loader

शिवराज ने क्यों कहा- एमपी के स्कूलों में गीता-रामायण पढ़ाएंगे

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने घोषणा की है कि- मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में अब गीता और रामायण पढ़ाई जाएगी। भोपाल में विद्या भारती के कार्यक्रम ‘सुघोष दर्शन’ कार्यक्रम में सीएम चौहान ने राज्य के सरकारी स्कूलों में धर्म ग्रंथों की शिक्षा देने की घोषणा की है। कांग्रेस ने इसे संघी एजेंडा बताया है। 

मुख्यमंत्री ने कहा है- हम सरकारी स्कूलों में हमारे धर्म ग्रंथों की शिक्षा देंगे। गीता का सार, रामायण, रामसेतु और महाभारत के प्रसंग पढ़ाएंगे। ऐसे लोग, जो महापुरुषों का अपमान करते हैं, उनको सहन नहीं किया जाएगा। मध्यप्रदेश में इन ग्रंथों की शिक्षा देकर हम बच्चों को नैतिक शिक्षा देंगे।
ताजा ख़बरें
मुख्यमंत्री की घोषणा ने सियासी रंग ले लिया। मध्य प्रदेश कांग्रेस मीडिया सेल के मुखिया के.के. मिश्रा ने राज्य सरकार के एलान से जुड़े सवाल के बाद ‘सत्य हिन्दी’ को दी गई, अपनी प्रतिक्रिया में प्रतिप्रश्न उठाया। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, ‘बीजेपी को चुनाव के वक्त ही धर्मग्रंथ, धर्म-कर्म और भावनाओं को भड़काने वाले मसले आखिर क्यों याद आते हैं?  गीता को पढ़ाए जाने की घोषणा के पीछे वास्तव में धर्मग्रंथ भगवद् गीता नहीं, बल्कि बीजेपी का संघी एजेंडा है।
जवाब भी मिश्रा ने ही दिया और बोले, ‘दरअसल मध्य प्रदेश सहित अनेक राज्यों और देश की राजनीति में भी बीजेपी का असली चेहरा सामने आ चुका है। वह धर्म-कर्म और धार्मिक भावनाएं भड़काकर चुनावी नैया पार करती रही है। अब जनता यह सब नकार रही है। इसके बाद भी मध्य प्रदेश सहित अन्य चुनाव वाले सूबों में भाजपा धर्म-कर्म का सहारा लेने से बाज नहीं आ रही है।’
मिश्रा ने कहा, ‘भारत सर्वधर्म सम्भाव वाला देश है। ऐसे में केवल गीता ही क्यों, भावी पीढ़ी को हर धर्म को जानने, समझने और बूझने का अधिकार है। भाजपा, हर धर्म की शिक्षा की बात क्यों नहीं करती है?’
उधर भाजपा के पुराने प्रवक्ता और मौजूदा विधायक रामेश्वर शर्मा ने कहा-हिन्दू धर्मग्रंथों को जो भी पढ़ेगा, उसमें दी गई शिक्षा को अंगीकार करेगा, वह कभी भी परास्त नहीं होगा। व्यक्तिगत और सार्वजनिक जीवन में उसे सफलता अवश्य मिलेगी।’
मध्य प्रदेश से और खबरें

1500 विद्यार्थी शामिल हुए

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर भोपाल के ओल्ड कैम्पियन ग्राउंड पर आयोजित ‘सुघोष दर्शन’ कार्यक्रम में प्रदेश के 75 सरस्वती शिशु मंदिरों के 1500 छात्र-छात्राओं ने घोष वादन किया।

इसी साल होना है विधानसभा चुनाव

मध्य प्रदेश में विधानसभा के चुनाव इसी साल होना हैं। राज्य विधानसभा में 230 सीटें हैं। पिछला चुनाव भाजपा हार गई थी। ज्योतिरादित्य सिंधिया की बगावत के बाद कांग्रेस की सरकार गिराकर बीजेपी सत्ता में लौट आयी थी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें