loader

विकास दुबे के गुर्गे गुड्डन को पुलिस ने दबोचा, बिकरू गांव की घटना के बाद से था फरार

महाराष्ट्र एंटी टैररिज्म स्क्वैड (एटीएस) ने कानपुर के कुख़्यात बदमाश रहे विकास दुबे के करीबी गुड्डन त्रिवेदी को शनिवार को महाराष्ट्र के ठाणे से दबोच लिया है। त्रिवेदी कानपुर के बिकरू गांव में पुलिसकर्मियों के साथ हुई मुठभेड़ में शामिल था। इस घटना में विकास दुबे और उसके गुर्गों ने 8 पुलिसकर्मियों को शहीद कर दिया था। घटना के बाद से ही गुड्डन फरार चल रहा था।

गुड्डन की गिरफ़्तारी दुबे का एनकाउंटर होने के एक दिन बाद हुई है। दुबे को शुक्रवार सुबह पुलिस ने कानपुर के पास मुठभेड़ में ढेर कर दिया था, उस वक्त उसे उज्जैन से कानपुर लाया जा रहा था। 

ताज़ा ख़बरें

जूहू एटीएस ने प्रेस रिलीज जारी कर कहा कि शनिवार को गुप्त सूचना मिलने पर ठाणे इलाके में सर्च ऑपरेशन चलाया गया और गुड्डन और उसके ड्राइवर सोनू तिवारी को गिरफ़्तार कर लिया। गुड्डन के बारे में पता चला है कि वह कई आपराधिक मामलों में शामिल रहा है और 2001 में उत्तर प्रदेश सरकार में तत्कालीन राज्यमंत्री संतोष शुक्ला के मर्डर में भी वह दुबे के साथ शामिल रहा था। शुक्ला की थाने के अंदर ही हत्या कर दी गई थी। 

गुड्डन त्रिवेदी की समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ फ़ोटो बीते दिनों काफी वायरल हुई थी।

इंडिया टुडे के मुताबिक़, बिकरू गांव में हुई मुठभेड़ के बाद गुड्डन ने अपना फ़ोन गांव की ही एक दुकान में छोड़ दिया और अपने ड्राइवर के साथ मध्य प्रदेश के दतिया चला गया। दतिया से वह पहले नासिक और फिर पुणे और इसके बाद ट्रक से होता हुआ ठाणे पहुंचा। 

विकास दुबे के एनकाउंटर को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार का वीडियो - 
गुड्डन ठाणे में अपने एक दोस्त के वहां रुका हुआ था और कानपुर में विकास दुबे के एनकाउंटर और बाक़ी घटनाक्रम पर नजर रख रहा था। 
महाराष्ट्र से और ख़बरें

बिकरू गांव में पुलिसकर्मियों के शहीद होने के बाद पुलिस ने विकास दुबे के साथियों के ताबड़तोड़ एनकाउंटर और गिरफ़्तारियां शुरू कर दी थीं। उत्तर प्रदेश पुलिस ने 7 जुलाई को विकास दुबे के तीन साथियों श्यामू वाजपेयी, जहान यादव और संजीव दुबे को गिरफ़्तार किया था और इसी दौरान हरियाणा की फरीदाबाद पुलिस ने भी मुठभेड़ के दौरान विकास के तीन सहयोगियों प्रभात मिश्रा निवासी बिकरू गांव, अंकुर निवासी ग्राम कापूपुर, कानपुर व एक अन्य बदमाश श्रवण को गिरफ़्तार किया था। 

इसके बाद पुलिस ने प्रभात मिश्रा, अमर दुबे, रणबीर उर्फ़ बउआ दुबे और विकास के कुछ और गुर्गों का एनकाउंटर कर दिया। शुक्रवार सुबह विकास दुबे भी पुलिस के साथ मुठभेड़ में ढेर हो गया। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें