loader

कोवैक्सीन ट्रायल में मौत का कारण ज़हर: भारत बायोटेक

मध्य प्रदेश के भोपाल स्थित एक निजी मेडिकल कॉलेज में कोवैक्सीन टीके के ट्रायल के दौरान टीका लगाने के नौ दिन बाद एक युवा वालंटियर की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत से हड़कंप मच गया है।

क्या कहना है कंपनी का?

टीका बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने शनिवार को इस पर सफाई देते हुए एक बयान में कहा कि उस व्यक्ति की मौत सांस व हृदय की गति रुकने से हुई है। संदेह है कि उसे ज़हर दे दिया गया था, पुलिस इस मामले की जाँच कर रही है। 

ख़ास ख़बरें
कंपनी ने गांधी मेडिकल कॉलेज के हवाले से कहा है, 

"तीसरे चरण के ट्रायल के लिए वालंटियर हर शर्तों को पूरा करता था, उसे पूरी तरह स्वस्थ पाया गया था। टीका लेने के नौ दिन बाद उसकी मौत हो गई।"


भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड

मृतक के परिजनों का आरोप

बता दें, पुराने भोपाल के टीला जमालपुरा क्षेत्र के सुबेदार कालोनी में रहने वाले दिहाड़ी मजदूर दीपक मरावी (45 वर्ष) 12 दिसंबर को कोवैक्सीन का ट्रायल टीका दिया गया था। नौ दिनों के बाद 21 दिसंबर को दीपक की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई। दीपक के परिवार में पत्नी के अलावा तीन बच्चे हैं।

मरावी की पत्नी का आरोप है कि कोवैक्सीन ट्रायल के पहले तक उसके पति अच्छे-भले थे। किसी तरह की परेशानी नहीं थी।

"वे रोज़ मज़दूरी पर जाया करते थे। ट्रायल के बाद उनकी तबियत बिगड़ने लगी थी। लेकिन किसी ने उनकी सुध नहीं ली। उनकी तबियत 19 दिसंबर को ज्यादा बिगड़ी एवं 21 दिसंबर को मुँह से झाग निकलने के बाद उनकी मौत हो गई।"


मृतक की पत्नी

'ट्रायल की जानकारी नहीं'

मरावी की पत्नी ने यह भी कहा, ‘टीका लगवाने के एवज में 750 रुपये मिलने की बात होने पर उन्होंने टीका लगवाया था। टीका लगाने वालों ने उन्हें नहीं बताया था कि ट्रायल कर रहे हैं।’ 

मामले से जुड़ी पड़ताल में यह भी स्पष्ट हुआ है कि दीपक को वैक्सीन ट्रायल में शामिल किये जाने संबंधी कोई सहमति पत्र भी नहीं दिया गया था।

भोपाल में लंबे वक़्त से गैस पीड़ितों के लिए काम कर रही संस्था की रचना ढींगरा ने इस मामले को उठाया। उन्होंने मृतक मरावी की पत्नी और बच्चों की दुर्दशा मीडिया के सामने रखी। मामला मीडिया में आने के बाद हड़कंप मचा। चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने इस पर उन्हें टुकड़े-टुकड़े गैंग का सदस्य क़रार दिया। 

covaxine trial : bharat biotech blames it on poisoning - Satya Hindi

टुकड़े-टुकड़े गैंग?

पूर्व मुख्यमंत्री और राज्यसभा के सदस्य दिग्विजय सिंह शनिवार दोपहर को मृतक मरावी के घर पहुँचे। उन्होंने मरावी की पत्नी से पूरे मामले को जाना। टीका लगाने वाले निजी अस्पताल प्रबंधन और सरकार द्वारा इस परिवार की कोई सुध नहीं लिये जाने पर सिंह ने गहरा अफसोस जताया। 

दिग्विजय सिंह ने कहा, "मैं निंदा करता हूं चिकित्सा शिक्षा मंत्री की, जिन्होंने इस मामले को उठाने वाली सामाजिक कार्यकर्ता रचना को टुकड़े-टुकड़े गैंग का सदस्य बताया।"

पूर्व मुख्यमंत्री सिंह ने सवाल उठाया कि आख़िर ग़रीब लोगों पर ही क्यों टीके के परीक्षण किए जा रहे हैं और फिर परीक्षण के बाद उन पर कोई निगरानी नहीं रखी जा रही? तो फिर परीक्षण क्यों किया गया? उन्होंने कहा कि वे पीड़ित परिवार के साथ हैं और उनकी हरसंभव मदद करेंगे।

covaxine trial : bharat biotech blames it on poisoning - Satya Hindi

क्या कहा मुख्यमंत्री ने?

दीपक मरावी की मौत के बाद उठाये जा रहे सवालों को लेकर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहा है कि दीपक मरावी की विसरा रिपोर्ट आने पर सही तथ्य सामने आएंगे, टीके को लेकर ग़लत धारणा नहीं बनानी चाहिए। 

शिवराज सिंह के मुताबिक़, उनकी जानकारी में कोरोना वैक्सीन के नतीजे के दुष्परिणाम 24 घंटे से लेकर तीन दिन के अंदर आ जाते हैं। लेकिन, दीपक मरावी की मौत 7 दिन बाद हुई है, ऐसे में मौत के कारणों के लिए जाँच रिपोर्ट का इंतजार करना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें