loader
कमलनाथ।

गोडसे 'समर्थक' की एंट्री पर कांग्रेस में घमासान

पूर्व मुख्यमंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ द्वारा नाथूराम गोडसे समर्थक हिन्दू महासभा के एक पार्षद को कांग्रेस में प्रवेश देने पर बवाल मचा है। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और पीसीसी के तत्कालीन अध्यक्ष अरुण यादव ने इस ‘एंट्री’ पर अफसोस जताते हुए ट्वीट कर कहा है, ‘बापू हम शर्मिन्दा हैं।’

ग्वालियर नगर निगम के वार्ड 44 से पार्षद बाबूलाल चौरसिया को मध्य प्रदेश कांग्रेस में प्रवेश दिया गया है। राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और एमपीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ की अगुवाई में यह सब हुआ। पूर्व केन्द्रीय मंत्री और मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव को चौरसिया की कांग्रेस में एंट्री बेहद नागवार गुजरी है। उन्होंने सोशल मीडिया के ज़रिए अपनी नाराज़गी जताई है। 

अरुण यादव ने अपनी यह टिप्पणी कांग्रेस के आधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट के साथ ही राहुल गांधी, प्रियंका गांधी, दिग्विजय सिंह को टैग भी किया है।

कौन हैं बाबूलाल चौरसिया?

बाबूलाल चौरसिया पुराने कांग्रेसी हैं। स्थानीय निकाय के 2014 के चुनाव में उन्होंने कांग्रेस से टिकट मांगा था। टिकट नहीं मिला था। बाद में वे बागी हो गए थे। हिन्दू महासभा ज्वाइन करने के बाद इसी के झंडे तले चुनाव लड़ लिया था। जीत गये थे।

बाबूलाल चौरसिया इसके बाद कई बार सुर्खियों में रहे। ग्वालियर के जिस 44 नंबर वार्ड से वह चुनाव जीते उसमें नाथूराम गोडसे का मंदिर है। देश भर में यह अकेला ऐसा क्षेत्र है, जहाँ गोडसे का मंदिर है। हिन्दू महासभा ने इस मंदिर को बनवाया है। मंदिर 2017 में बनकर तैयार हुआ है। गोडसे के मंदिर में समय-समय पर हिन्दू महासभा अनेक तरह के आयोजन करता रहा है। ग्वालियर में गोडसे की भक्ति अनेक बार देश के मीडिया में सुर्खियाँ बनी है। 
ताज़ा ख़बरें

अब चौरसिया का सुर बदला!

मध्य प्रदेश कांग्रेस में शामिल होने के साथ ही बाबूलाल चौरसिया का सुर अब बदल गया है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा है, ‘मुझे धोखे में रखकर गोडसे की मूर्ति पर जल चढ़वाया गया था। पूजा करवाई गई थी। मुझे नहीं पता था कि वो मूर्ति गोडसे की थी। बाद में पता चला कि गोडसे का मंदिर बना रहे हैं।’

चौरसिया ने यह भी कहा,

‘मैं जन्मजात कांग्रेसी हूं। पिछले दो-तीन साल से मैं इनके इस तरह के कार्यक्रम से दूरी बनाकर चल रहा था। मेरे मन में हिन्दू महासभा की विचारधारा समाहित नहीं हो सकी। जब मुझे लगा कि ग़लत लोगों के साथ हूँ, उनकी कार्यशैली मुझे पसंद नहीं आ रही थी इसीलिए मैंने हिंदू महासभा छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया।’ 

हिन्दू महासभा का पलटवार

हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष जयवीर भारद्वाज ने बाबूलाल चौरसिया पर पलटवार किया। सवाल उठाते हुए उन्होंने पूछा, ‘क्या बाबूलाल बच्चे हैं? जो धोखे में थे। हर कार्यक्रम में भगवा टोपी पहनकर घूमते-फिरते थे।’

जयवीर भारद्वाज ने दावा किया कि-‘गोडसे का मंदिर बनाने की पूरी प्लानिंग बाबूलाल चौरसिया के सामने हुई। उसमें उनकी पूरी भागीदारी थी। बाबूलाल ने स्टाम्प पेपर पर यह शपथ ली है कि वे आजीवन हिंदू महासभा के सदस्य रहेंगे।’

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

नरोत्तम मिश्रा ने ली कांग्रेस की चुटकी

मध्य प्रदेश के गृह मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा ने इस मामले पर कांग्रेस की जमकर चुटकी ली। मीडिया के सवालों के जवाब में मिश्रा ने कहा, ‘गोडसे के पुजारी के कांग्रेस ज्वाइन करने से इस पार्टी का दोहरा चरित्र पता चलता है। तथाकथित गांधी परिवार और कांग्रेस का राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के सिद्धांतों से कोई सरोकार नहीं रह गया है। अब राष्ट्रपिता महात्मा गांधी उनके लिए सिर्फ़ वोटों के लिए रह गए हैं। कांग्रेस ने सरदार पटेल और डॉक्टर आंबेडकर के नाम का इस्तेमाल भी सिर्फ़ वोटों के लिए किया है।’

अप्रैल में हैं स्थानीय निकाय के चुनाव

मध्य प्रदेश में स्थानीय निकाय के चुनाव अप्रैल में संभावित हैं। राज्य निर्वाचन आयोग तैयारियों में जुटा है। मार्च में चुनाव की तारीख़ों की घोषणा संभावित है। चुनाव के मद्देनज़र तमाम राजनीतिक दल रणनीति को अंतिम रूप देने में जुटे हुए हैं।

बाबूलाल चौरसिया की कांग्रेस में वापसी को चुनावी गुणाभाग से जोड़कर देखा जा रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें