loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

जम्मू-कश्मीर: आतंकियों के साथ मुठभेड़ में सेना के अधिकारी व 4 जवान शहीद

जम्मू-कश्मीर के पुंछ ज़िले में आतंकवादियों के साथ में मुठभेड़ में सेना के एक अधिकारी और 4 जवान शहीद हो गए। मुठभेड़ तब हुई जब सेना आतंकवाद विरोधी अभियान चला रही थी। इसी दौरान आतंकियों ने गोलीबारी शुरू कर दी और फिर जवानों ने भी जवाबी गोलीबारी की। आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ जारी है।  

रक्षा प्रवक्ता लेफ्टिनेंट कर्नल देवेंद्र आनंद ने संवाददाताओं को बताया कि सेना को आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना मिलने के बाद सोमवार तड़के सुरनकोट में एक गांव में अभियान शुरू किया गया।

ताज़ा ख़बरें

छिपे हुए आतंकवादियों ने तलाशी दलों पर भारी गोलीबारी शुरू कर दी। इस कारण एक जूनियर कमीशंड अधिकारी यानी जेसीओ और चार अन्य सैनिक गंभीर रूप से घायल हो गए। बाद में उनकी मौत हो गई।

अधिकारियों ने कहा कि नियंत्रण रेखा यानी एलओसी के पार से घुसने में कामयाब होने के बाद चमरेर जंगल में भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों के एक समूह की मौजूदगी के बारे में ख़बरें थीं। 

उन्होंने बताया कि आतंकवादियों के भागने के सभी रास्तों को बंद करने के लिए इलाक़े में सुरक्षा बलों को भेजा गया है। ख़बर है कि एक आतंकवादी भी मारा गया है, हालाँकि इसकी अभी तक आधिकारिक तौर पर पुष्टि नहीं हुई है। इससे पहले, एक आतंकवादी अनंतनाग में और दूसरा कश्मीर के बांदीपोरा जिले में मारा गया था।

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

बता दें कि हाल के दिनों में उरी हमले की पाँचवीं बरसी पर 18 सितंबर को जम्मू कश्मीर में सीमा पार से बड़ी घुसपैठ हुई थी। कहा गया कि हाल के वर्षों में आतंकवादियों का यह सबसे बड़ा घुसपैठ का प्रयास है। 2016 में उस दो आत्मघाती हमलों में 19 जवान शहीद हुए थे। उस हमले के बाद भारत ने सीमा पार सर्जिकल स्ट्राइक की थी और कई आतंकवादी ठिकानों को तबाह किया था।

इस साल 18 सितंबर को घुसपैठ करने वाले आतंकवादियों में से एक को पकड़ा गया था। इस पकड़े गए पाकिस्तानी आतंकवादी का सेना ने एक वीडियो जारी किया था। उस वीडियो में आतंकवादी यह कबूल करता सुना जा सकता है कि उसे आतंकवादी संगठन लश्कर ए तैयबा द्वारा प्रशिक्षण दिया गया था। कुल छह आतंकवादियों ने घुसने की कोशिश की थी। सेना द्वारा गोलीबारी किए जाने के बाद 4 वापस पाकिस्तान में चले गए थे जबकि दो भारत में दाखिल हो गए थे। इन दोनों में एक आतंकवादी मारा गया था और एक पकड़ा गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें