loader

चुनाव आयोग ने उद्धव, शिंदे खेमों को दिए नये पार्टी नाम

शिवसेना के उद्धव ठाकरे धड़े को अब शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे के नाम से जाना जाएगा। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले प्रतिद्वंद्वी गुट को बालासाहेबंची शिवसेना कहा जाएगा। यह प्रावधान उपचुनाव तक के लिए रहेगा। चुनाव आयोग ने सोमवार को यह घोषणा की। ठाकरे खेमे का नया पार्टी चिह्न मशाल होगा, जबकि शिंदे गुट को अभी तक पार्टी का चुनाव चिह्न नहीं दिया गया है। शिंदे खेमे को नये सिरे से मंगलवार को तीन चिह्नों की सूची देने को कहा गया है। पहले जो इसने सूची दी थी उसमें से कोई भी नियमों के तहत सही नहीं था।

इससे पहले दोनों गुटों की ओर से प्रस्तावित गदा और त्रिशूल को चुनाव आयोग ने खारिज कर दिया था क्योंकि वे धार्मिक प्रतीक थे। कहा जाता है कि मुख्य चुनाव आयुक्त राजीव कुमार ने राजनीतिक दलों को धार्मिक अर्थ वाले प्रतीकों के आवंटन के खिलाफ कड़ा रुख अपनाया है। शिंदे खेमे को चुनाव आयोग ने कल सुबह 10 बजे तक तीन नए विकल्प उपलब्ध कराने को कहा है।

ताज़ा ख़बरें

चुनाव आयोग ने उद्धव ठाकरे और एकनाथ शिंदे खेमों में खींचतान के बीच शिवसेना के धनुष-बाण वाले चुनाव चिह्न के इस्तेमाल पर रोक लगा दी है। इसका मतलब है कि शिवसेना के इस चिह्न का इस्तेमाल आगे आने वाले उपचुनाव में न तो उद्धव ठाकरे खेमा और न ही शिंदे खेमा कर सकता है। 3 नवंबर को अंधेरी (पूर्व) विधानसभा के उपचुनाव होने हैं। इसी को लेकर दोनों खेमे पार्टी के चुनाव चिह्न पर दावे कर रहे थे। 

शिवसेना के ठाकरे धड़े ने तीन नामों और प्रतीकों की सूची दी थी। सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि इसने 'शिवसेना बालासाहेब ठाकरे', 'शिवसेना उद्धव बालासाहेब ठाकरे' और 'शिवसेना बालासाहेब प्रबोधनकर ठाकरे' नाम की सूची सौंपी थी। इसके साथ ही इसने उपचुनाव में चुनाव चिह्न के लिए त्रिशूल, उगता सूरज और मशाल की सूची सौंपी थी। चुनाव आयोग के निर्देश के बाद यह किया गया। 

शिंदे गुट ने चुनाव आयोग के फ़ैसले का स्वागत किया है और कहा कि आदेश 'तथ्यों पर आधारित है', जबकि उद्धव गुट ने नाराजगी में प्रतिक्रिया दी है। उद्धव के बेटे और विधायक आदित्य ठाकरे ने एक ट्विटर पोस्ट में कहा,

विद्रोहियों ने शिवसेना के नाम और चुनाव चिह्न को फ्रीज करने का एक घिनौना और बेशर्म काम किया है। इसे महाराष्ट्र की जनता बर्दाश्त नहीं करेगी। लड़ेंगे और जीतेंगे! हम सच्चाई के पक्ष में हैं! सत्यमेव जयते!


आदित्य ठाकरे, शिवसेना विधायक

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बता दें कि चुनाव आयोग का आदेश सुप्रीम कोर्ट द्वारा उद्धव के नेतृत्व वाले खेमे की याचिका को खारिज करने के कुछ दिनों बाद आया है। उस याचिका में उद्धव खेमे ने चुनाव आयोग की उस कार्यवाही पर रोक लगाने की मांग की गई थी जिसमें शिंदे ने अपने गुट को 'असली शिवसेना' के रूप में मान्यता देने और पार्टी का चुनाव चिह्न देने का आवेदन दिया था।

महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे की सरकार जून महीने में गिरने और उनके पूर्व सहयोगी एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में सरकार बनाने के बाद यह मामला चुनाव आयोग और सुप्रीम कोर्ट में पहुँचा था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें