loader

कौन हैं, मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री कमल नाथ

मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने जा रहे कमल नाथ वर्तमान में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हैं। कमल नाथ छिंदवाड़ा लोकसभा क्षेत्र से 9 बार सांसद का चुनाव जीत चुके हैं। पार्टी अध्यक्ष राहुल गाँधी ने विधानसभा चुनाव से कुछ महीने पहले उन्हें प्रदेश कांग्रेस की कमान सौंपकर इस बात का स्पष्ट संकेत दिया था कि सत्ता में आने पर सीएम पद के लिए उनकी पहली पसंद कमल नाथ ही होंगे।उत्तर प्रदेश के कानपुर में पैदा हुए कमल नाथ कांग्रेस के पुराने नेताओं में से हैं। उनके पिता का नाम महेंद्र नाथ और माता का नाम लीला है। उनके पिता व्यवसायी थे। कमल नाथ की पढ़ाई उत्तराखंड के दून स्कूल से हुई है और उन्होंने कोलकाता के सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज से ग्रेजुएशन किया है। कमल नाथ विवाहित हैं और उनके दो बच्चे हैं।
know the profile of madhya pradesh chief minister kamal nath - Satya Hindi

संजय गाँधी के क़रीबी थे

इंदिरा गाँधी और राजीव गाँधी के साथ काम कर चुके कमल नाथ केवल 34 साल की उम्र में ही सांसद बन गए थे। वह संजय गाँधी के क़रीबी लोगों में से थे। कमल नाथ ने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत 1968 में युवक कांग्रेस से की और 1980 में पहली बार सांसद चुने गए। इसके बाद वे 1985, 1989, 1991, 1998, 1999, 2004, 2009 और 2014 में सांसद चुने गए। वह कांग्रेस में निर्णय लेने वाली सर्वोच्च संस्था कांग्रेस कार्य समिति के सदस्य रहे और पार्टी ने उन्हें राष्ट्रीय महासचिव भी बनाया। कमल नाथ पहली बार 1991 में केंद्रीय मंत्री बने और फिर 2004 और 2009 में भी वह मनमोहन सिंह की सरकार में मंत्री बने। उन्होंने शहरी विकास, वाणिज्य, पर्यावरण और उद्योग जैसे कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली। उन्हें सोनिया और राहुल गाँधी का भरोसेमंद माना जाता है।9 बार सांसद रहने के कारण यह समझा जा सकता है कि अपने संसदीय क्षेत्र में वह कितने लोकप्रिय हैं। विधानसभा चुनाव के दौरान कमल नाथ ने राज्य भर में पार्टी के लिए तूफ़ानी चुनाव प्रचार किया और शिवराज सिंह सरकार को घेरने में कोई कसर नहीं छोड़ी। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें