loader

अमेठी के साथ केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ेंगे राहुल गाँधी

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी अमेठी के साथ-साथ केरल की वायनाड लोकसभा सीट से भी चुनाव लड़ेंगे। वरिष्ठ कांग्रेस नेता एके एंटनी और मीडिया विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस में इसकी घोषणा की। बता दें कि कुछ दिन पहले केरल कांग्रेस के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने दावा किया था कि राहुल गाँधी केरल की वायनाड सीट से चुनाव मैदान में उतरेंगे। एआईसीसी महासचिव ओमन चांडी ने भी कहा था कि केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने राहुल गाँधी से वायनाड से चुनाव लड़ने का आग्रह किया है। 

चुनाव 2019 से और ख़बरें

बता दें कि इस बात को लेकर लंबे समय से चर्चा थी कि कांग्रेस अध्यक्ष दक्षिण की किसी सीट से चुनाव लड़ सकते हैं। ख़बरों के मुताबिक़, कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल के नेताओं की ओर से इस बात का प्रस्ताव दिया गया था कि राहुल अमेठी के अलावा दक्षिण की भी किसी सीट से चुनाव मैदान में उतरें। 

ताज़ा ख़बरें

2008 में लोकसभा सीटों का परिसीमन होने के बाद वायनाड लोकसभा सीट अस्तित्व में आई थी। यह सीट कन्नूर, मलाप्पुरम और वायनाड संसदीय सीटों से निकलकर बनी है। कांग्रेस नेता एमएल शाहनवाज दो बार इस सीट से जीत हासिल कर चुके हैं लेकिन छह महीने पहले उनका निधन हो गया था। 

संबंधित ख़बरें

केरल युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष टी. सिद्दीकी का नाम पहले इस सीट पर पार्टी उम्मीदवार के तौर पर सामने आ रहा था, लेकिन राहुल गाँधी के नाम की चर्चा आने पर सिद्दीकी ने नाम वापसी का एलान किया था। सिद्दीकी ने कहा था कि अगर राहुल गाँधी इस सीट से चुनाव लड़ते हैं तो यह उनके और राज्य के लिए सम्मान की बात होगी। 

तमिलनाडु कांग्रेस के अध्यक्ष केएस अलागिरी ने भी कुछ दिन पहले कहा था कि अगर राहुल दक्षिण से चुनाव लड़ते हैं तो वह दक्षिण और उत्तर भारत को जोड़ने वाले नेता साबित होंगे।

बता दें कि राहुल की दादी और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी चिकमंगलुरू से तथा माँ सोनिया गाँधी बेल्लारी से लोकसभा के लिए चुनी जा चुकी हैं। 

इंदिरा गांधी ने 1978 के उपचुनाव में चिकमंगलुरू से जीत हासिल की थी तो सोनिया गाँधी ने 1999 के लोकसभा चुनाव में बेल्लारी सीट से बीजेपी की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज को हराया था।
बीते लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वाराणसी और वड़ोदरा से चुनाव लड़ा था। माना जा रहा है कि कांग्रेस भी उसी रणनीति पर काम कर रही है। राहुल गाँधी 2004 से लगातार तीन बार अमेठी लोकसभा क्षेत्र से सांसद चुने जा चुके हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें