loader

नवाब मलिक और उनके परिवार की संपत्तियां अटैच की

जांच एजेंसी ईडी ने बुधवार को महाराष्ट्र सरकार के पूर्व कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक और उनके परिवार से जुड़ी कुछ संपत्तियों को अटैच कर लिया। ईडी ने एक बयान जारी कर यह जानकारी दी है। ऐसी संपत्तियों की संख्या 8 बताई गई है।

ईडी के मुताबिक, अटैच की गई संपत्तियां मलिक और उनके परिवार के स्वामित्व वाली सॉलिडस इन्वेस्टमेंट एंड मलिक इंफ्रास्ट्रक्चर से जुड़ी हैं। संपत्तियों में गोवावाला कंपाउंड, एक कमर्शियल यूनिट, कुर्ला वेस्ट में तीन फ्लैट, बांद्रा वेस्ट में दो फ्लैट और उस्मानाबाद जिले में 147 एकड़ की कृषि भूमि शामिल है।

नवाब मलिक को 23 फरवरी को ईडी ने गिरफ्तार कर लिया था। उन्हें गैंगस्टर दाऊद इब्राहिम और उसके कुछ सहयोगियों से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के एक मुक़दमे के मामले में दर्ज किया गया था। 62 साल के नवाब मलिक इन दिनों न्यायिक हिरासत में हैं और मुंबई की आर्थर रोड जेल में हैं।

ताज़ा ख़बरें

संजय राउत पर हुई थी कार्रवाई

ईडी ने कुछ दिन पहले शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत और उनके परिवार के सदस्यों की संपत्ति को भी अटैच कर लिया था। संजय राउत और उनके परिवार की ये संपत्तियां अलीबाग और दादर में हैं। इसके बाद महाराष्ट्र की सियासत में एक बार फिर से भूचाल आया था और शिवसेना ने बीजेपी पर हमला बोल दिया था।

ED attaches properties of Nawab Malik family members - Satya Hindi

क्या है मामला?

ईडी ने अपने बयान में कहा है कि एक संपत्ति को हड़पने के लिए हसीना पारकर और नवाब मलिक ने मिलकर साजिश रची और इसे सही दिखाने के लिए कई कानूनी दस्तावेज भी तैयार किए। ईडी ने कहा है कि इन लोगों ने मुनिरा प्लंबर और उनकी मां मरियम गोवावाला की संपत्ति को फर्जी दस्तावेजों के जरिए अवैध रूप से सॉलिडस इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर ट्रांसफर करा लिया। हसीना पारकर अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम की बहन हैं और उनकी अब मौत हो चुकी है। 

ईडी ने दाऊद इब्राहिम और उसके कुछ करीबी सहयोगियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जांच शुरू की थी। यह जांच एनआईए की ओर से फरवरी, 2022 में दर्ज कराए गए एक मुकदमे के आधार पर शुरू की गई थी। इस मुकदमे में दाऊद गैंग के आतंकी गतिविधियों और ड्रग तस्करी में शामिल होने का जिक्र था। 

महाराष्ट्र से और खबरें

ईडी ने आरोप लगाया था कि मलिक ने मुंबई के कुर्ला में 3 एकड़ से ज्यादा में फैले गोवावाला कंपाउंड को अवैध रूप से कब्जे में ले लिया था। इसकी कीमत लगभग 300 करोड़ है। ईडी ने कहा है कि वास्तव में यह संपत्ति मुनिरा प्लंबर की है।

ईडी ने कहा है कि इस संपत्ति से आने वाला 11.70 करोड़ का किराया सॉलिडस इन्वेस्टमेंट एंड मलिक इंफ्रास्ट्रक्चर के पास जाता था और यह भी प्रीवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट, 2002 के तहत अपराध की श्रेणी में आता है।

लेकिन नवाब मलिक और उनके परिवार ने ईडी के सभी आरोपों को खारिज कर दिया था। 

कई नेता निशाने पर 

पिछले 2 सालों में केंद्रीय एजेंसियों ने एनसीपी और शिवसेना के कई नेताओं पर शिकंजा कसा है। इनमें एकनाथ खडसे, अनिल देशमुख, नवाब मलिक, अजित पवार जैसे बड़े नेताओं के नाम भी शामिल हैं। कुछ दिन पहले ईडी ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बहनोई की 6.45 करोड़ की प्रॉपर्टी फ्रीज कर दी थी। उन पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप लगाया गया है। 

इसके बाद उद्धव ठाकरे ने केंद्रीय एजेंसियों के दुरुपयोग को लेकर बीजेपी पर हमला बोला था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें