loader

एमएलसी चुनाव: बीजेपी-महा विकास आघाडी फिर आमने-सामने

महाराष्ट्र में राज्यसभा चुनाव के दौरान आमने-सामने रहे बीजेपी और महा विकास आघाडी सरकार के दल विधान परिषद के चुनाव में नई जंग लड़ रहे हैं। महाराष्ट्र में सोमवार को विधान परिषद के चुनाव के लिए मतदान हो रहा है।  विधान परिषद की 10 सीटों के लिए 11 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। 

महा विकास आघाडी सरकार में शामिल तीनों दलों- शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस ने मैदान में 2-2 उम्मीदवार उतारे हैं जबकि बीजेपी ने 5 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा है। 

विधायकों के आंकड़ों के लिहाज से 10 में से 9 उम्मीदवारों की जीत तय है जबकि दसवीं सीट के लिए मुंबई कांग्रेस के अध्यक्ष भाई जगताप और बीजेपी के प्रसाद लाड के बीच मुकाबला है। 

कुछ दिन पहले हुए राज्यसभा चुनाव में छठी सीट के लिए बीजेपी और शिवसेना के बीच जोरदार टक्कर हुई थी और बीजेपी के उम्मीदवार धनंजय महाडिक ने शिवसेना के उम्मीदवार संजय पवार को हराकर जीत दर्ज की थी। 

ताज़ा ख़बरें

26 विधायकों की जरूरत

288 सदस्यों वाली महाराष्ट्र की विधानसभा में विधान परिषद की 1 सीट जीतने के लिए 26 विधायकों का समर्थन जरूरी है। बीजेपी के पास 106 विधायक हैं और इस तरह वह विधान परिषद की 4 सीटों पर आसानी से जीत दर्ज कर सकती है। लेकिन पांचवी सीट पर जीत दर्ज करने के लिए उसे निर्दलीयों और छोटी पार्टियों के विधायकों का समर्थन चाहिए। 

शिवसेना के पास 55 विधायक हैं, एनसीपी के पास 52 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं। इस लिहाज से शिवसेना और एनसीपी दो-दो और कांग्रेस एक सीट जीत सकती है। लेकिन कांग्रेस के दूसरे उम्मीदवार भाई जगताप को जीतने के लिए आठ और वोटों की जरूरत है । इसलिए राज्यसभा चुनाव की तरह ही इस चुनाव में भी निर्दलीय और छोटी पार्टियों के 29 विधायक बेहद अहम रोल अदा करेंगे। 

 Maharashtra Legislative Council elections 2022 - Satya Hindi

राज्यसभा चुनाव में छठी सीट पर हार के बाद महा विकास आघाडी के दल सक्रिय हुए थे और एनसीपी मुखिया शरद पवार ने शिवसेना प्रमुख और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे सहित कांग्रेस के आला नेताओं से बातचीत की थी। 

महाराष्ट्र से और खबरें
विधान परिषद चुनाव में 3 विधायकों के वोट नहीं डाले जाएंगे। एनसीपी के पूर्व मंत्री अनिल देशमुख और कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक जेल में हैं जबकि शिवसेना के एक विधायक की मौत हो चुकी है। देशमुख और नवाब मलिक को मुंबई हाई कोर्ट ने विधान परिषद के चुनाव में वोट डालने की अनुमति नहीं दी थी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें