loader

एनसीपी ने पीठ में छुरा घोंपा : नाना पटोले

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष नाना पटोले ने कहा है कि एनसीपी ने कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंपा है और वह इसकी शिकायत कांग्रेस हाईकमान से करेंगे। नाना पटोले ने महाराष्ट्र की गोंदिया जिला परिषद के चुनाव में एनसीपी के बीजेपी के साथ हाथ मिलाने को लेकर यह बात कही। 

पटोले के बयान से पता चलता है कि महाराष्ट्र की महा विकास आघाडी सरकार में शामिल दलों के बीच कुछ खटपट जरूर चल रही है।

नाना पटोले ने कहा, “एनसीपी लगातार कांग्रेस की पीठ में छुरा घोंप रही है और उसने ऐसा कई जगहों पर किया है। जैसे मालेगांव और भिवंडी में। हम बीजेपी के साथ उनके रिश्ते के बारे में जरूर बात करेंगे।”

ताज़ा ख़बरें
गोंदिया जिला परिषद के चुनाव में बीजेपी के पंकज रहांगदाले अध्यक्ष चुने गए हैं जबकि एनसीपी के नेता यशवंत गणवीर उपाध्यक्ष बने हैं। पटोले ने कहा कि गोंदिया जिला परिषद में बीजेपी के साथ हाथ मिलाकर एनसीपी ने दिखाया है कि वह सत्ता की भूखी है और कांग्रेस उसकी प्रतिद्वंदी है।

नाना पटोले भंडारा जिले की सकोली सीट से विधायक हैं और 2014 में भंडारा-गोंदिया लोकसभा सीट से सांसद चुने गए थे। पटोले ने कहा कि उन्होंने गोंदिया जिला परिषद के चुनाव में एनसीपी के बड़े नेताओं से बातचीत भी की थी लेकिन उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया और फिर बीजेपी के साथ गठबंधन कर लिया। 

पटोले ने कहा कि विश्वासघात उनके खून में नहीं है और हम उम्मीद करते हैं कि अगर आप दोस्त बने रहना चाहते हैं तो अपनी दोस्ती में ईमानदार रहें और दूसरों की पीठ में छुरा ना घोंपे। 

साल 2019 में हुए विधानसभा चुनाव के बाद बीजेपी को सत्ता से बाहर रखने के लिए शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस एक मंच पर आए थे और अब महा विकास आघाडी की सरकार महाराष्ट्र की सत्ता में ढाई साल पूरा करने वाली है।

महाराष्ट्र कांग्रेस में रार

हालांकि पटोले ने शिकायत एनसीपी को लेकर की है लेकिन खुद महाराष्ट्र कांग्रेस के अंदर भी झगड़ा जोरों पर है। कुछ दिन पहले ही महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता दिल्ली आकर सोनिया गांधी से मिले थे और उन्होंने कुछ पार्टी नेताओं की शिकायत की थी। नाना पटोले के तमाम बयानों को लेकर भी महाराष्ट्र कांग्रेस में कुछ नेता नाराजगी जाहिर कर चुके हैं।

backstabber NCP report to congress high command Nana Patole - Satya Hindi

एनसीपी ने दिया जवाब 

पटोले के आरोपों को महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष जयंत पाटिल ने नकार दिया। पाटिल ने कहा कि ऐसी उम्मीद थी कि स्थानीय नेता एकजुट होंगे और महा विकास आघाडी की जीत होगी और नाना पटोले ने हमसे संपर्क भी किया था लेकिन ऐसा लगता है कि स्थानीय स्तर पर नेताओं के संबंध ठीक नहीं थे और हम इस वजह से हाथ नहीं मिला सके। 

पाटिल ने कहा कि पार्टी इस मामले को देखेगी। उन्होंने कहा कि एनसीपी महा विकास आघाडी सरकार के दलों को एकजुट रखना चाहती है। 

महाराष्ट्र से और खबरें

इस साल जनवरी में नासिक जिले के मालेगांव में कांग्रेस के 28 पार्षद एनसीपी में शामिल हो गए थे। तब भी कांग्रेस और एनसीपी के रिश्तों में खटास दिखाई दी थी।

हालांकि महा विकास आघाडी गठबंधन की कमान वरिष्ठ नेता शरद पवार के पास है लेकिन सरकार को लंबे वक्त तक चलाने के लिए तीनों ही दलों को एकजुट रहना होगा क्योंकि केंद्रीय जांच एजेंसियों की कार्रवाइयों को लेकर शिवसेना और एनसीपी की बीजेपी के साथ जबरदस्त तल्खी चल रही है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें