loader

जैश ने रची थी कश्मीर घाटी को दहलाने की योजना, ख़ुफ़िया एजन्सियों का दावा

जम्मू-कश्मीर में तनाव बढ़ता ही जा रहा है। नागरिक विमानन के महानिदेशक ने तमाम एअरलाइन्स से कहा है कि वे कश्मीर से अतिरिक्त उड़ानों के लिए अपने जहाज़ तैयार रखें। डीजीसीए ने यह फ़ैसला उस ख़ुफ़िया जानकारी के बाद लिया जिसमें कहा गया कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गुट अमरनाथ यात्रा को निशाना बना सकते हैं। 

समझा जाता है कि डीजीसीए ने शुक्रवार रात 8.45 पर श्रीनगर हवाई अड्डे की स्थिति का मुआयना किया। यह पाया गया कि फ़िलहाल अतिरिक्त उड़ानों की ज़रूरत नहीं है। पर यदि ज़रूरत पड़ी तो तुरन्त उड़ानें भरी जा सकें, यह तैयारी रखनी होगी। इंडियन एअरलाइन्स के अलावा इंडिगो और विस्तारा एअरलाइन्स को भी यह निर्देश दिया गया है। 

सम्बंधित खबरें

अलर्ट घोषित

पूरे राज्य में हाई अलर्ट घोषित कर दिया गया है। यह कहा गया है कि दुश्मन के ख़िलाफ़ सबसे ऊँचे स्तर की कार्रवाई की तैयारियाँ कर ली गई हैं। सभी हवाई अड्डों को भी हाई अलर्ट पर रखा गया है। किसी तरह के हमले को रोकने की तैयारी कर ली गई है। नियंत्रण रेखा के पास सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और सुरक्षा बलों को मुस्तैद कर दिया गया है। राज्य के तमाम पुलिस नियंत्रण कक्षों से भी कहा गया है कि वे अलर्ट की स्थिति में रहें और मुस्तैदी बनाए रखें। 
समझा जाता है कि निगरानी रखने के लिए ज़रूरी उपकरण भी दिए गए हैं और इन उपकरणों को महत्वपूर्ण जगहों पर लगा दिया गया है। इन उपकरणों से किसी तरह की घुसपैठ का हमले की पूर्व जानकारी मिल सकती है। 

अतिरिक्त सुरक्षा बलों को किश्तवार, भदरवाह, डोडा, बनिहाल, रामबन में तैनात कर दिया गया है। अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सीमा सुरक्षा बल तैनात हैं। इसके अलावा नियंत्रण रेखा पर रोमियो, डेल्टा और राष्ट्रीय राइफ़ल्स के जवानों को तैनात किया गया है। 

पाक सेना की साजिश

ख़ुफ़िया एजेन्सियों का कहना है कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गुटों ने पाकिस्तानी सेना के साथ मिल कर कश्मीर घाटी में बड़ी आतंकवादी हमले की योजना बनाई थी, जिसकी जानकारी समय रहते मिल गई और उसे नाकाम कर दिया गया। पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गुट जैश-ए-मुहम्मद ने घाटी को दहलाने की योजना बनाई थी। योजना बनाने वाला कोई और नहीं, इसका सरगना मसूद अज़हर था।

उस विमान अपहरण कांड की योजना बनाने वाले इब्राहिम अज़हर ने घाटी में इस बार हमले की योजना बनाई थी। उसका साथ दे रही थी पाकिस्तानी सेना। इब्राहिम अज़हर के चुनिंदा लोगों के साथ थे पाकिस्तान सेना के अफ़सर। पाक सेना ने इन लोगों को मिला कर बनाई थी बोर्डर एक्शन टीम। भारत के अंदर घुस कर हमला करने की ज़िम्मेदारी इस बोर्डर एक्शन टीम को ही दी गई थी। 

इब्राहिम अज़हर भारत से बदला लेना चाहता था। उसका बेटा उस्मान हैदर हमला करने के लिए पिछले साल भारत में घुसा, लेकिन सुरक्षा बलों ने उसे मार गिराया। इससे गुस्साए इब्राहिम अज़हर ने भारत में बड़े हमले की योजना बनाई थी।
इब्राहिम अज़हर ने जैश-ए-मुहम्मद के भारत में रह रहे आतंकवादियों को फ़ोन किया और कहा कि वह अपने बेटे की तरह ही भारतीय सेना से लड़ते हुए मरना चाहता है। इसलिए वह हमला करेगा। लेकिन सुरक्षा एजेन्सियों ने इसके फ़ोन को सुन लिया और इब्राहिम की योजना पर पानी फिर गया। 

लेकिन अभी ख़तरा टला नहीं है। खुफ़िया एजेन्सियों को पता चला है कि लश्कर-ए-तैयबा ने भी भारत में घुस कर हमला करने की योजना बना रखी है। उसकी मंशा 15 अगस्त के ठीक पहले घाटी में कोहराम मचाने की है। सुरक्षा एजेन्सियों का कहना है कि लश्कर के आतंकवादी दक्षिण कश्मीर में बड़ी वारदात करने की फिराक में हैं। वे पुलवामा, शोपियाँ, अनंतनाग, बडगाम, कुलगाम में तैनात सुरक्षा बलों को निशाना बना सकते है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें