चार महीने में राज्य के अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों में स्वास्थ्य सुविधाएँ सुधरनी चाहिए। यूपी में मेडिकल ऑक्सीजन, अस्पताल बेड जैसी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी से कोरोना मरीज़ों की मौत की शिकायतों के बीच इलाहाबाद हाई कोर्ट का आदेश आया था। 

'लाइव लॉ' की रिपोर्ट के अनुसार जस्टिस विनीत सरन और बीआर गवई की सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने आज कहा कि उच्च न्यायालयों को ऐसे आदेश पारित करने चाहिए जिन्हें लागू करना संभव हो। हालाँकि इसने उच्च न्यायालय की 'राम भरोसे' वाली टिप्पणी को यह कहते हुए रद्द करने से इनकार कर दिया कि इस तरह की टिप्पणियों को सलाह के रूप में माना जाना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

इसी हफ़्ते सोमवार को इलाहाबाद हाई कोर्ट की जस्टिस सिद्धार्थ वर्मा और जस्टिस अजित कुमार की बेंच ने कोरोना के मरीजों को बेहतर सुविधाएँ देने की मांग वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि गाँवों और छोटे शहरों में स्वास्थ्य सुविधाएँ राम भरोसे हैं। 

अदालत ने कहा था, 'बीते कुछ महीने में हमने देखा है कि उत्तर प्रदेश का स्वास्थ्य ढांचा बेहद कमजोर है। जब यह स्वास्थ्य ढांचा सामान्य हालात में लोगों को चिकित्सा सुविधा नहीं दे पाता तो इसका इस महामारी में फ़ेल होना निश्चित ही था।'

मेडिकल कॉलेजों में सुविधाओं में सुधार के अलावा उच्च न्यायालय ने यूपी सरकार को राज्य के बी-ग्रेड और सी-ग्रेड के शहरों को कम से कम 20 एम्बुलेंस उपलब्ध कराने के लिए भी कहा था। 

हाई कोर्ट ने हर गाँव में गहन देखभाल इकाई की सुविधा के साथ दो एम्बुलेंस, सभी नर्सिंग होम बेड पर ऑक्सीजन, 30 से अधिक बिस्तरों वाले नर्सिंग होम में ऑक्सीजन संयंत्र, और सभी नर्सिंग होम और अस्पतालों में अधिक आईसीयू बेड की सुविधा करने को भी कहा था।

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, इलाहाबाद हाई कोर्ट के इस आदेश पर सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान लिया। 'लाइव लॉ' की रिपोर्ट के अनुसार, भारत के सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से पेश हुए। 

देश से और ख़बरें

मेहता ने शीर्ष अदालत को बताया कि भले ही निर्देश अच्छे अर्थ थे, लेकिन उन्हें लागू करना मुश्किल था। उन्होंने यह भी कहा कि उच्च न्यायालय द्वारा 'राम भरोसे' वाली टिप्पणी का प्रभाव राज्य में स्वास्थ्य देखभाल करने वाले पेशेवरों का मनोबल गिराने वाला होगा।

सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि उच्च न्यायालयों को वैसे आदेश नहीं देने चाहिए जिसको लागू करना संभव नहीं हो। हालाँकि इसने यह भी कहा कि इसने सभी उच्च न्यायालयों के लिए यह आदेश नहीं दिया है और यह सिर्फ़ इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के ख़िलाफ़ है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें