loader

बुकर की शॉर्ट लिस्ट में आए 'रेत समाधि' की हिंदी लेखिका कौन हैं?

कुछ दिन पहले जब बुकर की लांग लिस्ट आई तो उसमें पहली किसी हिंदी लेखक का उपन्यास नज़र आया। पता चला कि गीतांजलि श्री के उपन्यास 'रेत समाधि' का अंग्रेज़ी अनुवाद Tomb of Sand बुकर लांग लिस्ट के लिए चुनी गई 13 कृतियों में शामिल है। अचानक बहुत सारे लोग पूछने लगे कि यह गीतांजलि श्री कौन हैं?

बेशक, इस सवाल में भी हिंदी समाज और साहित्य दोनों की एक विडंबना झांकती है। दोनों को एक-दूसरे के जितने करीब होना चाहिए, उतने वे नहीं हैं।

ताज़ा ख़बरें

बहरहाल, गीतांजलि श्री पर लौटें। वे हिंदी की दुनिया की जानी-मानी कथाकार और उपन्यासकार हैं। उनका पहला उपन्यास 'माई' था। दूसरा उपन्यास 'हमारा शहर उस बरस' नब्बे के दशक में आया था। वह सांप्रदायिकता पर केंद्रित हमारे समय के सबसे संजीदा उपन्यासों में एक है। उसके कुछ साल बाद उनका तीसरा उपन्यास 'तिरोहित' आया। 

यह किसी लेखिका द्वारा लिखा गया हिंदी में स्त्री समलैंगिकता पर संभवत: पहला उपन्यास होगा। लेकिन यह उपन्यास दरअसल बहुत सूक्ष्मता से तीन किरदारों के आपसी रिश्तों की बात करता है। उसे किसी सनसनीख़ेज़ दृष्टि से पढ़ने की कोशिश करना ख़ुद को मायूस करना होगा, क्योंकि यह पूरा उपन्यास इस गझिनता से बुना हुआ है कि इसके भीतर बहुत सावधानी से ही दाख़िल हुआ जा सकता है। उनका चौथा उपन्यास 'ख़ाली जगह' था और अब कुछ बरस पहले 'रेत समाधि' प्रकाशित हुआ है।

गीतांजलि श्री ने एक दौर में कहानियाँ भी लिखी हैं और 'वैराग्य' और 'यहां हाथी रहते थे' जैसे उनके कहानी संग्रहों में कई मार्मिक-मनोवैज्ञानिक कहानियां हैं। गीतांजलि श्री दरअसल एक जटिल कथाकार हैं जो बाहर और भीतर की दुनिया को एक साथ साधती हैं। 

साहित्य से और ख़बरें

अगर आप उनके लेखन में रोमांचक तत्व खोजने की कोशिश करेंगे, मनबहलाव वाली कोई कहानी चाहेंगे, एक तेज़ रफ़्तार सिलसिला चाहेंगे तो निराश होंगे। लेकिन अगर आपको गहरी और संवेदनशील यात्रा पर निकलना है, अगर आपको बाहर के शोर और भीतर के सन्नाटे के बीच बनती-टूटती परतों को पहचानना है, अगर आपको बदलावों और ठहरावों को बारीकी से समझना है, तो उनका लेखन शायद आपकी मदद कर सकता है।

गीतांजलि श्री के पति सुधीरचंद्र जाने-माने इतिहासकार हैं- ख़ास कर गांधी दृष्टि को लेकर उनका काम उल्लेखनीय है। इन दिनों यह संवेदनशील-बौद्धिक परिवार गुड़गांव में रहता है। वैसे उनका घर दिल्ली में भी है। हालांकि इस लेखक को सुधीरचंद्र ने पिछले दिनों एक लंबे इंटरव्यू में कहा था कि दुनिया में उनके कई ठिकाने हैं- मैनपुरी से लेकर पेरिस तक- और वे खुद को उन्नीसवीं सदी का निवासी मानते हैं, बीसवीं सदी के प्रवासी हैं।

ख़ास ख़बरें

खुद गीतांजलि श्री अपने समय की चौकस प्रहरी हैं- ऊपरी और स्थूल रूपाकारों के भीतर झांककर उनके बेडौल सिरों को पहचानने का कौशल उन्होंने अपनी दृष्टि से अर्जित किया है और अपनी भाषा से साधा है। हम बस शुभकामना दे सकते हैं कि 26 मई को बुकर सम्मान घोषित हो तो उनके लिए हो। लेकिन अगर न भी हो तो वे हमारे समय की बड़ी और संवेदनशील लेखिका हैं। लेखक पुरस्कारों से नहीं, अपनी कृतियों से बड़े होते हैं- पुरस्कार बस उन्हें पहचान के नए इलाक़ों में ले जाने का ज़रिया हो पाते हैं।

(एनडीटीवी से साभार)
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रियदर्शन
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें