loader

लॉकडाउन बढ़ा तो भी मज़दूरों को काम देने वाले कई उद्योग हो सकते हैं शुरू

लॉकडाउन के बाद बेरोज़गार हुए और भूखे रहने के संकट का सामना कर रहे मज़दूरों और अर्थव्यवस्था को संभालने के लिए कुछ उद्योगों को शुरू किया जा सकता है। कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के बीच औद्योगिक इकाइयों के बंद होने से करोड़ों लोग बेरोज़गार हो गए हैं और उनके सामने जीवन-मरण का संकट खड़ा हो गया है। जिन उद्योगों को शुरू करने का प्रस्ताव है उनमें बड़ी संख्या में मज़दूरों को काम करने की ज़रूरत होती है। इसे चरणबद्ध तरीक़े से शुरू करने के लिए सरकार के पास प्रस्ताव भेजा गया है। शुरुआत में जिन उद्योगों में काम शुरू होने की उम्मीद है उनमें टेक्सटाइल्स, ऑटोमोबाइल्स, स्टील, रक्षा और इलेक्ट्रॉनिक उत्पादन से जुड़े उद्योग शामिल हैं। ऐसे ग़ैर-ज़रूरी सेवाओं व उत्पादनों से जुड़े क़रीब 15 सेक्टरों को छूट दी जा सकती है। फ़िलहाल ज़रूरी सामान वाले उत्पादनों की ही छूट है।

उद्योग और आंतरिक व्यापार को बढ़ावा देने वाला विभाग डीपीआईआईटी ने शनिवार को प्रस्ताव भेजकर कहा है कि इन उद्योगों को चरणबद्ध तरीक़े से धीरे-धीरे काम शुरू करने के लिए इजाज़त दी जानी चाहिए। इसमें कहा गया है कि सुरक्षा के पर्याप्त उपाय कर एक-एक शिफ़्ट में काम शुरू कराया जा सकता है।

ताज़ा ख़बरें

इन सेक्टरों को छूट मिलने की संभावना

  • भारी विद्युत और दूरसंचार क्षेत्र को सीमित गतिविधि की छूट।
  • तीन शिफ्ट में सीमेंट प्लांट में काम शुरू करने के लिए छूट।
  • कपड़ा, ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक उद्योग को 20-25% की क्षमता तक उत्पादन।
  • उस आवास और निर्माण क्षेत्र को जिनमें साइट के भीतर ही मज़दूर रहते हैं।
  • विशेष आर्थिक क्षेत्र यानी एसईजेड और ज़्यादातर निर्यात करने वाली इकाइयाँ।
  • हेल्थकेयर के लिए ज़रूरी सामान उत्पादन करने वाला रबर उद्योग।
  • मरम्मत करने वाली सेवाएँ, फल, सब्जी विक्रेता।
  • माल परिवहन वाहन।

यानी यदि ये उद्योग शुरू होंगे तो मज़दूरों के सामने जो बेरोज़गारी और भूखे मरने की नौबत आई है उससे उन्हें राहत मिल सकती है। बता दें कि लॉकडाउन के बाद बेरोज़गारी दर काफ़ी ज़्यादा बढ़ गई है। सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकॉनमी यानी सीएमआईई ने कहा है कि 30 मार्च से 5 अप्रैल के दौरान यानी छह दिन में बेरोज़गारी दर बढ़कर 23.4 प्रतिशत हो गई है। जबकि पूरे मार्च महीने में यह दर 8.7 फ़ीसदी थी। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि श्रम भागीदारी दर 36 प्रतिशत तक गिर गई है। बता दें कि 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद से मज़दूरों की उपलब्धता काफ़ी कम हो गई है और इसलिए इनकी भागीदारी गिर गई है।

मार्च महीने में 90 लाख श्रम बल की कमी आई। श्रम बल में सभी नौकरी करने वाले व्यक्ति और वे बेरोज़गार शामिल हैं जो सक्रिय रूप से नौकरियों की तलाश में हैं। जनवरी और मार्च के बीच रोज़गार की संख्या 411 मिलियन से 396 मिलियन तक गिर गई और बेरोज़गारों की संख्या 32 मिलियन से बढ़कर 38 मिलियन हो गई।

सरकार की ऐसी ही रिपोर्टों के बीच इन उद्योगों को शुरू करने का प्रस्ताव रखा गया है। 'द इंडियन एक्सप्रेस' के अनुसार, डीपीआईआईटी सचिव गुरु प्रसाद महापात्रा ने 11 अप्रैल को अजय कुमार भल्ला को इस बारे में पत्र लिखा था। इसमें उन्होंने कहा था कि जो ज़रूरी सेवाएँ हैं उनके अलावा भी कुछ विशेष गतिविधियों को काम करने की इजाज़त दी जानी चाहिए। हालाँकि उन्होंने इस पत्र में यह भी कहा है कि सरकार द्वारा लॉकडाउन को बढ़ाने पर लिए जाने वाले आख़िरी फ़ैसले के बाद इस पर विचार किया जाए। उन्होंने पत्र में कहा है, 'आर्थिक गतिविधियों में सुधार और लोगों को तरलता (यानी रुपये) देने के लिए ये नई गतिविधियाँ ज़रूरी हैं।' 

अर्थतंत्र से और ख़बरें

फार्मास्युटिकल्स और हेल्थकेयर जैसे आवश्यक उद्योगों को सामान आपूर्ति करने वाले दूसरे उद्योगों को भी शुरू करने की अनुमति दी जा सकती है। इसमें रबर उद्योग और दस्ताने, अस्पताल के रबर शीट, चिकित्सा उपकरण, कैथेटर, एनेस्थीसिया बैग जैसे चिकित्सा उपकरण बनाने वाली इकाइयाँ भी शामिल हैं। इसके अलावा भी कई अन्य सेक्टर्स को शुरू करने का प्रस्ताव रखा गया है।

अख़बार ने कहा है कि संपर्क करने पर डीपीआईआईटी सचिव महापात्रा ने उस पत्र के बारे में ज़्यादा जानकारी देने से इनकार कर दिया। हालाँकि उन्होंने यह ज़रूर कहा कि लॉकडाउन के मद्देनज़र, कई सेक्टर्स, व्यापारिक और औद्योगिक इकाइयों के संपर्क में हैं।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें