loader
फ़ोटो साभार: इंस्टाग्राम/आयशा सुल्ताना

आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह के बाद कोविड प्रोटोकॉल उल्लंघन का आरोप

लक्षद्वीप प्रशासन ने फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का मुक़दमा करने के बाद अब कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन का आरोप लगाया है। प्रशासन ने कहा है कि क़ानूनी बाध्यताओं और क़ानून के प्रति उनका कोई सम्मान नहीं है। यह आरोप भी राजद्रोह के मुक़दमे से जुड़ा है। कोरोना प्रोटोकॉल के उल्लंघन का आरोप भी अजीब है। आरोप है कि पूछताछ से पहले वह जिस गाड़ी से आई थीं उसमें उनके साथ और लोग थे, पूछताछ के बाद मीडिया से रूबरू हुईं, आदि। 

आरोप है कि सात जून को एक मलयालम समाचार चैनल द्वारा प्रसारित बहस में हिस्सा लेते हुए सुल्ताना ने कहा था कि केंद्र सरकार ने लक्षद्वीप के लोगों के ख़िलाफ़ जैविक हथियारों का प्रयोग किया है। उनके ख़िलाफ़ बीजेपी के नेता ने शिकायत की थी। राजद्रोह का आरोप लगने के बाद केरल उच्च न्यायालय ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका पर आदेश सुरक्षित रखते हुए उन्हें एक हफ्ते के लिए अंतरिम ज़मानत दी। इसी मामले में लक्षद्वीप प्रशासन ने अदालत में एक आवेदन दिया है।

ताज़ा ख़बरें

इस आवेदन के माध्यम से प्रशासन कोर्ट द्वारा दी गई अंतरिम ज़मानत के मामले को कमज़ोर करना चाहता है। अदालत ने आयशा सुल्ताना को ज़मानत देते हुए आदेश दिया था कि वह नोटिस में दी गई हिदायतों का पालन करें। 

लाइव लॉ की रिपोर्ट के अनुसार, प्रशासन का अब तर्क है कि आरोपी सुल्ताना 19 जून 2021 को कवारत्ती द्वीप में जाँच अधिकारी के सामने पेश हुआ। आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा जारी किए गए कोविड प्रोटोकॉल के अनुसार, उसे पूछताछ के अलावा अनिवार्य होम क्वारंटाइन की सलाह दी गई थी। हालाँकि आरोपी उक्त प्रोटोकॉल का पालन करने के लिए सहमत हो गयी थी, यह बताया गया है कि आने के अगले ही दिन वह कुछ अन्य लोगों के साथ एक वाहन में पूछताछ के लिए पुलिस स्टेशन गई थी। इसके अलावा आवेदन में आरोप लगाया गया है कि पूछताछ के बाद वह लोगों और मीडिया के साथ घुलमिल गई।

यह भी उल्लेख किया गया कि आरोपी ने पंचायत कार्यालय का दौरा किया और वह अपने आवास पर लौटने से पहले अन्य व्यक्तियों के साथ चर्चा में लगी रहीं। इसके अलावा, उन पर 21 जून को एक आइसोलेशन सेंटर में कोविड पॉजिटिव मरीजों से मिलने का भी आरोप है।

इसी को लेकर लक्षद्वीप प्रशासन ने अदालत से कहा है कि आरोपी का लक्षद्वीप में यह रवैया कोरोना प्रोटोकॉल का उल्लंघन है। उन पर यह भी आरोप लगाया गया है कि आयशा सुल्ताना ने पूछताछ करने वाले अधिकारियों की ज़िंदगी भी ख़तरे में डाल दी।

इन तर्कों के साथ लक्षद्वीप प्रशासन ने यह सिद्ध करने की कोशिश की है कि अंतरिम ज़मानत मिलने का उन्होंने ग़लत फ़ायदा उठाया है। इसने अदालत से यह भी कहा है कि सुल्ताना की ज़मानत पर फ़ैसला होने से पहले यह ध्यान में रखा जाना चाहिए। 

केरल से और ख़बरें

बता दें कि राजद्रोह के आरोपों का सामना कर रहीं आयशा सुल्ताना से पुलिस ने गुरुवार को पूछताछ की। बीजेपी के एक नेता की शिकायत के आधार पर दर्ज मामले के सिलसिले में कवारत्ती पुलिस ने रविवार और बुधवार को भी पूछताछ की थी। कवारत्ती थाने में क़रीब तीन घंटे की पूछताछ के बाद बाहर निकलीं सुल्ताना ने कहा कि मुझे कहा गया कि मैं कोच्चि जा सकती हूँ। 

इससे पहले बुधवार को क़रीब आठ घंटे की पूछताछ के बाद सुल्ताना ने कहा था कि पुलिस ने उनसे पूछा कि क्या विदेशों में भी उनके संपर्क सूत्र हैं। उन्होंने कहा था कि जाँच अधिकारियों ने उनके वाट्सऐप, इंस्टाग्राम और फ़ेसबुक खातों की जाँच की थी। उन्होंने कहा था कि वे तलाश कर रहे थे कि क्या विदेशों में भी मेरे संपर्क हैं। आयशा सुल्ताना सामाजिक कार्यकर्ता भी हैं और फ़िलहाल लक्षद्वीप प्रशासन के ख़िलाफ़ चल रहे प्रदर्शनों का वह समर्थन करती हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें