loader

ताजमहल हमारी जमीन पर बनाः बीजेपी सांसद दीया कुमारी

बीजेपी की सांसद और जयपुर की पूर्व राजकुमारी दीया कुमारी ने दावा किया है कि जिस जमीन पर ताजमहल बनाया है वह मूल रूप से उनके परिवार की थी। दीया कुमारी ने कहा कि उनके पास ऐसे दस्तावेज हैं जो जमीन पर जयपुर शाही परिवार के दावे को दर्शाते हैं। दीया कुमारी की टिप्पणी इलाहाबाद हाईकोर्ट की लखनऊ पीठ में एक याचिका दायर करने के बाद आई है जिसमें भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) को हिंदू मूर्तियों की उपस्थिति की जांच के लिए ताजमहल के 22 बंद कमरों की जांच करने की मांग की गई है।
याचिका के समर्थन में बीजेपी नेता दीया कुमारी ने कहा, 'इसकी जांच होनी चाहिए कि स्मारक बनने से पहले वहां क्या था. लोगों को यह जानने का अधिकार है कि मूल रूप से मकबरे से पहले क्या था। उन्होंने कहा कि जयपुर परिवार के पास रिकॉर्ड उपलब्ध हैं और जरूरत पड़ने पर यह उन्हें उपलब्ध कराएगा।

ताजा ख़बरें
दीया कुमारी ने दावा किया कि मुगल शासक शाहजहां ने उनके परिवार की जमीन पर कब्जा कर लिया था। भूमि के बदले मुआवजा दिया गया था, लेकिन कितना था, स्वीकार किया या नहीं, मैं यह नहीं कह सकती क्योंकि मैंने उन अभिलेखों का अध्ययन नहीं किया है जो हमारे 'पोथीखाना' में हैं। लेकिन जमीन हमारे परिवार की थी और शाहजहाँ ने इसे हासिल कर लिया था। दीया कुमारी ने कहा, चूंकि कोई उस समय अदालत नहीं थी, उस समय कोई अपील नहीं की जा सकती थी। अभिलेखों की जांच के बाद ही चीजें स्पष्ट हो पाएंगी।यह पूछे जाने पर कि क्या जयपुर के पूर्व शाही परिवार की ओर से कोर्ट में याचिका दायर की जाएगी, बीजेपी सांसद दीया कुमारी ने कहा कि वे अभी इस पर गौर कर रही हैं और जांच करेंगी कि क्या कदम उठाए जाने चाहिए।

विशेष रूप से, दीया कुमारी, जो जयपुर के पूर्व शाही परिवार की सदस्य हैं, ने पहले दावा किया था कि उनका परिवार भगवान राम के पुत्र का वंशज है। उन्होंने कहा कि वह सुप्रीम कोर्ट में अपने परिवार के वंश का सबूत देने को तैयार है, उम्मीद है कि इससे अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण में तेजी लाने में मदद मिलेगी।

मौजूदा विवाद

 ताजमहल को मुगल बादशाह शाहजहाँ ने अपनी पत्नी मुमताज महल के मकबरे के रूप में बनवाया था। उन्होंने 1631 में इसकी शुरुआत की थी और निर्माण अगले साल शुरू हो गया था। संगमरमर के स्मारक को अंततः 1653 में पूरा होने में 22 साल और 22,000 श्रमिकों का समय लगा। याचिका में दावा किया गया है कि वहां एक शिव मंदिर हुआ करता था जिसे शाहजहाँ ने अपनी पत्नी के मकबरे में बदल दिया था। लंबे समय से बंद रहे ताजमहल के उन 22 कमरों को खोलने के लिए भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) से सर्वे कराने की मांग को लेकर इलाहाबाद हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई है। 

देश से और खबरें

अयोध्या में बीजेपी मीडिया प्रभारी रजनीश सिंह द्वारा दायर याचिका में कुछ इतिहासकारों और हिंदू समूहों के दावों का हवाला दिया गया है कि मकबरा वास्तव में एक पुराना शिव मंदिर है। याचिका में एएसआई से बंद कमरों की जांच के लिए एक विशेष समिति गठित करने और रिपोर्ट जनता को जारी करने की मांग की गई है। सिंह ने कहा कि मांग ताजमहल को मंदिर बनाने की नहीं बल्कि सामाजिक समरसता के लिए मामले की सच्चाई को सामने लाने की है। उन्होंने कहा कि इस तरह के विवाद को खत्म करने का एकमात्र तरीका बंद दरवाजों की जांच करना है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें