loader

जेएनयू : हमले से पहले वॉट्सऐप पर मारपीट की अपील, बाद में जताई खुशी

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में रविवार की रात हुए हमले पूर्व नियोजित थे, सोची समझी रणनीति के तहत किए गए थे और इसके पीछे कट्टर दक्षिणपंथी छात्र संगठन के लोग थे। सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म वॉट्सऐप पर छह लोगों के मैसेज देखने से यह बात साफ़ हो जाती है। 

देश से और खबरें

'देशद्रोहियों को बुरी तरह पीटें'

अंग्रेज़ी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस ने इन छह लोगों के वॉट्सऐप मैसेज को पढ़ा और उन लोगों से बात की। जेएनयू परिसर के होस्टलों में घुस कर लड़के-लड़कियों को बुरी तरह पीटने की वारदात के कुछ घंटे पहले इन वॉट्सऐप मैसेज में लोगों से अपील की गई है कि वे इस विश्वविद्यालय के ‘देशद्रोहियों को बुरी तरह पीटें।’

बाद में मारपीट पर खुशी जताई गई है और उसे उचित ठहराते हुए कहा गया है कि ‘सालों ने गंध मचा रखी थी’ और यह भी कि ‘अब नहीं मारते तो कब मारते?’

वॉट्सऐप ग्रुप ‘लेफ़्ट टेरर डाउन डाउन’ में किसी ने लिखा, ‘आज जेएनयू में बहुत मजा आया। मजा आ गया, इन सालों, देशद्रोहियों को मार के।’

'हमने जेएनयू में बहुत मजे किए'

इंडियन एक्सप्रेस ने जब उससे संपर्क किया तो उसने कहा, ‘मैं हरियाणा से हूं, कॉलेज में पढ़ता हूं। हम में से कुछ लोगों ने बहुत मजे किए। फिर हमने जेएनयू के लेफ़्ट टेरर पर एक मीडिया पोर्टल को देखा। मेरे दोस्त ने मेरा फ़ोन ले लिया, उसने उस ग्रुप को ज्वाइन कर लिया और पोस्ट किया। मैंने उसे डाँटा। मैं राजनीतिक रूप से जागरूक नहीं हूं, इसलिए मुझे नहीं पता कि जेएनयू के छात्र राष्ट-विरोधी हैं या नहीं।’ 

एक दूसरे आदमी ने वॉट्सऐप पर पोस्ट किया, ‘सालों को होस्टल में घुस कर तोड़े।’ संपर्क किए जाने पर उसने कहा कि वह नोएडा में रहता है। उसने कहा, ‘तुम्हें मेरा नंबर किसने दिया, फ़ोन काटो।’ उसके बाद उसने फ़ोन कनेक्शन काट दिया। 

एक दूसरे आदमी ने वॉट्सऐप पर मैसेज पोस्ट किया, ‘बिल्कुल! एक बार ठीक से आर-पार करने की ज़रूरत है, अभी नहीं मारेंगे सालों को तो कब मारेंगे। गंध मचा रखी है साले कॉमियो ने।’

'हाँ! मैं एबीवीपी से हूँ'

इंडियन एक्सप्रेस ने उससे संपर्क किया। उसने कहा, ‘मैं जेएनयू का छात्र हूँ और स्कूल ऑफ़ इंटरनेशनल स्टडीज़ में पीएच. डी. कर रहा हूँ। हाँ, मैं अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से हूँ। पत्रकार जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय की छवि खराब कर रहे हैं।’ बाद में उसने कहा, ‘मैं जेएनयू से हूँ, मैंने पोस्ट नहीं किया है। किसी और ने मेरे नंबर का दुरुपयोग किया है।’ 

एक दूसरा आदमी जिस वॉट्सऐप ग्रुप में था, उसका नाम था, ‘यूनिटी अगेन्स्ट लेफ़्ट’। उसने कहा, ‘मैं यहाँ परिसर में हिंसा मचाने की योजना का पता लगाने आया हूँ।’ 

उसने कहा, ‘मैं इस समय एम्स ट्रॉमा सेंटर में हूँ। मैं जेएनयू से नहीं हूँ, पर अपने साथियों के साथ हूँ। मैं जानकारियाँ एकत्रित करने के लिए ग्रुप में आया, पर बाद में उन्होंने मुझे निकाल दिया। इस ग्रुप का लिंक किसी और ने शेयर किया।’
बता दें कि जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में रविवार शाम को हिंसा भड़क गई। दर्जनों नकाबपोश लोगों ने कैंपस में छात्रों और अध्यापकों पर हमला कर दिया। इसमें विश्वविद्यालय के छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष गंभीर रूप से घायल हो गईं।प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार क़रीब 50 गुंडे कैंपस में घुसे और तोड़फोड़ करने लगे। उन्होंने कारों में तोड़फोड़ की और लोगों पर हमले भी किए। छात्रसंघ अध्यक्ष आइशी घोष ने कहा कि 'मास्क पहने गुंडों द्वारा मुझ पर घातक हमला किया गया। मेरी बुरी तरह पिटाई की गई।' घटना के बार छात्रसंघ ने एबीवीपी पर हिंसा करने का आरोप लगाया है, जबकि एबीवीपी ने कहा है कि इसके सदस्यों पर वामपंथी छात्रों ने हमला किया है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें