loader

कश्मीर में ख़त्म हो रही है बंदी? सोमवार को चालू होंगे मोबाइल

कश्मीर में बंदी या लॉकडाउन खत्म करने की लगातार अपील और दबाव के बीच सरकार इस दिशा में महत्वपूर्ण कदम उठाने जा रही है। प्रशासन ने कहा है कि सोमवार दोपहर से सभी पोस्टपेड मोबाइल सेवाएँ बहाल कर दी जाएंगी। राज्य के सभी  10 ज़िलों में ऐसा किया जाएगा। 
सरकार ने पूरे राज्य में लैंडलाइन टेलीफ़ोन सेवाएँ पिछले महीने ही बहाल कर दी थीं। ये सभी लाइनें सरकारी कंपनी बीएसएनएल चलाती है। ज़्यादातर टेलीफ़ोन लाइनें लोगों के घरों और सरकारी दफ़्तरों में हैं। 
केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को संसद के दोनों सदनों से प्रस्ताव पारित करवा कर अनुच्छेद 370 में बदलाव किया और जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष दर्जा ख़त्म कर दिया। इसके ठीक पहले वहाँ बड़े पैमाने पर सुरक्षा बलों को तैनात किया गया। इसके बाद कर्फ़्यू लगा दिया गया, धारा 144 लगा दी गई, इंटरनेट कनेक्शन काट दिए गए, सभी लैंडलाइन और मोबाइल टेलीफ़ोन सेवाएं बंद कर दी गईं। इसे ही बंदी यानी लॉकडाउन कहा गया। 
कई विदेशी सरकारों, अंतरराष्ट्रीय संगठनों और दूसरे लोगों ने भारत से अपील की थी कि कश्मीर में दूरसंचार सेवाएँ बहाल की जाएँ और राज्य की स्थिति सामान्य की जाए। अमेरिका और यूरोप के कई देशों ने भारत पर दबाव भी डाला था। इसी तरह संयुक्त राष्ट्र के महासचिव अंतोनियो गुटरेस ने भी भारत से कश्मीर की स्थिति सामान्य करने की अपील की थी।
सरकार का तर्क था कि अलगाववादियों और आतंकवादियों के आपसी संपर्क को रोकने के लिए इंटरनेट और टेलीफ़ोन सेवाएँ काटना ज़रूरी था। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने बेल्जियम से छपने वाले एक अख़बार से कहा था: 

कश्मीर के लोगों को प्रभावित किए बग़ैर उग्रवादियों के बीच के संपर्क को काटना मुमकिन नहीं था। हम आतंकवादियों और उनके आकाओं के बीच का संपर्क काट दें लेकिन लोगों के बीच का इंटरनेट रहने दें, यह कैसे मुमिकन है, मैं यह जानना चाहता हूँ।


एस. जयशंकर, विदेश मंत्री

कुछ दिन पहले केरल हाई कोर्ट ने एक महत्वपूर्ण फ़ैसले में कहा था कि इंटरनेट कनेक्शन लोगों का मौलिक अधिकार है। इसके बाद सरकार पर दबाव पड़ा था कि वह टेलीफ़ोन और इंटरनेट सेवाए बहाल कर दे। 
लेकिन जम्मू-कश्मीर में स्थिति सामान्य हो गई है, यह कहना जल्दबाजी होगी। ज़्यादातर इलाक़ों में अभी भी दुकानें बंद हैं, सड़कें सुनसान हैं, लोगों की आवाजाही बहुत ही कम है। मोबाइल फ़ोन शुरू होने से लोग एक दूसरे से संपर्क तो कर ही सकेंगे, उनके बीच विश्वास लौटेगा और उन्हें लगेगा कि अब राज्य में स्थिति सामान्य होने जा रही है। इससे स्थिति सामान्य होने में मदद मिलेगी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें