loader

आयकर रिटर्न की तारीख़ बढ़ी, अब आप 30 नवंबर तक रिटर्न भर सकते हैं 

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बेहद अहम कदम उठाते हुए आयकर रिटर्न की तारीख़ बढ़ा दी है। यानी, आपको आईटी रिटर्न भरने में अतिरिक्त समय मिलेगा। उस समय तक रिटर्न भरने और उस समय तक आयकर भरने पर आपको किसी तरह का ज़ुर्माना नहीं भरना होगा। 
  • आयकर रिटर्न जमा करने की तारीख़ वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए पहले 31 जुलाई थी।
  • अब आप 30 नवंबर तक आयकर रिटर्न जमा कर सकते हैं।
  • इस पर किसी तरह का ज़ुर्माना नहीं लगेगा।
  • उस समय तक आपको किसी तरह का कोई नोटिस नहीं दिया जाएगा।
  • इस वित्तीय वर्ष के लिए पहले इनकम टैक्स असेसमेंट की तारीख़ 31 सितंबर थी। 
  • इनकम टैक्स असेसमेंट की तारीख़ बढ़ा कर 31 अक्टूबर कर दी गई है।
  • इसका मतलब यह हुआ कि नियोक्ताओं को यह छूट होगी कि वे उस समय तक टैक्स एकत्रित कर सरकार के पास जमा करा दें और उसकी विस्तृत जानकारी सराकर के दे दें। 

करदाताओं को क्या मिला?

यह अहम इसलिए है कि लगभग दो करोड़ आयकर रिटर्न जमा करने वाले लोग इस समय देश में हैं। पूरा वेतनभोगी समुदाय और मध्य वर्ग टैक्स भरता है। उन्हें थोड़ी राहत मिल जाएगी। 
लेकिन सवाल यह है कि इन आयकर दाताओं को क्या कोई वित्तीय फ़ायदा होगा। करदाताओं को पहले जितना कर देना था, वह अब भी देना ही होगा। इस मामले में उन्हें कोई राहत नहीं मिलेगी।

ग़ैर-वेतनभोगी लोगों को राहत

निर्मला सीतारमण ने यह भी कहा कि ग़ैर-वेतनभोगी लोगों को टीडीएस और टीसीएस रेट में 25 प्रतिशत की कटौती का लाभ मिलेगा। यह राहत मार्च 2021 तक मिलती रहेगी।
इसके अलावा सभी चैरिटेबल संस्थानों, सहकारी संस्थाओं, लघु उद्योगों और स्वरोज़गार में लगी संस्थाओं के लिए टैक्स रिफंड जारी करने का आदेश भी दिया गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें