loader

कोरोना से 170 देशों में प्रति व्यक्ति आय कम होगी : आईएमएफ़

कोरोना महामारी की वजह से विश्व अर्थव्यवस्था 1929-30 की महा मंदी के बाद की सबसे भयानक मंदी की ओर बढ़ रही है और 170 देशों में प्रति व्यक्ति आय कम होगी। मंदी का सबसे ज़्यादा असर ग़रीब देशों पर पड़ेगा। आईएमए़फ़ प्रमुख क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा है, 'हमारा पूर्वानुमान है कि महा मंदी (ग्रेट डिप्रेशन) के बाद की सबसे बड़ी मंदी आने वाली है।’ 

क्या था 'द ग्रेट डिप्रेशन'?

बता दें कि 1929 में अमेरिका से शुरू हुई आर्थिक मंदी पूरी दुनिया में फैल गई और 1930 के अंत तक बनी रही। इसकी शुरुआत अमेरिकी स्टॉक मार्केट के बुरी तरह टूटने से हुई थी, लेकिन यह मंदी बढ़ती गई, फैलती गई और इसने जल्द ही पूरी दुनिया को अपने चपेट में ले लिया। 
वैसी मंदी फिर कभी नहीं देखी गई। अब आईएमएफ़ का कहना है कि उसके बाद की सबसे भयानक मंदी आने ही वाली है। 
अगले हफ़्ते ही आईएमएफ़ और विश्व बैंक की वर्चुअल बैठक होने वाली है। इस बैठक के बाद आईएमएफ़ विस्तृत रिपोर्ट जारी करेगा, जिससे यह पता चल सकेगा कि असली तसवीर कैसी होगी। 
कुछ दिन पहले ही आईएमएफ़ ने अनुमान लगाया था कि 2021 विश्व अर्थव्यवस्था के लिए बेहतर होगा और कई देशों की अर्थव्यवस्था में सुधार होगा। 
तीन महीने पहले 189 देशों वाली इस संस्था ने कहा था कि 160 देशों की प्रति व्यक्ति आय बढ़ेगी। अब यही संस्था कह रही है कि 170 देशों में प्रति व्यक्ति आय कम होगी।
जॉर्जीवा ने यह भी कहा है कि लातिन अमेरिका, अफ्रीका और एशिया के ज़्यादातर देशों की आर्थिक स्थिति बदतर होगी, वे अधिक ख़तरनाक स्थिति में हैं। आईएमएफ़ प्रमुख ने कहा :

‘कमज़ोर स्वास्थ्य सेवा प्रणाली से शुरू होकर इन देशों के सामने चुनौती होगी कि घनी आबादी वाले शहरों और झुग्गी-झोपड़ी वाले इलाक़ों में कोरोना संक्रमण से लड़ें, जहाँ सोशल डिस्टैंसिंग आसान नहीं है।’


क्रिस्टलीना जॉर्जीवा, प्रमुख, आईएमए़फ़

संकट की दूसरी स्थिति यह है कि निवेशक डरे हुए हैं और वे इन उभरती अर्थव्यवस्थाओं से अपने पैसे निकाल लेंगे, जिसका असर पूरी विश्व अर्थव्यवस्था पर पड़ेगा। क्रिस्टलीना जॉर्जीवा ने कहा कि बीते दो महीने में ही निवेशकों ने कुल मिला कर लगभग 100 अरब डॉलर का निवेश निकाल लिया है।

आ गई मंदी!

बीते हफ़्ते ही आईएमएफ़ यानी इंटरनेशनल मॉनिटरिंग फ़ंड ने कहा था कि मंदी आ चुकी है और इस बार यह 2008 के आर्थिक संकट से अधिक भयावह होगी।
उस समय जार्जीवा ने कहा था कि मौजूदा वैश्विक आर्थिक मंदी का सबसे बड़ा कारण कोरोना वायरस है। उन्होंने कहा कि आईएमएफ़ के इतिहास में ऐसा संकट पहले कभी नहीं आया था। उनके मुताबिक़, ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि पूरी अर्थव्यवस्था ही ठप हो जाये। 
उन्होंने विकासशील और ग़रीब देशों को चेतावनी दी थी कि वे विशेष तौर पर तैयार रहें, उनके यहाँ आर्थिक संकट विकसित देशों की तुलना में अधिक गहरा हो सकता है। जार्जीवा का कहना है कि ऐसे देशों में स्वास्थ्य सेवायें पहले से ही ख़स्ताहाल में हैं, ऐसे में आर्थिक संकट उनकी कमर तोड़ सकता है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें