loader

सीतारमण : प्रवासी मज़दूरों के लिए केंद्र ने राज्यों को दिए 11 हज़ार करोड़ रुपए

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने नए आर्थिक पैकेज के दूसरे हिस्से का एलान करते हुए दावा कि प्रवासी मज़दूरों पर खर्च करने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने राज्य सरकारों को 11,000 करोड़ रुपए दिए हैं।
उन्होंने दावा किया :
  • स्टेट डिजास्टर रिलीफ़ फंड (एसडीआरएफ़) के पैसे का इस्तेमाल कर प्रवासी मज़दूरों के लिए शेल्टर बनाने के लिए राज्य सरकारों से कहा गया।
  • प्रवासी मज़दूरों को शेल्टर होम में खाना और पानी भी देने को कहा गया है।
  • 15 मार्च, 2020 तक 7,200 नए स्वंय सहायता समूहों (सेल्फ़ हेल्प ग्रुप्स यानी एसएचजी) को आर्थिक मदद दी गई।
  • केंद्र की मदद से इन एसएचजी ने 3 करोड़ मास्क और 1.20 लाख लीटर सैनिटाइज़र बनाए, जिनका इस्तेमाल कोरोना से लड़ने में किया जा रहा है।
  • सरकार ने प्रवासी मज़दूरों की मदद करने के लिए 13 मई तक 14.62 करोड़ कार्य दिवस का सृजन किया।
  • अपने गृह राज्य लौट चुके मजदूरों को अपने गाँव में ही काम मिल सके, इसके लिए ये कार्य दिवस तैयार किए गए।
  • 1.87 लाख ग्राम पंचायतों में 2.33 करोड़ लोगों को रोज़गार दिए गए। 

खाद्यान्न

  • सरकार 5 किलोग्राम गेहूँ और एक किलो चना प्रति व्यक्ति देगी। यह खाद्यान्न अगले दो महीने तक दिया जाएगा। यह उन्हें भी मिलेगा, जिनके पास राशन कार्ड नहीं है।
  • यह केंद्र सरकार देगी, पर राज्य स्तर पर लागू किया जाएगा। यानी, इसे लागू करने की ज़िम्मेदारी राज्यों की होगी।
  • इस योजना से कम से कम 8 करोड़ प्रवासी मज़दूरों को लाभ होगा।
  • इस योजना पर केंद्र सरकार को लगभग 3,500 करोड़ रुपए खर्च करने होंगे। 

आवास

  • केंद्र सरकार प्रवासी मज़दूरों और शहरी ग़रीबों के लिए विशेष आवास योजना शुरू करेगी। 
  • इसके तहत पीएमएवाई (पीमे) योजना के तहत रेन्टल हाउसिंग स्कीम शुरू की जाएगी।
  • पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) के तहत अफर्डबल रेन्टल हाउसिंग कॉमप्लेक्स बनाए जाएंगे। 
  • राज्य सरकारों और केंद्र सरकार के संगठनों को भी इस तरह के परिसर बनाने और उनका रख रखाव करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। 
  • निजी क्षेत्र में मैन्युफैक्चरिंग ईकाइयों, उद्योगों, संस्थानों को इस तरह के आवासीय परिसर बनाने और उनका रखरखाव करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें