loader
अनिल देशमुख

सुशांत केस- पीएम की बायोपिक बनाने वाले पर ड्रग के आरोपों की जाँच: महाराष्ट्र के मंत्री

प्रधानमंत्री मोदी पर बायोपिक बनाने वाले फ़िल्ममेकर संदीप सिंह पर लग रहे ड्रग के आरोपों की जाँच होगी। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने यह बयान दिया है। सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में ड्रग ऐंगल की जाँच के दौरान उनका नाम सामने आया है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री का यह बयान तब आया है जब कांग्रेस लगातार संदीप सिंह का बीजेपी से कनेक्शन होने का आरोप लगा रही है। महाराष्ट्र सरकार में कांग्रेस में साझीदार है। महाराष्ट्र में कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने तो संदीप सिंह के बीजेपी से कथित जुड़ाव के कई आरोप लगाए हैं। 

सचिन सावंत ने आरोप लगाते हुए पूछा है कि क्या पीएम की बायोपिक बनाने के लिए गुजरात के मुख्यमंत्री के साथ कोई समझौता हुआ था? इस संबंध में उन्होंने एक समझौते का हवाला देते हुए ट्वीट किया है। इसमें उन्होंने लिखा है कि गुजरात के मुख्यमंत्री रूपाणी ने 2019 में संदीप के साथ 177 करोड़ रुपये का समझौता किया था। इसमें उन्होंने पूछा है कि उन्हें किससे रुपये मिले? उन्होंने यह भी पूछा है कि क्या 'यह समझौता मोदी की बायोपिक बनाने के लिए एक सहमति के लिए था, क्या यह टोकेन एडवांस था?'

बता दें कि 2019 में लोकसभा चुनाव से पहले प्रधानमंत्री मोदी पर यह बायोपिक बनाई गई थी। तब उस फ़िल्म पर विवाद हुआ था कि क्या यह फ़िल्म चुनाव को प्रभावित करने के लिए बनाई गई थी। 

सचिन सावंत लगातार यह माँग करते रहे हैं कि 'भाजपा और सुशांत सिंह राजपूत की मौत के लिंक की जाँच करनी चाहिए'। उन्होंने इस संबंध में दो दिन पहले ही एक वीडियो जारी किया था। 

सचिन सावंत ने संदीप सिंह पर शनिवार को एक और लगाया था। उन्होंने एक ट्वीट में पूछा कि 'संदीप सिंह ने 1 सितंबर से 23 दिसंबर 2019 तक बीजेपी महाराष्ट्र कार्यालय में 53 बार फ़ोन क्यों किया? वह किससे बात कर रहे थे? बीजेपी में उनके सहोयगी हैं?'

उन्होंने आगे ट्वीट में लिखा, 'संदीप पर मॉरीशस में 2018 में एक नाबालिग पर सेक्सुअली असॉल्ट करने का आरोप लगा था। वह भारतीय दूतावास समर्थित यात्रा पर गए थे। उस केस की क्या स्थिति है? क्या उनकी मोदी सरकार ने सहायता की। नाबालिग पर सेक्सुअली असॉल्ट करने वाले को बीजेपी द्वारा मोदी जी की बायोपिक के लिए क्यों चुना गया और तब के मुख्यमंत्री द्वारा उसका सहयोग क्यों दिया गया?'

संदीप सिंह पर लगाए जा रहे एक के बाद एक कई आरोपों के बीच ही महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि उन्हें संदीप सिंह के बारे में कई शिकायतें मिली हैं। 

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, देशमुख ने कहा, 'सीबीआई संदीप सिंह की जाँच करने जा रही है, जिन्होंने प्रधानमंत्री पर बायोपिक बनाई थी - उनका भाजपा के साथ क्या संबंध है। इसी तरह, बॉलीवुड और ड्रग्स के साथ उनका क्या संबंध है - मुझे इसके बारे में भी कई शिकायतें मिली हैं। हम जाँच के लिए इन अनुरोधों को आगे बढ़ाएँगे।'

ताज़ा ख़बरें

कांग्रेस के सचिन सावंत के आरोपों को बीजेपी ने सीरे से खारिज कर दिया है। स्टेट बीजेपी प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने एक ख़बर के स्क्रीनशॉट को शेयर किया है जिसमें कहा गया था कि बाल ठाकरे की बहू स्मिता ठाकरे संदीप सिंह के साथ मिलकर दिवंगत शिवसेना सुप्रीमो पर एक बायोपिक बनाने की योजना बना रही थीं।

बता दें कि सुशांत राजपूत की मौत के मामले में रिया चक्रवर्ती के ख़िलाफ़ की जा रही पुलिस जाँच के बीच अब इस पूरे मामले में ड्रग्स के एंगल का विवाद शुरू हो गया है। इसी जाँच के सिलसिले में संदीप सिंह का नाम आया है। सुशांत सिंह की 14 जून को मौत के बार से ही इस पूरे मामले में महाराष्ट्र सरकार और बीजेपी आमने-सामने रही हैं। पहले पुलिस जाँच को लेकर भी दोनों पार्टियों में ख़ूब आरोप-प्रत्यारोप लगे। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर सीबीआई को जाँच सौंपे जाने के बाद भी ये आरोप-प्रत्यारोप जारी हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें