loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2023

राजस्थान 199 / 199

कांग्रेस
69
बीजेपी
115
अन्य
15

मध्यप्रदेश 230 / 230

बीजेपी
164
कांग्रेस
65
अन्य
1

छत्तीसगढ़ 90 / 90

कांग्रेस
35
बीजेपी
54
अन्य
1

तेलंगाना 119 / 119

बीआरएस
39
कांग्रेस
64
बीजेपी
8
अन्य
8

चुनाव में दिग्गज

विश्व बैंक ने भारत के विकास के अनुमान को घटाकर 8% क्यों किया?

विश्व बैंक ने बुधवार को भारत के लिए अपने आर्थिक विकास दर के पूर्वानुमानों में कटौती की है। इसने दक्षिण एशियाई क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था भारत के लिए अपने विकास अनुमान को चालू वित्त वर्ष में मार्च 2023 तक के लिए 8.7% से घटाकर 8% कर दिया है। 

बैंक ने कहा है कि भारत में कोरोना महामारी से श्रम बाजार को पूरी तरह उबरने में दिक्कतों और मुद्रास्फीति के दबाव से घरेलू खपत बाधित होगी। बता दें कि इसी हफ्ते जारी आँकड़ों में कहा गया है कि मार्च महीने में खुदरा महंगाई दर 6.95 फ़ीसदी रही है। यह लगातार तीसरा महीना है जब महंगाई दर रिजर्व बैंक द्वारा तय सीमा से ऊपर है। भारतीय रिज़र्व बैंक ने इस महंगाई को 6 प्रतिशत की सीमा के अंदर रखने का लक्ष्य रखा है। यानी मौजूदा महंगाई की दर लगातार तीसरे महीने ख़तरे के निशान के पार है और लगातार बढ़ रही है।

ताज़ा ख़बरें

इसके साथ ही विश्व बैंक ने दक्षिण एशियाई देशों के लिए विकास दर में कटौती की है। इस कटौती के पीछे मुख्य वजह यूक्रेन संकट के कारण बढ़ती महंगाई और आपूर्ति शृंखाल में आ रही बाधाओं को बताया गया है। बैंक ने कहा है कि इसने पूरे दक्षिण एशिया के लिए विकास दर के अनुमान को घटाकर 6.6% कर दिया है।

'रायटर्स' की रिपोर्ट के अनुसार विश्व बैंक के दक्षिण एशिया के उपाध्यक्ष हार्टविग शेफ़र ने एक बयान में कहा, 'यूक्रेन में युद्ध के कारण तेल और खाद्य पदार्थों की ऊंची क़ीमतों का लोगों की वास्तविक आय पर बेहद नकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।'

विश्व बैंक ने जून में समाप्त होने वाले चालू वर्ष के लिए क्षेत्र की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था पाकिस्तान के लिए अपने विकास पूर्वानुमान को 3.4% से बढ़ाकर 4.3% कर दिया और अगले वर्ष के विकास के दृष्टिकोण को 4% पर अपरिवर्तित रखा है।

अर्थतंत्र से और ख़बरें

विश्व बैंक ने जीवाश्म ईंधन के बड़े आयात और रूस और यूक्रेन से पर्यटन आगमन में कमी का हवाला देते हुए मालदीव के लिए इस साल के विकास के अनुमान को 11% से घटाकर 7.6% कर दिया। इसने संकटग्रस्त श्रीलंका के 2022 के विकास के अनुमान को 2.1% से बढ़ाकर 2.4% कर दिया है। 

बहरहाल, भारत की विकास दर को लेकर दूसरी रिपोर्टें भी काफ़ी उत्साहजनक नहीं हैं। फ़रवरी के आख़िर में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय यानी एनएसओ द्वारा जारी राष्ट्रीय आय के दूसरे अग्रिम अनुमानों में कहा गया था कि भारत की जीडीपी चालू वित्त वर्ष में 8.9 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। यह पहले के 9.2 प्रतिशत के अनुमान से काफ़ी कम थी। एनएसओ ने 9.2 फ़ीसदी का यह अनुमान जनवरी में ही जारी किया था। तब तो भारतीय रिज़र्व बैंक ने 9.5 फ़ीसदी का अनुमान लगाया था।

ख़ास ख़बरें

अनुमान घटाए जाने का सबसे बड़ा कारण तो यह है कि अक्टूबर-दिसंबर तिमाही के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर 5.4 फ़ीसदी ही रही है। 

आँकड़ों से पता चलता है कि आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में वृद्धि भी जनवरी में उससे पिछले महीने के 4.1% से घटकर 3.7% हो गई। औद्योगिक उत्पादन सूचकांक में आठ प्रमुख उद्योगों की भागीदारी 40.27% है। चौथी तिमाही के लिए 4.8 प्रतिशत की वृद्धि दर मानकर ही तब इस पूरे वित्त वर्ष के लिए 8.9 प्रतिशत जीडीपी का अनुमान लगाया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
क़मर वहीद नक़वी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें