loader
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को शाल ओढ़ाते हिमाचल बीजेपी के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा देने वाले डॉ. राजीव

पीपीई किट घोटाला: ख़बर बीजेपी से जुड़ी थी, इसलिए ‘ग़ायब’ कर गया राष्ट्रीय मीडिया?

कोरोना महामारी के इस संकट में भी कुछ लोगों ने  आपदा में ‘अवसर’ खोज लिया है। हिमाचल में इन दिनों पीपीई किट घोटाले की जबरदस्त चर्चा है और अब यह चर्चा राज्य से निकलकर राष्ट्रीय स्तर पर आ गई है। लेकिन राष्ट्रीय मीडिया ने इस मामले में चुप्पी साधी हुई है। लेकिन क्यों?, इस पर चर्चा बाद में, पहले आपको मामला क्या है, ये बताते हैं। 

हिमाचल प्रदेश और देश भर में इन दिनों कथित रिश्वत मांगने की एक ऑडियो क्लिप वायरल हो रही है। इस ऑडियो क्लिप में हिमाचल प्रदेश के स्वास्थ्य महकमे के निदेशक डॉ. अजय गुप्ता की किसी एक दूसरे शख़्स के साथ बातचीत हो रही है। डॉ. अजय गुप्ता जिस शख़्स से बात कर रहे हैं, उसे एक बीजेपी नेता का क़रीबी बताया गया है।

ऑडियो क्लिप में 5 लाख रुपये देने की बात सुनी जा सकती है। ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद राज्य में सियासी भूचाल आ गया है और बात यहां तक बढ़ गई है कि हिमाचल बीजेपी के अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल को अपने पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा है।

इस मामले में एक और गंभीर बात है। वह बात यह है कि अंग्रेजी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने बताया है कि डॉ. अजय गुप्ता की कॉल डिटेल से पता चला है कि गिरफ़्तारी वाले दिन वह बीजेपी ऑफ़िस के पास में ही मौजूद थे। कांग्रेस ने पूछा है कि गुप्ता बीजेपी ऑफ़िस में किससे मिले थे। 

ताज़ा ख़बरें
अब सवाल यह है कि इतनी बड़ी ख़बर पर राष्ट्रीय मीडिया चैनलों पर कहीं कोई चर्चा क्यों नहीं हुई। पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान पर पिछले पांच साल से लगातार चर्चा कर रहे राष्ट्रीय मीडिया ने अपने देश की इतनी बड़ी ख़बर को ‘मिस’ हो जाने दिया। कुछ न्यूज़ पोर्टलों को छोड़कर ये ख़बर राष्ट्रीय स्तर पर चर्चा नहीं पा सकी। लेकिन क्यों?
ख़बर का सबूत यानी ऑडियो क्लिप मौजूद है। केंद्र और राज्य में सत्ताधारी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को इस्तीफ़ा तक देना पड़ गया है। सीधे-सीधे तौर पर भ्रष्टाचार का मामला है। लेकिन राष्ट्रीय मीडिया इस ख़बर को पी गया।

गुजरात में नकली वेंटिलेटर!

इसके अलावा बीजेपी शासित राज्य गुजरात के दो मामले हैं। गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने जिन मशीनों को वेंटिलेटर बताकर उद्घाटन किया था, बाद में वे सिर्फ़ सांस देने वाले उपकरण निकले। सच्चाई सामने आने के बाद राज्य सरकार को भारी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा। कांग्रेस के मुताबिक़, इस मामले में घोटाले की बू आती है। इसके अलावा गुजरात में N95 मास्क बेचने के मामले में भी बीजेपी सरकार पर मुनाफाखोरी के आरोप लगे हैं। 

देश से और ख़बरें
ये दोनों ख़बरें भी राष्ट्रीय मीडिया में जगह नहीं बना सकीं। सवाल फिर वही, लेकिन क्यों? सांस देने वाले उपकरण का राज्य के मुख्यमंत्री वेंटिलेटर कहकर प्रचार करें और उनसे क्या सवाल भी न पूछे जाएं। 
सामान्य राजनीतिक ज्ञान रखने वाले व्यक्ति को भी यह समझ आ जाएगा कि इन ख़बरों को राष्ट्रीय मीडिया ने क्यों नहीं छुआ या छुआ भी तो सिर्फ़ रस्म अदायगी की। जबकि ये तीनों ही ख़बरें महामारी के इस दौर में पत्रकारिता के सिद्धांतों के मुताबिक़ सबसे अहम थीं और इन्हें चैनलों पर ठोककर चलाया जाना चाहिए था और अख़बारों में स्याही ख़त्म होने तक लिखा जाना चाहिए था। लेकिन ऐसा नहीं हो सका। 
सोचिए कि अगर ऐसा ही कुछ विपक्षी दलों की सरकारों में हुआ होता तो अब तक क्या इसी राष्ट्रीय मीडिया ने आसमान सिर पर नहीं उठा लिया होता। मतलब यह कि सब कुछ शीशे की तरफ साफ है कि किस मुद्दे पर पर बहस करनी है और किस पर नहीं?

बहरहाल, हिमाचल और गुजरात के मामले को लेकर सोशल मीडिया पर जोरदार चर्चा है और बीजेपी को जवाब देते नहीं बन रहा है। लेकिन लोग राष्ट्रीय मीडिया चैनलों से सवाल पूछ रहे हैं कि वे इन ख़बरों पर क्यों मुंह सिलकर बैठे हुए हैं? 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें