loader

जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़, हिज़बुल कमान्डर समेत दो आतंकवादी मारे गए

जम्मू-कश्मीर में मंगलवार को सुरक्षा बलों के साथ हुई मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए। इनमें से एक पाकिस्तान-स्थित आतंकवादी गुट हिज़बुल मुजाहिदीन का भारत का सरगना था। 

हिज़बुल कमान्डर

श्रीनगर के नवाकदल में हुई इस मुठभेड़ में हिज़बुल का जुनैद सहराई मारा गया। वह भारत में हिज़बुल मुजाहिदीन प्रमुख रियाज़ नायकू के बाद उस गुट का सबसे बड़ा आतंकवादी था। सुरक्षा बल के लोग लंबे समय से उसकी तलाश कर रहे थे। 

जम्मू-कश्मीर के पुलिस उप महानिदेशक दिलबाग सिंह ने एनडीटीवी से कहा,  ‘कल रात चली कार्रवाई में दो आतंकवादी मारे गए। उनकी पहचान श्रीनगर के ज़ुैनद अशरफ़ ख़ान (ज़ुनैद सहराई) और पुलवामा के तारिक अहमद शेख के रूप में की गई है। पुलिस कई मामलों में उसकी तलाश कर रही थी।’ 

कौन था ज़ुनैद?

श्रीनगर में अक्टूबर, 2018, के बाद की यह पहली मुठभेड़ है। उस मुठभेड़ में पाकिस्तान-स्थित आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के दो लोग मारे गए थे। उसमें लश्कर का कमांडर मेहराजउद्दीन बांगडू भी शामिल था। उसके अलावा एक नागरिक भी मारा गया था। 
ज़ुनैद दो साल पहले हिज़बुल में शामिल हुआ था। वह श्रीनगर के बगहत बरज़ला का रहने वाला था। वह अलगाववादी संगठन तहरीक-ए-हुर्रियत के नेता मुहम्मद अशरफ़ सहराई का बेटा था। 

संयुक्त कार्रवाई

जम्मू-कश्मीर पुलिस और सीआरपीएफ़ ने सोमवार को इन आतंकवादियों के ख़िलाफ़ साझा अभियान चलाया था। उसके ठिकाने का पता लगा कर संयुक्त कार्रवाई की गई, उस ठिकाने के पास पहुँचने के बाद आतंकवादियों ने ही पहले गोलीबारी की। थोड़ी देर बाद गोलीबारी थम गई। 

आतंकवादियों ने सुबह फिर गोलीबारी शुरू की, जिसके जवाब में सुरक्षा बलों ने फ़ायरिंग की। उसके बाद सुरक्षा बलों ने भारी गोलाबारी कर उस घर को उड़ा दिया। इसमें दोनों आतंकवादी मारे गए। इस कार्रवाई में सुरक्षा बलों के दो जवान घायल हुए। 

इस मुठभेड़ की भी खूबी यह रही कि इसमें मारे गए दोनों आतंकवादी स्थानीय नागरिक थे। एक श्रीनगर तो दूसरा पुलवामा का रहने वाला था।
बीते कुछ समय से पाकिस्तान की यह कोशिश रही है कि वह अपने लोगों को भेजने के बजाय स्थानीय स्तर पर ही लोगों की भर्ती कर पाकिस्तान में आतंकवादी प्रशिक्षण देकर वापस भेज दे। इससे पाकिस्तान का नाम खुल कर सामने नहीं आएगा। यह कहा जा सकेगा कि यह स्थानीय प्रतिरोध है। पुलवामा में सीआरपीएफ़ के काफ़िले पर एक स्थानीय युवक ने ही हमला किया था।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें