loader

इस साल पूरी दुनिया में सबसे ज़्यादा संपत्ति बढ़ी गौतम अडानी की

इस साल भारतीय उद्योगपति गौतम अडानी की संपत्ति में सबसे ज़्यादा वृद्धि हुई है। इस मामले में उन्होंने एमेज़ॉन के ज़ेफ़ बेजोज़ और टेस्ला के एलन मस्क को भी पीछे छोड़ दिया है। अडानी समूह की जायदाद इस साल 16.2 अरब डॉलर बढ़ कर 50 अरब डॉलर तक पहुँच गई। इसे इससे समझा जा सकता है एक कंपनी को छोड़ कर अडानी समूह की सभी कंपनियों के शेयरों की कीमतें 50 प्रतिशत बढ़ गई हैं।

ब्लूमबर्ग बिलियनेअर्स इनडेक्स में यह जानकारी दी गई है। उसके अनुसार, एशिया के सबसे धनी व्यक्ति मुकेश की संपत्ति में जितने बढ़ोतरी हुई है, उससे अधिक बढ़ोतरी गौतम अडानी की जायदाद में हुई है। इस साल मुकेश अंबानी की संपत्ति में 8.1 अरब डॉलर की वृद्धि दर्ज की गई है।

ख़ास ख़बरें

16 अरब डॉलर बढ़ी संपत्ति 

अडानी समूह ने भारत में बंदरगाह, हवाई अड्डे, डेटा सेंटर और कोयला खदानों में निवेश किया है। समूह को टोटल एसए और वॉनबर्ग पिनसस जैसी कंपनियों से निवेश मिला है।

ब्लूमबर्ग बिलियनेअर्स इनडेक्स के अनुसार अडानी समूह की कंपनियों में अडानी ग्रीन एनर्जी की संपत्ति 18 अरब डॉलर, अडानी पोर्ट्स की 9 अरब डॉलर, अडानी टोटल गैस की 8 अरब डॉलर, अडानी इंटरप्राइजेज की परिसंपत्ति बढ़ कर 8 अरब डॉलर हो गई। इसके अलावा अडानी ट्रांसमिशन की जायदाद 6 अरब डॉलर तो अडाणी पावर की जायदाद 2 अरब डॉलर हो गई है।

अडानी समूह के कामकाज को इससे समझा जा सकता है कि अडानी टोटल गैस की संपत्ति 96 प्रतिशत और अडाणी इंटरप्राइजेज की कीमत 90 प्रतिशत बढ़ गई।

7,300 नए करोड़पति

वित्तीय सेवा कम्पनी क्रेडिट स्वीस ने अक्टूबर 2018 की एक रिपोर्ट में कहा था कि जून 2017 से जून 2018 के बीच देश में अमीरों की संख्या बढ़ी है। इस दौरान 7,300 नए करोड़पति बने हैं। इन करोड़पतियों के पास कुल 444 लाख करोड़ रुपए (6 ट्रिलियन डॉलर) की संपत्ति है। हैरान करने वाली बात यह है कि रुपये में भारी गिरावट के बावजूद भारतीय उद्योगपतियों की सेहत पर कोई फर्क नहीं पड़ा है।

ऑक्सफ़ैम ने जनवरी में कहा था कि कोरोना काल में भारत में जिस समय लगभग 12 करोड़ लोगों की नौकरी चली गई, वहीं देश के सबसे धनी 100 अरबपतियों की संपत्ति में तकरीबन 13 खरब रुपए की वृद्धि हुई।

'द इनइक्वैलिटी वायरस'

अंतरराष्ट्रीय संस्था ऑक्सफ़ैम ने अपनी रिपोर्ट  'द इनइक्वैलिटी वायरस'  में यह जानकारी दी थी।

रिपोर्ट में कहा गया था कि कोरोना वायरस और उस वजह से हुए लॉकडाउन की वजह से जहाँ एक ओर करोड़ों लोगों का रोज़गार गया, वहीं सबसे धनी अरबपतियों की जायदाद 35 प्रतिशत बढ़ गई। इस दौरान भारत के सौ अरबपतियों की संपत्ति में 12.97 खरब रुपए का इज़ाफ़ा हुआ।

रिपोर्ट में कहा गया था कि लॉकडाउन के पहले छह महीने में मुकेश अंबानी को हर घंटे 90 करोड़ रुपए की कमाई हुई। यह जानकारी हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 में सामने आई। इस रिपोर्ट के अनुसार, लगातार 9वें साल मुकेश अंबानी देश के अमीरों में सबसे अव्वल आए हैं।

gautam adani property increased more than jeff bezos,alon musk,mukesh ambani, - Satya Hindi

हुरुन इंडिया और आईआईएफएल वेल्थ मैनेजमेंट लिमिटेड की इस सूची में 1,000 करोड़ रुपए या उससे अधिक की संपत्ति वाले भारत के सबसे धनी लोग शामिल होते हैं। इसमें 828 भारतीय शामिल हैं। यह सूची 31 अगस्त 2020 तक की है।

हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 में मुकेश अंबानी तो पहले स्थान पर थे ही, इनके अलावा हिंदुजा ब्रदर्स दूसरे स्थान पर थे। उनकी नेटवर्थ 1,43,700 करोड़ रुपये है। तीसरे स्थान पर एचसीएल कंपनी की शिव नाडर हैं, जिनकी आमदनी 1,41,700 करोड़ रुपये है। चौथे स्थान पर अडानी समूह की गौतम अडानी का परिवार है। अडानी की आमदनी 1,40,200 करोड़ रुपये बताई गई है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें