loader

जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़, हिज़बुल मुजाहिदीन के 3 आतंकवादी मारे गए

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग ज़िले में सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। इनमें हिज़बुल मुजाहिदीन का स्थानीय कमांडर भी था। इसे सुरक्षा बलों की एक बड़ी जीत माना जाता है। यह आतंकवादी गुट पाकिस्तान से काम करता है। 

दक्षिण कश्मीर के इस आतंकवाद प्रभावित ज़िले के कुलचोहर इलाक़े में हिज़बुल कमांडर मसूद अहमद बट्ट के अलावा दो दूसरे आतंकवादी मारे गए। पुलिस का दावा है कि मसूद और उसके दो साथियों के ख़ात्मे के साथ ही इस ज़िले से आतंकवादियों का सफ़ाया हो गया।
जम्मू-कश्मीर से और खबरें

साझा अभियान

इन आतंकवादियों के ख़ात्मे के लिए सेना, जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ़ ने साझा अभियान चलाया था। मारे गए आतंकवादियों के पास से एक एके-47 राइफ़ल और दो पिस्तौल बरामद किए गए। 
जम्मू-कश्मीर के पुलिस प्रमुख दिलबाग सिंह ने एनडीटीवी से कहा, ‘कुलचोहर में स्थानीय पुलिस और राष्ट्रीय राइफ़ल्स की स्थानीय ईकाई के साझा अभियान में  हिज़बुल मुजाहिदीन का ज़िला कमांडर और उसके दो साथी मारे गए।’ 

उन्होंने कहा कि ‘डोडा पुलिस ने मसूद पर बलात्कार का एक मुक़दमा दर्ज किया था, वह उसी समय से फ़रार था। बाद में वह हिज़बुल मुजाहिदीन में शामिल हो गया और उसने अपनी जगह बदल ली।’ 

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने शनिवार को कहा था कि दक्षिण कश्मीर में 29 विदेशी आतंकवादी सक्रिय हैं। 

'आतंकवादियों का सफ़ाया'

जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कश्मीर क्षेत्र पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर एक ट्वीट में कहा, ‘आज के सफल अभियान के बाद, त्राल क्षेत्र में अब हिज़बुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों की मौजूदगी नहीं है। यह 1989 के बाद पहली बार हुआ है।’
जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद फैलने के बाद वहाँ हिजबुल मुजाहिदीन का दबदबा था। घाटी में इसके कई हजार कैडर सक्रिय थे। बुरहान वानी और ज़ाकिर मूसा समेत संगठन के कई शीर्ष कमांडर त्राल क्षेत्र से थे। वे मारे जा चुके हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें