loader

महाराष्ट्रः सोमवार को भी अघाड़ी गठबंधन का हारना तय, कोई चमत्कार नहीं होगा

महाराष्ट्र विधानसभा में पहली बार बीजेपी के विधायक राहुल नार्वेकर रविवार को स्पीकर चुना गया। विधानसभा में नार्वेकर को 164 वोट मिले। उन्हें शिवसेना विधायक और उद्धव ठाकरे के वफादार राजन साल्वी के खिलाफ मैदान में उतारा गया था, जो विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव के लिए शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस गठबंधन के उम्मीदवार थे।
रविवार को डाले गए वोटों के विस्तृत विश्लेषण से पता चलता है कि विपक्ष के पास बीजेपी-शिंदे गठबंधन के खिलाफ कोई मौका नहीं था। इसका मतलब यह है कि अगर शिवसेना के सभी 39 बागी विधायक अयोग्य घोषित कर दिए जाते, तो भी विपक्ष को हार का सामना करना पड़ता।

ताजा ख़बरें
महाराष्ट्र विधानसभा में कुल 288 सदस्य हैं। पिछले महीने शिवसेना विधायक रमेश लटके के निधन के कारण एक पद रिक्त है। इसका मतलब है कि टिपिंग स्केल 144 पर था। 
रविवार को नार्वेकर 164 मतों से जीते। हालाँकि, भले ही शिवसेना के सभी 39 बागी विधायकों को मतदान से अयोग्य घोषित कर दिया गया हो, फिर भी बीजेपी-शिंदे गठबंधन के लिए संख्या 125 पर ही रही होगी।

समाजवादी पार्टी (सपा) ने बीजेपी उम्मीदवार नार्वेकर के खिलाफ मतदान से परहेज किया। उसके दोनों विधायक अबू आजमी और रईस शेख मतगणना के दौरान बैठे रहे। विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव के दौरान अनुपस्थित रहने वाले विधायकों में सात एनसीपी के, दो बीजेपी के, एक कांग्रेस विधायक और एक एआईएमआईएम विधायक हैं।

महाराष्ट्र से और खबरें
288 सदस्यीय सदन में छोटे दलों और निर्दलीय के 10 विधायक, साथ ही 106 बीजेपी विधायक एकनाथ शिंदे का समर्थन करते हैं। शिवसेना के पास 55, एनसीपी के पास 53, कांग्रेस के पास 44, बीजेपी के पास 106, बहुजन विकास अघाड़ी के पास 3, समाजवादी के पास 2, एआईएमआईएम के पास 2, प्रहार जनशक्ति के पास 1, सीपीआई (एम) के पास 1, पीडब्ल्यूपी के पास 1, स्वाभिमानी पक्ष 1, राष्ट्रीय समाज पक्ष के पास 1, जनसुराज्य शक्ति पार्टी के पास 1है।
बहुत साफ है कि महाविकास अघाड़ी के पास सदन में बहुमत में शिंदे गुट को हराने के लिए पर्याप्त संख्या बल नहीं है। इसलिए शिंदे गुट सोमवार को दूसरा टेस्ट भी आसानी से पास करने जा रहा है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें