loader
कर्नाटक के श्रीरंगपटना की जामा मस्जिद

कर्नाटक में शनिवार को मस्जिद में पूजा, संघ प्रमुख का प्रवचन बेअसर

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत एक तरफ तो कह रहे हैं कि हर मस्जिद में शिवलिंग क्या खोजना, जबकि दूसरी तरफ तमाम दक्षिणपंथी संगठन उनकी सलाह को अंगूठा दिखाते हुए मस्जिदों में पूजा करने का ऐलान कर रहे हैं। कर्नाटक के मांड्या जिले में श्रीरंगपटना की शाही जामा मस्जिद में कुछ हिन्दू संगठनों ने 4 जून को पूजा करने की घोषणा की है। इसके बाद इलाके में तनाव फैल गया है और वहां धारा 144 लागू कर दी गई है। पूजा स्थल अधिनियम 1991 किसी भी धार्मिक स्थल में बदलाव की अनुमति नहीं देता लेकिन उस कानून को ताक पर रख कर कुछ संगठन माहौल खराब करने पर आमादा हो गए हैं।

खबर है कि कुछ दक्षिणपंथी हिंदू संगठनों ने 4 जून रविवार को जामिया मस्जिद में पूजा करने का आह्वान किया है। कर्नाटक सरकार के निर्देश पर जिला प्रशासन ने मांड्या जिले के श्रीरंगपटना शहर में 3 जून की शाम से 5 जून की सुबह तक धारा 144 लगा दी है। हिन्दू सगंठनों का दावा है कि मस्जिद एक हनुमान मंदिर को तोड़कर बनाया गया था। बहरहाल, श्रीरंगपटना तहसीलदार श्वेता रवींद्र ने प्रतिबंध आदेश लागू कर दिया। 
ताजा ख़बरें
बेंगलुरु से 120 किमी दूर श्रीरंगपटना में जामिया मस्जिद, टीपू सुल्तान के शासन के दौरान 1782 के आसपास बनी थी। यह बिल्डिंग भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा संरक्षित एक विरासत स्थल है।

इसी तरह का दावा हिंदू दक्षिणपंथी संगठनों ने मंगलुरु शहर में असैयद अदबुल्लाहिल मदनी मस्जिद के संबंध में किया था। यह मुद्दा अब भी चल रहा है। 

श्री राम सेना के संस्थापक प्रमोद मुतालिक ने 'श्रीरंगपटना चलो' के आह्वान को अपना समर्थन दिया है। उन्होंने कहा,"हम आपसे ज्ञानवापी मस्जिद की तर्ज पर मस्जिद का सर्वेक्षण करने का आग्रह करते हैं। उन्होंने कहा कि दूसरे चरण में लाउडस्पीकरों के इस्तेमाल के मुद्दे को उठाया जाएगा।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें