loader

महिला पहलवान: सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली पुलिस ने कहा- FIR से पहले जांच जरूरी 

दिल्ली पुलिस ने आज बुधवार को सुप्रीम कोर्ट को सूचित किया कि उसे भारतीय कुश्ती महासंघ अध्यक्ष और बीजेपी सांसद ब्रजभूषण शरण सिंह पर लगे यौन शोषण के आरोपों की जांच करनी है। इसके बाद ही वो एफआईआर करेगी। सुप्रीम कोर्ट ने कल इस संबंध में दिल्ली पुलिस और केंद्र सरकार को नोटिस देकर शुक्रवार तक जवाब मांगा था। अदालत ने इस मामले को गंभीर बताया था। 7 महिला पहलवान रविवार से धरने पर बैठी हैं। पिछले शुक्रवार को उन्होंने बाहुबली सांसद ब्रजभूषण शरण सिंह पर यौन शोषण का आरोप लगाते हुए दिल्ली पुलिस में शिकायतें की थीं। जब एफआईआर नहीं दर्ज की गई तो 7 महिला पहलवानों ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में इंसाफ के लिए याचिका दायर कर दी। जिसे कोर्ट ने मंजूर कर लिया।

पीटीआई और लाइव लॉ के मुताबिक दिल्ली पुलिस ने बुधवार को अदालत को सूचित किया कि इस मामले में प्रारंभिक जांच की जरूरत हो सकती है। इसके बाद वे एफआईआर दर्ज करेंगे।

ताजा ख़बरें
भारत के चीफ जस्टिस डी. वाई. चंद्रचूड़ की बेंच के सामने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने आज कहा- हमें पहली नजर में ही लगता है कि एफआईआर दर्ज करने से पहले इसकी थोड़ी प्रारंभिक जांच की जरूरत हो सकती है। मेहता ने कहा- 

यही हम आपके संज्ञान में लाना चाहते हैं। हालांकि, अगर आपको लगता है कि एफआईआर तुरंत दर्ज की जानी चाहिए, तो कोई कठिनाई नहीं है। लेकिन कुछ मुद्दे हैं जिन्हें हम एफआईआर से पहले जांचना चाहेंगे।


-तुषार मेहता, सॉलिसीटर जनरल, 26 अप्रैल 2023 सोर्सः लाइव लॉ

इस पर सीजेआई चंद्रचूड़ ने कहा- 

क्या किया जा सकता है जब मामला शुक्रवार को आता है यदि आपके पास कोई मैटेरियल (सबूत) है जिसे आप हमें दिखाना चाहते हैं, तो हम हमेशा इसे देखेंगे। आमतौर पर मैं कुछ ऐसा पढ़ने से कतराता हूं जो दूसरे पक्ष के पास नहीं है, लेकिन इस तरह के मामले में ...।


-चीफ जस्टिस सुप्रीम कोर्ट, 26 अप्रैल 2023, सोर्सः लाइव लॉ

एसजी तुषार मेहता ने कहा कि वह तथ्य को अदालत के संज्ञान में ला रहे हैं ताकि यह महसूस न हो कि नोटिस के बावजूद, हमने तुरंत एफआईआर दर्ज नहीं की। 

याचिकाकर्ता एक अतिरिक्त हलफनामा भी दाखिल करेंगे क्योंकि बाद में कुछ हुआ है।


-कपिल सिब्बल, महिला पहलवानों के वकील, 26 अप्रैल 2023 सोर्सः लाइव लॉ

मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने नोटिस जारी करते हुए कहा था, याचिका में यौन उत्पीड़न के गंभीर आरोप हैं, जो भारत का प्रतिनिधित्व करने वाले पेशेवर अंतरराष्ट्रीय पहलवानों द्वारा लगाए गए हैं। मामले को संविधान के अनुच्छेद 32 के तहत अपने अधिकार क्षेत्र के प्रयोग में इस अदालत के विचार की आवश्यकता है।

wrestler sexual harassments: Delhi Police said in SC– investigation necessary before FIR - Satya Hindi
पहलवानों का जंतर मंतर पर धरना जारी है

बुधवार दोपहर तक का अपडेट

  • -रविवार से महिला पहलवानों का धरना शुरू हुआ। आज चौथा दिन।
  • -सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में महिला पहलवानों की ब्रजभूषण शरण सिंह के खिलाफ याचिका। यौन शोषण का आरोप।
  • -मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने याचिका मंजूर की। नोटिस जारी।
  • -मंगलवार को केंद्रीय जांच पैनल की सदस्य बबीता फोगाट का आरोप- मुझसे जांच रिपोर्ट छीन ली गई, पढ़ने नहीं दिया। पैनल की सदस्य राधिका  श्रीमन का आरोपों से इनकार।
  • - मंगलवार को हरियाणा के पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा, खाप पंचायत और किसान नेता भी जंतर मंतर पर महिला पहलवानों के समर्थन में मंगलवार को बैठे।
  • - बुधवार को सुप्रीम कोर्ट में दिल्ली पुलिस ने कहा कि एफआईआर से पहले जांच जरूरी
  • - बुधवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट कर महिला पहलवानों के संघर्ष का समर्थन किया।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें