loader

एनसीबी ने रणबीर, अर्जुन और डिनो मोरिया को फंसाने के लिए मुझ पर दबाव डाला: क्षितिज

बॉलीवुड में ड्रग्स एंगल की जांच कर रही एजेंसी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) सवालों के घेरे में है। एनसीबी पर यह आरोप लग रहे हैं कि वह दबाव डालकर अपनी मनमर्जी का काम कराना चाहती है। उधर, सुशांत की मौत को हत्या बताने पर तुले कुछ टीवी चैनल एम्स की रिपोर्ट आने के बाद सन्नाटे में हैं। इस रिपोर्ट में साफ कहा गया है कि फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत हत्या नहीं आत्महत्या थी। 

एनसीबी पर करण जौहर की कंपनी धर्मा एंटरटेनमेंट के पूर्व एग्जीक्यूटिव प्रोड्यूसर क्षितिज प्रसाद के उत्पीड़न का आरोप लग चुका है। क्षितिज के वकील सतीश मानशिंदे ने आरोप लगाया था कि उनके मुवक्किल पर ड्रग्स मामले में फ़िल्म निर्माता करण जौहर का नाम लेने को लेकर दबाव डाला गया। 

ताज़ा ख़बरें

अब प्रसाद की ओर से शनिवार को अदालत को बताया गया है कि एनसीबी के अधिकारियों ने उन पर फ़िल्मी दुनिया के सितारे रणबीर कपूर, अर्जुन रामपाल और डिनो मोरिया को झूठा फंसाने के लिए दबाव डाला। हालांकि एनसीबी ने इन आरोपों को नकारते हुए कहा है कि वह बेहद ही प्रोफ़ेशनल तरीक़े से जांच कर रही है। 

क्षितिज ने अदालत को बताया है कि कई बार इससे इनकार करने के बाद भी कि वह इन फ़िल्म कलाकारों को नहीं जानते और उसे ड्रग्स से जुड़े आरोपों को लेकर भी कोई जानकारी नहीं है, उसे प्रताड़ित किया जा रहा है। क्षितिज ने कहा है कि एनसीबी की ओर से उनसे फिर से झूठे बयानों पर दस्तख़त करने को कहा गया। 

क्षितिज प्रसाद 27 सितंबर से 3 अक्टूबर तक एनसीबी की हिरासत में थे। शनिवार को अदालत ने उन्हें 6 अक्टूबर तक जेल में भेज दिया। 

क्षितिज ने अदालत को दी अपनी अर्जी में लिखा है, ‘ग़लत बयान देने के लिए एनसीबी के द्वारा मेरा मानसिक, भावनात्मक और मनोवैज्ञानिक तौर पर उत्पीड़न किया जा रहा है।’ क्षितिज ने लिखा है कि उन्हें जांच एजेंसी के अधिकारियों ने घेर लिया, ख़ुद मनमर्जी बयान दिए और दबाव, धमकियों के बीच में उनसे इन पर दस्तख़त करने के लिए कहा। क्षितिज का आरोप है कि ऐसा न करने पर उसकी पत्नी और परिवार के अन्य सदस्यों को फंसाने की धमकी दी गई। 

एनसीबी का पलटवार

एनसीबी का कहना है कि क्षितिज जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और बेहद अकड़ू स्वभाव के और अहंकारी हैं। जांच एजेंसी का कहना है कि उन्होंने अपने ही दिए बयानों पर दस्तख़त करने से इनकार कर दिया और वह दस्तख़त करने के बदले उन पर लगे एनडीपीएस एक्ट के सेक्शन 27 ए को हटाने के लिए सौदेबाज़ी कर रहे थे। 

एनसीबी ने दावा किया है कि प्रसाद ड्रग्स खरीदने और इसे बांटने की साज़िश में शामिल थे। एनसीबी के मुताबिक़ उन्हें एक अन्य अभियुक्त अंकुश अर्नेजा से गांजा मिला था। हालांकि एनसीबी का कहना है कि अभी यह नहीं पता चला है कि क्षितिज प्रसाद गांजा किसे सप्लाई करते थे और इसकी मात्रा कितनी होती थी। एनसीबी का कहना है कि कुछ वॉट्स ऐप चैट में वह ड्रग्स पैडलर से चैटिंग कर रहे हैं।

अभी तक इस मामले में 20 लोगों को गिरफ़्तारी हो चुकी है। इनमें सुशांत की एक्स गर्लफ़्रेंड रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक सहित कई अन्य लोग शामिल हैं। 

दबाव बनाकर कराये सिग्नेचर

क्षितिज के वकील मानशिंदे ने कहा था कि पूछताछ के दौरान क्षितिज ने एनसीबी के अफ़सरों से कहा कि वह अपने परिवार या वकील से बात करना चाहते हैं। इस पर एक अफ़सर समीर वानखेड़े ने उससे कहा कि अगर वह चाहते हैं कि उन्हें कॉल करने दी जाए तो उन्हें उनके द्वारा तैयार किए गए बयान पर सिग्नेचर करने होंगे। मानशिंदे के मुताबिक़, ‘क्षितिज को क़ानूनी शब्दों का पता नहीं था, इसलिए उसने वकील या परिवार से बात करने के लिए बयान पर सिग्नेचर कर दिए।’ मानशिंदे ने कहा था कि क्षितिज को लगभग पूछताछ के दौरान अपमान और यातना से गुजरना पड़ा।

दीपिका से पूछताछ को लेकर देखिए, वरिष्ठ पत्रकार आशुतोष की मशहूर वकील आभा सिंह से बातचीत। 

करण जौहर की सफाई

पिछले हफ़्ते करण जौहर ने इस बात से इनकार किया था कि क्षितिज कभी उनकी कंपनी से जुड़े थे। ड्रग्स मामले में क्षितिज का नाम आने के बाद जब कुछ न्यूज़ चैनलों ने करण जौहर को इसे लेकर घेरने की कोशिश की तो उन्होंने ट्वीट कर अपना पक्ष रखा था। जौहर ने कहा था, 'कई मीडिया कंपनियां और न्यूज चैनल यह ख़बर चला रहे हैं कि क्षितिज प्रसाद और अनुभव चोपड़ा मेरे सहयोगी हैं। मैं यह साफ कह देना चाहता हूं कि मैं इन लोगों को निजी तौर पर नहीं जानता, न ही वे मेरे सहयोगी या नजदीकी हैं।'

महाराष्ट्र से और ख़बरें
पिछले साल आए एक वीडियो को लेकर करण जौहर के घर पर ड्रग्स पार्टी होने की ख़बरों को लेकर उन्होंने कहा था, ‘मैं यह बिल्कुल साफ़ कर देना चाहता हूं कि मैं किसी नशीले पदार्थ का इस्तेमाल नहीं करता। मुझे उम्मीद है कि मीडिया संयम बरतेगा वर्ना बेबुनियाद हमलों से सुरक्षा के लिए मुझे क़ानूनी अधिकारों का इस्तेमाल करने को बाध्य होना पड़ेगा।'

दीपिका से हुई थी पूछताछ

एनसीबी की ओर से कुछ दिन पहले फ़िल्म अदाकारा दीपिका पादुकोण, उनकी मैनेजर करिश्मा प्रकाश को आमने-सामने बैठाकर भी पूछताछ की गई थी। क्योंकि इस एजेंसी को जांच के दौरान दीपिका और करिश्मा प्रकाश के बीच वॉट्स ऐप पर हुई चैटिंग मिली थी और इसमें गांजा और वीड का जिक्र किया गया था। दीपिका से ड्रग्स चैट को लेकर पूछा गया था कि क्या यह चैट उन्होंने ही की है। ख़बरों के मुताबिक़, दीपिका ने स्वीकार किया था कि उन्होंने चैटिंग की है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें