loader

लॉकडाउन में शराब नहीं मिली, ख़ुदकुशी कर ली

केरल में लॉकडाउन की वजह से शराब न मिल पाने से पाँच लोगों की ख़ुदकुशी करने की ख़बर फैलने से खलबली मची हुई है। शराब के आदी लोगों को नशा न मिलने से होने वाली दिक्क़तों की बात खुल कर सामने आई है।

इसके अलावा केरल के मल्लापुरम ज़िले में शनिवार को दो लोगों के आत्महत्या करने की कोशिशों की भी बात सामने आई। समझा जाता है कि ये वे मामले हैं, जिनमें लोगों को शराब की लत बहुत पहले से है। 
केरल से और खबरें
नशा न मिलने से होने वाले विदड्रॉल सिंड्रम को ये लोग नहीं झेल पाने से अवसाद में चले गए, अवसाद बढ़ने पर उन्होंने ख़ुदकुशी कर ली या ऐसा करने की कोशिश की।

क्या किया राज्य सरकार ने?

केरल सरकार ने ऐसे मामले रोकने और इन लोगों के इलाज की कोशिशें शुरू कर दी हैं। स्वास्थ्य मंत्री के. के. शैलजा ने कहा है कि राज्य के सभी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और परिवार स्वास्थ्य केंद्रों से कहा गया है कि वे शराब के नशे के आदी लोगों के इलाज का इंतजाम करें।
यहां मनोचिकित्सकों को भी तैनात किया गया है ताकि ऐसे लोगों को सही सलाह और मार्ग निर्देशन दिया जा सके। 
केरल सरकार ने शराब के नशे के आदी लोगों का इलाज करने के लिए हर ज़िले के मुख्य अस्पताल में 20 बिस्तरों वाले अलग विभाग का इंतजाम करने को कहा है।
 प्राथमिक अस्पतालों में जिनका इलाज नहीं हो सकेगा, उन्हें तालुका और ज़िला अस्पताल भेजा जाएगा। केरल में लॉकडाउन की वजह से पूरे राज्य में नशाबंदी की स्थिति हो गई है।

नशा मुक्ति केंद्र

राज्य के नशामुक्ति कार्यक्रम के प्रमुख डी राजीव ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा, 'हमने अल्कोहल के आदी लोगों को टेली-कॉन्फ्रेंसिंग से सलाह देने के लिए तीन केंद्र खोले हैं।' उन्होंने कहा :

'हमने 100 लोगों को गंभीर मानसिक स्थिति में पाया, जिन्हें तुरन्त चिकित्सा की ज़रूरत थी। हम उम्मीद करते हैं कि ज़िला स्तर पर ग़ैर सरकारी और निजी क्षेत्र के लोग भी इस काम में मदद देने क के लिए आगे आएं।'


डी राजीव, नशामुक्ति कार्यक्रम के प्रमुख, केरल

नशा मुक्ति सलाह केंद्र पर एक सलाहकार ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा कि शराब नहीं मिलने की स्थिति में कई लोगों में विदड्रॉल सिंड्रम देखा गया। उनमें डिहाइड्रेशन, कंपकंपाहट, पसीना निकलने और दूसरे कई तरह की दिक्क़तें देखी गईं। ऐसे लोग अवसाद में जा सकते हैं। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें