loader

आख़िरी तीन चरणों में संघ ने बीजेपी के लिए झोंकी पूरी ताक़त

लोकसभा चुनाव के चार चरणों में कुल 543 में से 374 सीटों पर मतदान हो चुका है। बाक़ी बचे तीन चरणों में 169 सीटों पर मतदान होना है। केंद्र में मोदी सरकार की वापसी के लिहाज़ से ये 169 सीटें बेहद महत्वपूर्ण हैं। इनमें से एनडीए ने पिछले लोकसभा चुनाव में 127 सीटें जीती थीं और बीजेपी ने अकेले दम पर 116 सीटों पर जीत दर्ज की थी। अगर बीजेपी अपने सहयोगी दलों के साथ 2014 का प्रदर्शन दोहराने में कामयाब हो जाती है तो केंद्र में मोदी सरकार की वापसी की संभावनाएँ बढ़ जाएँगी। इसे देखते हुए इन सीटों पर बीजेपी को जिताने के लिए संघ परिवार ने भी पूरी ताक़त झोंक दी है।    

ताज़ा ख़बरें
संघ परिवार के सूत्रों के मुताबिक़, संघ की रणनीति इन 169 सीटों पर बीजेपी के पक्ष में ज़्यादा से ज़्यादा मतदान कराकर अधिकतम सीटें उसकी झोली में डलवाने की है और इसके लिए संघ व्यापक रणनीति के साथ मैदान में उतर गया है। संघ ने इन सीटों को अपनी नाक का सवाल बना लिया है। 

बीजेपी को हर हाल में पुराना प्रदर्शन दोहराने में मदद करने के लिए संघ ने पश्चिम बंगाल सहित पार्टी के प्रभाव वाले 9 राज्यों में 80 हज़ार से एक लाख वरिष्ठ और प्रशिक्षित स्वयंसेवकों को मैदान में उतारा है। इन्हें समाज के प्रभावशाली लोगों के घर-घर जाकर संपर्क करके बीजेपी के हक़ में मतदान करने को राज़ी करने की ज़िम्मेदारी दी गई है।

सूत्रों के मुताबिक़, संघ के इन कार्यकर्ताओं को ऐसे इलाक़ों में छोटी-छोटी बैठकें करके बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाने का निर्देश दिया गया है, जहाँ ज़रा सी मेहनत से मतदाता बीजेपी के साथ आ सकते हैं।
संघ के इन कार्यकर्ताओं को मतदाताओं को यह समझाने के लिए कहा गया है कि पीएम के तौर पर नरेंद्र मोदी को एक और मौक़ा देना क्यों ज़रूरी है? इसके लिए ये बीजेपी के कोर एजेंडे राष्ट्रीय सुरक्षा, आतंकवाद के ख़िलाफ़ ज़ीरो टॉलरेंस, पाकिस्तान को घर में घुस कर मारने जैसे मुद्दों पर लोगों को भावनात्मक रूप से बीजेपी के साथ जोड़ने की कोशिश कर रहे हैं।
चुनाव 2019 से और ख़बरें

ये स्वयंसेवक मतदाताओं के सामने मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान आतंकवाद के जम्मू-कश्मीर तक सीमित होने, पाकिस्तान के वैश्विक मंच पर अलग-थलग पड़ने और भारत की सशक्त उपस्थिति दर्ज कराने की बात भी रख रहे हैं। वे भविष्य की चुनौतियाँ समझाते हुए बता रहे हैं कि बतौर पीएम मोदी को एक और कार्यकाल देने की ज़रूरत क्यों है। संघ प्रथम चार चरणों में सक्रिय रहा है, मगर अंतिम तीन चरण के लिए उसने ख़ास रणनीति तैयार की है। 

आख़िरी तीन चरणों से पहले आतंकवादी संगठन जैश-ए-मुहम्मद के सरगना मसूद अज़हर के अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी घोषित होने के बाद संघ परिवार के लिए बीजेपी के पक्ष में माहौल बनाना और भी आसान हो गया है।
दरअसल, आख़िरी तीन चरणों के नतीजे ही भावी सरकार की रूपरेखा तय करेंगे। इन चरणों में यूपी, मध्य प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, दिल्ली, बिहार और हिमाचल प्रदेश की 129 में से 91 फ़ीसदी से अधिक सीटें बीजेपी के पास थीं। पार्टी के सामने पश्चिम बंगाल की बाक़ी बची 24 सीटों पर बेहतर प्रदर्शन की चुनौती है। संघ पहली बार यहाँ बड़े स्तर पर सक्रिय हुआ है। बीजेपी ने पश्चिम बंगाल में हिंदू हितों की खुल कर बात की है और अनुमानों के मुताबिक़, चुनाव में उसे इसका सीधा फायदा मिल रहा है।
आख़िरी तीन चरणों में जिन 169 सीटों पर मतदान होना है उनमें उत्तर प्रदेश की 41 में से 38, मध्य प्रदेश की 23 में से 22, बिहार की 21 में 19, हरियाणा की 10 में 7, झारखंड की 11 में 9, दिल्ली की सभी 7 और हिमाचल की सभी 4 सीटों पर बीजेपी जीती थी।
इस बार उत्तर प्रदेश में बीजेपी को ज़बरदस्त नुक़सान का अंदेशा है। बिहार में वह नीतीश के साथ आने की वजह से पिछली बार जीती हुई सीटों से कम पर चुनाव लड़ने के बावजूद बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद कर रही है। यूपी मे होने वाले नुक़सान की भरपाई के लिए उसकी नज़र पश्चिम बंगाल पर है।
आख़िरी तीन चरणों में मतदान वाली पश्चिम बंगाल की सभी 24 सीटों पर पिछली बार टीएमसी ने जीत दर्ज की थी। संघ परिवार की कोशिश इनमें से कुछ सीटें झटकने की है और इसलिए वह यहाँ ख़ास तौर पर अभियान में जुटा है।

संघ परिवार के लगातार प्रचार से राज्य में साफ़ तौर पर सांप्रदायिक ध्रुवीकरण देखने को मिल रहा है। इस लोकसभा चुनाव में सबसे ज़्यादा मतदान पश्चिम बंगाल में ही हो रहा है। इसे राज्य की ममता बनर्जी सरकार के प्रति ग़ुस्से के साथ सत्ता विरोधी लहर और राज्य में बीजेपी के पैर पसारने का प्रबल संकेत माना जा रहा है। इसलिए बीजेपी राज्य में दहाई का आंकड़ा पार करने की उम्मीद कर रही है। संघ परिवार ऐड़ी-चोटी का ज़ोर लगा कर बीजेपी का यह सपना साकार करने में जुटा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
यूसुफ़ अंसारी
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें