loader

20 साल बाद शिवराज बनेंगे एक और 'दिग्विजय'? 

मध्य प्रदेश में मतदान तो हो गया, पर सरकार किसकी बनेगी? यदि आप कमलनाथ के उत्साह और सरकार विरोधी लहर से अंदाज़ा लगा रहे हैं तो ठहरिए ज़रा। आपका अंदाज़ा ग़लत भी हो सकता है! यक़ीन न हो तो 1998 में दिग्विजय और 2008 में शिवराज सिंह चौहान सरकार के वक़्त के चुनावी नतीजे देख लीजिए। साल 1998 के लहर और मुद्दाविहीन चुनाव में वोटिंग के ठीक पहले दिग्विजय सिंह सरकार के 5 साल के शासन के ख़िलाफ़ आक्रोश का ‘अंडरकरंट’ महसूस किया जा रहा था, लेकिन जब परिणाम आए थे तो कांग्रेस पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में लौट आई थी। 2008 के चुनाव में शिवराज सरकार के जाने की संभावनाएँ बताई गई थीं, मगर वे शानदार बहुमत के साथ सत्ता में लौट आए थे। मौजूदा चुनाव भी लहरविहीन और घिसे-पिटे एवं पुराने मुद्दों वाला ही रहा है। प्रदेश की 15 साल पुरानी बीजेपी सरकार के ख़िलाफ़ ऐंटी-इन्कंबेंसी और एक जैसे चेहरों को लेकर गुस्से की भारी फुसफुसाहट पूरे समय बनी रही।प्रदेश में बीजेपी की सरकार को 15 और लगातार मुख्यमंत्री के तौर पर शिवराज सिंह चौहान को 13 साल हो रहे हैं। मौजूदा समय में सरकार विरोधी माहौल की सुगबुगाहट रही है। बीजेपी के बाग़ी भी पार्टी को परेशानियाँ पेश करते नजर आते रहे हैं। पहले बीजेपी संकेत दे रही थी कि जिन विधायकों का रिपोर्ट कार्ड ठीक नहीं है उन्हें बदला जाएगा। पार्टी क़रीब 90 के टिकट काटने की ताल भी ठोकती रही थी, लेकिन टिकट 50 के क़रीब ही काट सकी। 
‘पार्टी विद द डिफ़रेंस’ बीजेपी में यह पहली बार देखने को मिला कि बीजेपी के आंतरिक सर्वे में हार की आशंकाओं के बावजूद 40 चेहरे टिकट ले उड़ने में सफल हो गए। पहले इन सभी का टिकट काटना ‘सुनिश्चित’ कर लिया गया था।

बाग़ियों ने भी ‘खेल’ बिगाड़ा 

बीजेपी के क़रीब 65 असंतुष्ट बग़ावत कर मैदान में उतर गए। नहीं माने तो इन्हें पार्टी से निकाल दिया गया। ऐसे बाग़ियों में बेहद अहम नाम शिवराज सरकार के पुराने मंत्री और दमोह के पांच बार के सांसद रामकृष्ण कुसमारिया का है। वे दमोह में वित्तमंत्री जयंत मलैया और पथरिया में बीजेपी के प्रत्याशी लखन पटेल का ‘खेल’ बिगाड़ते नजर आए। केन्द्र की अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे सरताज सिंह ने कांग्रेस की टिकट पर विधानसभा अध्यक्ष सीतासरन शर्मा को होशंगाबाद सीट पर कड़ी चुनौती पेश की है।मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर का गोविंदपुरा सीट से टिकट काटना समर्थकों को रास नहीं आया। उन्होंने अनमने ढंग से काम किया है। हालाँकि ना-ना करते, बग़ावत और सीट हाथों से निकल जाने के भय से बीजेपी ने गौर की पुत्रवधु कृष्णा गौर को गोविंदपुरा से मैदान में उतारा। क़रीब दो दर्ज़न बाग़ी उम्मीदवार ऐसे हैं जो बीजेपी का गणित बुरी तरह से बिगाड़ते दिखाई पड़े। कांग्रेस में भी बग़ावत हुई है, लेकिन बीजेपी की तुलना में कम।इसके अलावा केन्द्र की मोदी सरकार के नोटबंदी और जीएसटी जैसे कठोर कदम तथा महंगाई के मुद्दे ने भी बीजेपी की परेशानियां बढ़ार्इं।  

कुर्सी कभी स्थायी नहीं होती है: चौहान

वोटिंग के एक दिन पहले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा एक समाचार पत्र को दिए गए साक्षात्कार की एक लाइन चुनावी नतीजों की संभावनाओं के लिहाज से बेहद अहम मानी जा सकती है। उन्होंने कांग्रेस के नारे ‘वक़्त है बदलाव का’ के बारे में पूछने पर कहा, ‘कुर्सी कभी स्थायी नहीं होती है।’वाेटिंग ख़त्म होने के बाद कांग्रेस नेता कमलनाथ जीत के प्रति अाश्वस्त दिखे। हालाँकि, पिछले चुनावों के नतीजे कुछ अन्य ही कहानी कहते हैं। आॅफ द रिकॉर्ड बताया गया है कि बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने समर्थकों को ‘आश्वस्त’ करते हुए कहा है, ‘इंदौर में नतीजा छह-तीन (छह बीजेपी और तीन कांग्रेस) और तमाम प्रतिकूल हालातों के बावजूद राज्य में ज़रूरी बहुमत 116 की तुलना में 120 सीटें अवश्य मिल जाएँगी।’ चुनावी संभावनाओं का दृश्य बेहद धुँधला है। मध्य प्रदेश में अबकी बार महा‘राज’ अथवा चौथी बार शिव‘राज’? धुरंधर से धुरंधर सेफ़ॉलजिस्ट भी पूरे यक़ीन के साथ चुनावी नतीजों को लेकर ठोस संभावना नहीं जा पा रहे हैं। मध्य प्रदेश में बीजेपी और कांग्रेस के बीच सीधा मुक़ाबला होता रहा है। राज्य में मिलीजुली सरकार बनने का इतिहास नहीं रहा है। इस बार भी चुनावी जंग सीधी ही है। बीएसपी और सपा समेत कई राजनैतिक दल तथा दो दर्ज़न के क़रीब गंभीर किस्म के ‘बाग़ी’ चुनाव मैदान में हैं। प्रेक्षक मानते हैं कि बीएसपी इस बार एक अंक पर ही (2013 में 4 सीटें जीती थीं) सीमित रहेगी और बाक़ी सब भी इकाई संख्या में ही सिमटकर रह जाएँगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें