loader

सरकार के लिए हर कश्मीरी की जान क़ीमती: सत्यपाल मलिक 

जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा है कि सरकार के लिए हर कश्मीरी की जान क़ीमती है और हम एक भी व्यक्ति की जान नहीं जाने देना चाहते। मलिक ने दावा किया कि राज्य में किसी भी नागरिक की मौत नहीं हुई है। मलिक ने कहा है कि अनुच्छेद 370 को हटाया जाना बेहद ज़रूरी था और पूरे राज्य में कहीं भी क़ानून व्यवस्था की समस्या नहीं है।
राज्यपाल मलिक ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा कि राज्य के लोगों को जो भी असुविधा हो रही है वह अस्थायी है और आने वाले दिनों में राज्य में काफ़ी विकास कार्य होंगे। मलिक ने कहा कि कुपवाड़ा और हंदवाड़ा जिलों में टेलीफ़ोन सेवाओं को खोला जा रहा है और जल्द ही हम अन्य जिलों में भी इसे खोल देंगे।
ताज़ा ख़बरें

मलिक ने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाने का फ़ैसला जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के बेहतर भविष्य के लिए, उनकी तरक्की के लिए लिया गया है। राज्यपाल ने कहा, ‘जम्मू-कश्मीर के लोग पूरे देश से पीछे छूट रहे थे और यहाँ निवेश नहीं आ रहा था। अब हमारा उद्देश्य है कि हम यहाँ इतना काम करें कि लोगों को यह दिखाई देने लगे कि यह निर्णय उनके फ़ायदे के लिए लिया गया है। 

केंद्र सरकार के सारे मंत्रालयों की बैठकें चल रही हैं और हम राज्य में क्या-क्या काम कर सकते हैं, इस पर बात चल रही है।’

मलिक ने कहा कि हमने जम्मू-कश्मीर प्रशासन में 50 हज़ार नौकरियों की घोषणा की है और हम युवाओं से अपील करते हैं कि पूरे जोश के साथ इसमें शामिल हों। उन्होंने कहा कि हम आने वाले 2 से 3 महीनों में इन नौकरियों को भरेंगे।

मलिक ने कहा, ‘आतंकवादी इंटरनेट और मोबाइल का इस्तेमाल झूठ फैलाने के लिए करते हैं। हम कुछ समय बाद इन्हें फिर से चालू करेंगे लेकिन अभी कुछ समय के लिए लोगों को इस प्रतिबंध को बर्दाश्त करना होगा।’ राज्यपाल ने कहा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में आने वाले छह महीने में ख़ूब विकास कार्य कराये जायेंगे और हम इतना काम करेंगे कि पाक अधिकृत कश्मीर के लोग भी ऐसा विकास करने की अपील करेंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें