loader

रिपोर्ट : इन्फ़ोसिस, टाटा समूह पर हमले के बाद सहमा हुआ है उद्योग जगत

पहले टाटा समूह और उसके बाद इन्फ़ोसिस, सत्तारूढ़ बीजेपी की मातृ संस्था समझे जाने वाले राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पत्रिका और उसके पहले केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने जिस तरह सार्वजनिक रूप से इन पर हमला किया और इन्हें 'राष्ट्र विरोधी' तक कह दिया, उससे उद्योग जगत डरा-सहमा हुआ है। 

किसी उद्योग समूह के ग़लत कामकाज को लेकर उसकी आलोचना एक बात है और बग़ैर किसी ठोस कारण के ही, किसी उद्योग समूह या उद्योगपति की सार्वजनिक आलोचना और राष्ट्रविरोधी क़रार देना बिल्कुल अलग। 

इसे समझने के लिए इनफ़ोसिस और टाटा समूह के साथ क्या हुआ है, इस पर एक नज़र डालना ज़रूरी है। 

ख़ास ख़बरें

इन्फ़ोसिस

'पाँचजन्य' के ताज़ा अंक में एक लेख छपा है, जिसमें पूछा गया है, "क्या राष्ट्र-विरोधी शक्ति इसके माध्यम से भारत के आर्थिक हितों को चोट पहुँचाने की कोशिश कर रही है?"

'पाँचजन्य' के लेख में कहा गया है कि इन्फ़ोसिस द्वारा विकसित जीएसटी और आयकर रिटर्न वेबसाइटों में गड़बड़ियों के कारण, "देश की अर्थव्यवस्था में करदाताओं के विश्वास को चोट लगी है। क्या इन्फ़ोसिस के माध्यम से राष्ट्र विरोधी ताकतें भारत के आर्थिक हितों को ठेस पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं?"

बता दें कि इन्फ़ोसिस की वेबसाइट पर काफी समय से गड़बड़ियाँ चल रही हैं और शिकायत के बावजूद इसे ठीक नहीं किया गया है। 

corporates scared after attack on infosys, tata group by panchajanya, piyush goel - Satya Hindi
निर्मला सीतारमण, वित्त मंत्री

इन्फ़ोसिस के अधिकारी तलब

वित्त मंत्रालय के अधिकारियों ने पोर्टल के लगातार दो दिनों तक बंद रहने के बाद इन्फ़ोसिस के सीईओ को तलब किया था।

वित्त मंत्री ने वेबसाइट लॉन्च होने के ढाई महीने बाद भी जारी गड़बड़ियों के बारे में सरकार और करदाताओं की चिंता व्यक्त की थी।

बाद में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने अपने मुखपत्र 'पाँचजन्य' में सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी इन्फ़ोसिस पर छपे एक लेख से खुद को अलग कर लिया है। उसने कहा है कि लेख में व्यक्त विचार लेखक के हैं, संघ के नहीं। 

लेकिन बात यहीं ख़त्म नहीं हुई। 

corporates scared after attack on infosys, tata group by panchajanya, piyush goel - Satya Hindi
पाँचजन्य

अडिग है 'पाँचजन्य'

बीबीसी के अनुसार, पांचजन्य के संपादक हितेश शंकर ने कहा कि वे अपनी कवर स्टोरी पर कायम हैं।

उन्होंने कहा, "पाँच सितंबर के पाँचजन्य संस्करण पर काफ़ी हंगामा हो रहा है। यह कवर स्टोरी सबको पढ़नी चाहिए।"

उन्होंने ट्वीट किया, "पांचजन्य अपनी रिपोर्ट को लेकर अडिग है। अगर इन्फ़ोसिस को किसी भी तरह की आपत्ति है तो उसे कंपनी के हित में इन तथ्यों की और गहराई से पड़ताल करके मुद्दे का दूसरा पहलू पेश करने के लिए कहना चाहिए।"

हितेश शंकर ने लिखा, "कुछ लोग इस संदर्भ में निजी स्वार्थ के लिए आरएसएस का नाम ले रहे हैं। याद रखिए कि यह रिपोर्ट संघ से सम्बन्धित नहीं है। यह इन्फ़ोसिस के बारे में है। यह तथ्यों और कंपनी की अकुशलता से जुड़ी है।"

टाटा समूह पर विवाद

अब एक नज़र डालते हैं टाटा समूह को लेकर हुए विवाद पर। 

केंद्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय उद्योग परिसंघ यानी (सीआईआई) के सालाना कार्यक्रम में उद्योग जगत पर बेहद तीखा हमला किया और कहा कि उनका कामकाज राष्ट्र हित के ख़िलाफ़ होता है। उन्होंने कहा, 

'वे सिर्फ अपने, अपनी कंपनी और अपने मुनाफ़े के बारे में सोचते हैं, उन्हें देश हित से कोई मतलब नहीं है।'


पीयूष गोयल, वाणिज्य मंत्री

इतना ही नहीं, गोयल ने यह भी कह दिया कि 'राष्ट्रवादी कंपनियाँ विदेशी उत्पाद आयात नहीं करतीं, लेकिन भारतीय कंपनियाँ दस पैसे की लालच में विदेश से सामान खरीद लेती हैं।' 

उनका सबसे तीखा हमला टाटा समूह पर था, जिसका नाम लेकर उन्होंने उस पर हमला किया।

गोयल ने टाटा समूह के ढांचागत संरचना, रक्षा व एअरोस्पेस विभाग के अध्यक्ष का नाम लेकर उन पर हमला बोला। उन्होंने कहा, "मैं, मेरा और मेरी कंपनी-हम सबको इससे बाहर निकलने की ज़रूरत है।"

corporates scared after attack on infosys, tata group by panchajanya, piyush goel - Satya Hindi
पीयूष गोयल, वाणिज्य मंत्री

गोयल ने इसके आगे कहा, "आपकी जैसी कोई कंपनी एक-दो विदेशी कंपनी खरीद ली तो उसका महत्व ज़्यादा हो गया, देश हित कम हो गया?"

परेशान है उद्योग जगत

इन दो घटनाओं से उद्योग व्यापार जगत में परेशानी छाई हुई है, हालांकि ज़्यादातर लोग चुप हैं और कुछ कहने से बच रहे हैं।

मारुति उद्योग के अध्यक्ष आर. सी. भार्गव ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से बात करते हुए इन्फ़ोसिस का बचाव किया और कहा कि उसने सॉफ़्टवेअर के क्षेत्र में भारत को दुनिया में स्थापित किया है। 

उन्होंने कहा,

इन्फ़ोसिस को गड़बड़ियों का जवाब देना चाहिए, पर यह नहीं कहा जा सकता है कि उसने कोई साजिश की है।


आर. सी. भार्गव, अध्यक्ष, मारुति सुज़ुकी

आरएसएस के एक पदाधिकारी ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से बात करते हुए इन्फ़ोसिस पर पलटवार किया है।

 उन्होंने कहा, "कॉरपोरेट जगत से सवाल क्यों नहीं पूछा जाना चाहिए, क्या वे पवित्र गाय हैं?" 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें