loader

‘बीजेपी को कौन लाया’ पर भिड़े उमर-महबूबा, अलग-अलग रखे गए

जम्मू-कश्मीर के दो पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ़्ती आपस में भिड़ गए। भिड़ने की वजह यह थी कि दोनों एक-दूसरे पर इस बात का आरोप लगा रहे थे कि जम्मू-कश्मीर में बीजेपी को कौन लेकर आया। दिलचस्प बात यह है कि दोनों ही नेता अपने-अपने दलों के साथ बीजेपी के साथ मिलकर केंद्र या राज्य में सरकार चला चुके हैं या सरकार में सहयोगी रहे हैं।
बता दें कि अनुच्छेद 370 को हटाये जाने की प्रक्रिया शुरू करने से पहले उमर और महबूबा को पहले नज़रबंद किया गया और बाद में हिरासत में ले लिया गया था। दोनों को ही हरि निवास पैलेस में रखा गया था लेकिन दोनों के बीच बहस बहुत ज़्यादा बढ़ जाने के कारण अब उन्हें अलग रखने का फ़ैसला किया गया है।
ताज़ा ख़बरें
टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक़, एक सरकारी अधिकारी ने बताया कि दोनों एक-दूसरे पर बीजेपी को राज्य में लाने का आरोप लगा रहे थे। एक बार उमर महबूबा पर चिल्लाये भी और उनके पिता मुफ़्ती मोहम्मद सईद पर राज्य में बीजेपी से गठबंधन करने पर तंज कसा। बता दें कि बीजेपी और पीडीपी ने 2015 से 2018 तक राज्य में मिलकर सरकार चलाई थी। ख़बर के मुताबिक़, दोनों नेताओं के बीच जमकर कहासुनी हुई जिसे हरि निवास पैलेस के स्टाफ़ ने भी सुना। हरि निवास पैलेस एक सरकारी गेस्ट हाउस है और यहाँ अक़सर आतंकवादियों से पूछताछ की जाती है।
जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें
अधिकारी ने कहा, उमर की टिप्पणी पर पीडीपी की प्रमुख महबूबा ने उमर को याद दिलाया कि उनके पिता फ़ारुक़ अब्दुल्ला ने केंद्र में बीजेपी के नेतृत्व वाली अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार के साथ गठबंधन किया था। महबूबा ने उमर पर चिल्लाते हुए कहा कि वह वाजपेयी सरकार में जूनियर विदेश मंत्री थे। महबूबा ने उमर के दादा शेख़ अब्दुल्ला को जम्मू-कश्मीर के भारत में विलय के लिए ज़िम्मेदार ठहराया। 
अधिकारी ने बताया कि, उमर को महादेव पहाड़ी के पास चेश्माशाही में वन विभाग के भवन में रखा गया है जबकि महबूबा हरि निवास पैलेस में ही हैं। इससे पहले उमर को हरि निवास के ग्राउंड फ़्लोर पर जबकि महबूबा को फ़र्स्ट फ़्लोर पर रखा गया था। टीओआई के मुताबिक़, अधिकारी ने कहा कि दोनों पूर्व मुख्यमंत्रियों को राज्य के प्रमुख राजनीतिक दलों के 100 कार्यकर्ताओं के साथ अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के संबंध में संसद में प्रस्ताव रखे जाने के साथ ही हिरासत में ले लिया गया था। दोनों ही नेताओं को जेल के नियमों और उनके ओहदों के हिसाब से खाना दिया जा रहा है। प्रोटोकॉल से जुड़े एक अधिकारी ने बताया कि महबूबा ने ब्राउन ब्रेड खाने की इच्छा जाहिर की थी लेकिन जेल के मेन्यू में यह न होने के कारण उन्हें यह नहीं दी गई।
संबंधित ख़बरें
बता दें कि राज्य से अनुच्छेद 370 को हटाये जाने को लेकर कश्मीर में उथल-पुथल का माहौल है। केंद्र सरकार ने बड़ी संख्या में राज्य में सुरक्षा बलों की तैनाती की है। ख़ुफ़िया सूत्रों के मुताबिक़, अनुच्छेद 370 को हटाये जाने के बाद से ही पाकिस्तान में बैठे आतंकवादी संगठन बौखला गए हैं और कश्मीर में आतंकवादी हमला करने की फिराक में हैं। पाकिस्तान की ख़ुफ़िया एजेंसी आईएसआई ने इस हमले की ज़िम्मेदारी आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद को दी है और उसके 7 आतंकवादियों के एक दस्ते ने कश्मीर में घुसपैठ की है। इसे लेकर सुरक्षा बल पूरी तरह अलर्ट हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें