loader

मध्य प्रदेश: सीएम चौहान को हुआ कोरोना, कहा - संपर्क में आए लोग टेस्ट करवा लें

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। चौहान ने ख़ुद ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी है। चौहान ने ट्वीट कर कहा, ‘मुझे कोरोना के लक्षण आ रहे थे, टेस्ट के बाद मेरी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है। मेरी सभी साथियों से अपील है कि जो भी मेरे संपर्क में आए हैं, वे अपना कोरोना टेस्ट करवा लें। मेरे निकट संपर्क वाले लोग क्वारेंटीन में चले जाएँ।’ भारत में यह पहला मामला है जब कोई मुख्यमंत्री कोरोना से संक्रमित हुआ है। 

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘कोरोना का समय पर इलाज होता है तो व्यक्ति बिल्कुल ठीक हो जाता है। मैं 25 मार्च से प्रत्येक शाम को कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा बैठक करता रहा हूं। मैं अब यथासंभव वीडियो कांफ्रेंसिंग से कोरोना की समीक्षा करने का प्रयास करूंगा।’

ताज़ा ख़बरें
उन्होंने कहा, ‘मेरी अनुपस्थिति में अब यह बैठक गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा, नगरी विकास एवं प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह, स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग लेंगे। मैं स्वयं भी इलाज के दौरान प्रदेश में कोरोना नियंत्रण के हरसंभव प्रयास करता रहूंगा।’

मंत्री भी पाए गए थे पॉजिटिव

कुछ दिन पहले ही शिवराज सरकार के मंत्री अरविंद भदौरिया का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव आया था। भदौरिया बीते बुधवार को हुई शिवराज कैबिनेट की बैठक में मौजूद रहे थे। मुख्यमंत्री से उनकी वन-टू-वन चर्चा हुई थी। इसके अलावा उन्होंने विभाग से जुड़े अधिकारियों की बैठकें ली थीं और वे संगठन के नेताओं और कार्यकर्ताओं से भी मिले थे।

भदौरिया मध्य प्रदेश के दिवंगत राज्यपाल लालजी टंडन की अंत्येष्टि में शामिल होने के लिए शिवराज सिंह और अन्य नेताओं के साथ विमान से यूपी गये और लौटे थे। इसके अलावा भोपाल में आरएसएस के कुछ स्वयं सेवकों और पदाधिकारियों को भी कोरोना हुआ है। 

शिवराज सरकार भले ही लगातार दावा करे कि मध्य प्रदेश में कोरोना को लेकर हालात नियत्रंण में हैं लेकिन ऐसा दिखता नहीं है। पहले मंत्री और अब मुख्यमंत्री को कोरोना होना दिखाता है कि हालात काबू से बाहर हैं।

भोपाल में लगाना पड़ा लॉकडाउन

मध्य प्रदेश में कोरोना तेज़ी से फैल रहा है। राज्य में संक्रमितों का आंकड़ा 26 हजार से ज़्यादा हो गया है और अब तक 791 लोगों की मौत हो चुकी है। राजधानी भोपाल में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए 24 जुलाई से 10 दिनों तक टोटल लाॅकडाउन लागू किया गया है। प्रदेश के अनेक जिलों में भी प्रशासन अपने-अपने स्तर पर शहर बंद करने के निर्णय ले रहा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें