loader

शिंदे सरकार ने हासिल किया विश्वास मत, पक्ष में 164, विपक्ष में पड़े 99 वोट

महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार ने सोमवार को विधानसभा में विश्वास मत हासिल कर लिया। 288 सदस्यों वाली महाराष्ट्र की विधानसभा में एकनाथ शिंदे सरकार को 164 विधायकों का समर्थन मिला। जबकि महा विकास आघाडी सरकार के पक्ष में 99 विधायकों ने वोटिंग की। उद्धव ठाकरे गुट के विधायक संतोष बांगड़ और बहुजन विकास आघाडी ने भी बीजेपी-एकनाथ शिंदे सरकार के समर्थन में वोटिंग की।

Eknath Shinde wins Maharashtra floor test  - Satya Hindi

स्पीकर का चुनाव भी जीता

रविवार को हुए स्पीकर के चुनाव में बीजेपी-एकनाथ शिंदे के गुट को आसान जीत मिली थी। स्पीकर के चुनाव में शिवसेना के उम्मीदवार राजन सालवी को सिर्फ 107 वोट मिले जबकि बीजेपी के उम्मीदवार राहुल नार्वेकर को 164 वोट मिले थे।

तेजी से बदले सियासी घटनाक्रम के बीच 30 जून की शाम को एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी।

ताज़ा ख़बरें

आघाडी के वोट कम क्यों हुए?

यहां अहम बात यह है कि जब स्पीकर के चुनाव में महा विकास आघाडी के उम्मीदवार राजन सालवी को 107 वोट मिले थे तो इस बार मतों की संख्या गिरकर 99 ही क्यों रह गई। इसका मतलब महा विकास आघाडी में शामिल दलों के विधायकों के बीच कहीं कुछ नाराजगी है। 

कांग्रेस विधायक जीशान सिद्दीकी, धीरज देशमुख और एनसीपी के संग्राम जगताप, रविवार को स्पीकर के चुनाव में वोटिंग के दौरान मौजूद थे लेकिन सोमवार को नहीं आए जिससे तमाम तरह की अटकलें लग रही हैं। जबकि कांग्रेस के बड़े नेता अशोक चव्हाण और विजय वडेट्टीवार देर से पहुंचे और इस वजह से विधानसभा के भीतर नहीं आ सके। 

विश्वास मत में जीत हासिल करने के बाद उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सभी का धन्यवाद अदा किया और कहा कि एकनाथ शिंदे एक सच्चे शिवसैनिक हैं और वह बालासाहेब ठाकरे की विचारधारा के प्रति समर्पित हैं।

Eknath Shinde wins Maharashtra floor test  - Satya Hindi

स्पीकर ने की कार्रवाई

इससे पहले स्पीकर राहुल नार्वेकर ने बड़ा फैसला लेते हुए मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे को शिवसेना के विधायक दल के नेता के रूप में मान्यता दे दी थी। वहीं, सुनील प्रभु को भी चीफ व्हिप से हटाकर शिंदे गुट के भरत गोगावले को नया चीफ व्हिप बना दिया।

जब एकनाथ शिंदे ने शिवसेना से बगावत कर दी थी और 39 विधायक लेकर अलग हो गए थे तो उद्धव ठाकरे ने एकनाथ शिंदे को विधायक दल के नेता से हटाने का प्रस्ताव विधानसभा उपाध्यक्ष के पास भेजा था, जिस पर उपाध्यक्ष ने मुहर लगाते हुए शिंदे की जगह पर अजय चौधरी को विधायक दल का नेता बना दिया था और सुनील प्रभु को नया चीफ व्हिप बना दिया था।

महाराष्ट्र से और खबरें

15 विधायकों पर हो सकती है कार्रवाई

शिवसेना के एक और विधायक संतोष बांगड़ ने एकनाथ शिंदे गुट का दामन थाम लिया है। ऐसे में अब शिंदे गुट के विधायकों की संख्या 40 हो गयी है और उद्धव ठाकरे गुट के पास सिर्फ 15 विधायक बचे हैं। अब इन 15 विधायकों पर अयोग्यता की तलवार लटक गई है। एकनाथ शिंदे गुट के चीफ व्हिप भरत गोगावले ने विधानसभा के स्पीकर राहुल नार्वेकर के पास एक याचिका दी है जिसमें शिवसेना के 15 विधायकों की सदस्यता रद्द करने की मांग की गई है। 

गोगावले ने अपनी याचिका में कहा है कि शिवसेना के 16 विधायकों ने विधानसभा स्पीकर के चुनाव में उनके द्वारा जारी किए गए व्हिप का उल्लंघन किया था जिसके चलते इन सभी विधायकों की सदस्यता रद्द की जाए। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें