loader

केरल हाई कोर्ट ने दी समलैंगिक जोड़े को साथ रहने की इजाजत

केरल हाई कोर्ट ने मंगलवार को दिए एक अहम फैसले में समलैंगिक जोड़े को साथ रहने की इजाजत दे दी। हाई कोर्ट ने यह आदेश आदिला नसरीन की ओर से दायर याचिका पर दिया। यह जोड़ा आदिला नसरीन और नूरा फातिमा का है। इस समलैंगिक जोड़े को इनके माता-पिता ने एक दूसरे से अलग कर दिया था।

आदिला केरल के अलुवा की जबकि नूरा कोझीकोड की रहने वाली हैं। दोनों ही 19 मई को अपने-अपने घर छोड़कर निकल गई थी और उन्होंने एक एनजीओ के शिविर में शरण ली थी। जब नूरा के परिवार वाले वहां पहुंचे और हंगामा हुआ तो पुलिस भी वहां पहुंची। 

ताज़ा ख़बरें

इस समलैंगिक जोड़े ने अपने परिजनों के साथ जाने से मना कर दिया। लेकिन आदिला के माता-पिता एनजीओ से बातचीत कर दोनों को वहां से ले गए। 23 मई को आदिला ने पुलिस में शिकायत दी कि नूरा के माता-पिता उसे अपने साथ ले गए हैं।

आदिला ने हाई कोर्ट में याचिका दायर कर कहा कि पुलिस इस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है। हालांकि पुलिस का कहना था कि वह लगातार इस मामले में अपना काम कर रही है। आदिला ने इस संबंध में सोशल मीडिया पर भी अपनी बात को रखा था। आदिला ने अपनी याचिका में कहा था कि वह और उसकी पार्टनर फातिमा नूरा को उनके परिवारों ने शारीरिक और मानसिक रूप से सताया है और कुछ दिन पहले नूरा का उसके परिवार वालों ने अपहरण कर लिया।

आदिला के वकील ने अदालत से कहा था कि अपहरण के बाद नूरा का कहीं पता नहीं चल सका है। हाई कोर्ट ने याचिका पर विचार करते हुए पुलिस को आदेश दिया कि वह नूरा को अदालत के सामने लेकर आए। इसके साथ ही आदिला को भी अदालत में पेश होने के लिए कहा गया। 

जस्टिस विनोद के. चंद्रन की डिवीजन बेंच ने अपने फैसले में कहा कि वयस्क लोगों के एक साथ रहने पर कोई रोक नहीं है।

स्कूल के दिनों से हैं साथ 

22 साल की आदिला और 23 साल की नूरा तब से साथ हैं, जब वे सऊदी अरब में स्कूल में साथ पढ़ती थीं। जब वे सऊदी अरब से भारत लौटीं और यहां उन्होंने कॉलेज में दाखिला लिया, उसके बाद वे फिर से रिलेशनशिप में रहने लगीं। लेकिन उनके माता-पिता ने उनके इस रिश्ते का लगातार विरोध किया।

ग्रेजुएशन के बाद दोनों ने फैसला किया कि वे साथ ही रहेंगी लेकिन परिजन इसका विरोध करते रहे।

एलजीबीटी समुदाय का मिला साथ

हाई कोर्ट के फैसले के बाद नूरा ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि अब वह बेहद राहत महसूस कर रही हैं। जबकि आदिला ने कहा कि उन्हें एलजीबीटी समुदाय की ओर से इस मामले में काफी साथ मिला और उनके सहयोग और हाई कोर्ट के आदेश की वजह से ही अब वे लोग आजाद हैं।

आदिला ने कहा कि लेकिन अभी भी वे पूरी तरह आजाद नहीं हैं क्योंकि उनके परिवार विशेषकर नूरा के परिवार वाले उन्हें लगातार धमकियां दे रहे हैं।

kerala hc on lesbian couple adhila nasrin and fathima noora case - Satya Hindi

अदालत ने की थी टिप्पणी 

LGBTQIA+ समुदाय के हक़ों की हिफ़ाजत के संदर्भ में मद्रास हाई कोर्ट ने बीते साल कई अहम टिप्पणियां की थी। कोर्ट ने कहा था कि ऐसे डॉक्टर्स जो इस बात का दावा करते हों कि वे समलैंगिकता का इलाज करते हैं, उनके लाइसेंस रद्द कर दिए जाने चाहिए। 

जस्टिस वेंकटेश ने कहा था कि LGBTQIA+ समुदाय के लोगों को उनकी निजता का और सम्मान के साथ अपना जीवन जीने का पूरा हक़ है, इसके तहत उनका सेक्सुअल ओरियंटेशन, लिंग की पहचान और उसकी अभिव्यक्ति सहित अपने पार्टनर को चुनने की इच्छा शामिल है और संविधान के अनुच्छेद 21 के तहत इसे पूरी तरह से संवैधानिक सुरक्षा हासिल है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें