loader

सुशांत की मौत के मामले में 'बीजेपी एंगल' की भी जांच हो: कांग्रेस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बायोपिक बनाने वाले फ़िल्म निर्माता संदीप सिंह का नाम सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जुड़ने के बाद कांग्रेस पार्टी आक्रामक हो गयी है। कांग्रेस इस मामले में न सिर्फ संदीप सिंह के बीजेपी के साथ संबंध होने के आरोप लगा रही है बल्कि बीजेपी की भूमिका की भी जांच की मांग कर रही है। महाराष्ट्र कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने ट्वीट किया है कि संदीप सिंह की कंपनी ने वाइब्रेंट गुजरात कार्यक्रम 2019 में गुजरात सरकार के साथ 177 करोड़ रुपये का एमओयू साइन किया था। 

कांग्रेस ने कहा कि संदीप सिंह के अलावा बीजेपी की आंखों का तारा बन चुकीं फ़िल्म बनाने वाली कंपनियों की भी जांच हो। कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि साल 2018 में संदीप सिंह पर मॉरीशस में एक नाबालिग लड़की के साथ यौन दुराचार करने का मामला दर्ज हुआ है। 

कांग्रेस ने सवाल उठाया है कि आखिर क्यों इस तरह के आरोपों से घिरा एक व्यक्ति प्रधानमंत्री की बायोपिक बनाने के लिए चुना गया।

संदीप सिंह के बीजेपी से संबंध 

उधर, इस मामले में CNN NEWS 18 का कहना है कि संदीप सिंह के अच्छे-खासे राजनीतिक संबंध हैं। CNN NEWS 18 के मुताबिक़, सुशांत सिंह की मौत के बाद संदीप ने तीन बार कांग्रेस नेता संजय निरुपम से मोबाइल पर बात की। चैनल के अनुसार, 1 सितम्बर से 23 दिसंबर, 2019 के बीच संदीप सिंह ने बीजेपी के महाराष्ट्र कार्यालय में लैंड लाइन फ़ोन पर 53 बार बात की है। चैनल का ये भी दावा है कि जांच के बढ़ते दबाव के कारण संदीप सिंह लंदन भागने की फिराक में था। इस मामले में संदीप सिंह की तरफ से अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं आयी है। 

ताज़ा ख़बरें

इन नए आरोपों के बाद सुशांत सिंह राजपूत की मौत का मामला अब नए मोड़ पर आ खड़ा हुआ है। पहले इस मामले में बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद और गुटबाजी की खबरें गरमाईं, बाद में सुशांत सिंह की एक्स गर्ल फ़्रेंड रिया चक्रवर्ती चर्चा  और अब नशे के कारोबार का मामला चर्चा में है। 

इस प्रकरण में रोज नए ट्विस्ट आ रहे हैं। सीबीआई मुंबई में डेरा डाले हुए है और आरोपियों से घंटों पूछताछ का दौर जारी है। बॉलीवुड के साथ-साथ राजनीतिक कनेक्शन की भी जांच की जा रही है। 

सीबीआई जांच की मांग पर शक

अब तक इस मामले में शिवसेना को शक के घेरे में लिया जा रहा था लेकिन अब इससे बीजेपी के तार जोड़े जाने लगे हैं। सवाल यह उठाया गया है कि क्या बीजेपी संदीप सिंह से अपने संबंध छुपाने के लिए तो कहीं सीबीआई को जांच सौंपने की मांग नहीं कर रही थी। कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई ने शुक्रवार को कहा कि सुशांत सिंह राजपूत की खुदकुशी के मामले में “बीजेपी एंगल” की भी जांच होनी चाहिए। 

कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने दावा किया कि सीबीआई इस मामले के नशीले द्रव्य पहलू के संदर्भ में संदीप सिंह से पूछताछ करने जा रही है जो “पीएम नरेंद्र मोदी” फ़िल्म के निर्माता हैं। सावंत ने ट्वीट किया, “इसमें निश्चित रूप से बीजेपी एंगल भी है। नशीले द्रव्य के लेन-देन में सीबीआई प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनी फ़िल्म के निर्माता की जांच करेगी। यह बेहद गंभीर बात है।” 

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, “क्या इसीलिये इस मामले की जांच में सीबीआई को लाने की इतनी जल्दी थी। जब बॉलीवुड में कई शीर्ष निर्माता थे तब इस फ़िल्म के लिये संदीप सिंह को ही क्यों चुना गया?।”

सावंत ने कहा, “मुख्यमंत्री, गृह मंत्री को बॉलीवुड, मादक द्रव्यों और बीजेपी के बीच साठगांठ की जांच करनी चाहिए।” सावंत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की ‘छवि खराब करने का प्रयास करने वाली फ़िल्म “एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर” के निर्माता विजय गुट्टे भी आपराधिक मामले में फंसे थे। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

कांग्रेस के इन आरोपों को बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता केशव उपाध्याय ने निराधार बताया है। वहीं, बीजेपी नेता राम कदम ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर आगामी विधानसभा सत्र में “बॉलीवुड-मादक द्रव्य साठगांठ” विषय पर चर्चा कराए जाने की मांग की है। 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की जांच के दौरान मादक द्रव्यों को लेकर हुए खुलासों के बाद एनसीबी ने भी एक मामला दर्ज कर अपनी जांच शुरू की है। इस मामले में अब महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस का भी बयान आ गया है। उन्होंने कहा कि किसी भी बीजेपी नेता ने ‘प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप’ से राज्य सरकार के मंत्री आदित्य ठाकरे का सुशांत की मौत मामले में नाम नहीं लिया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें