loader

मुंबई पुलिस ने अनुराग कश्यप को बुलाया, कहा, बलात्कार आरोप की जाँच से जुड़ें

राजनीतिक मुद्दों पर कई बार मुखर रह चुके और अब बलात्कार का आरोप झेल रहे फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप की मुश्किलें वाकई बढ़ रही हैं। मुंबई पुलिस ने उन्हें तलब किया और शुक्रवार को वरसोवा पुलिस स्टेशन पर जाँच में सहयोग देने के लिए बुलाया है।
फ़िल्म अभिनेत्री पायल घोष ने उन पर बलात्कार का आरोप बीते हफ़्ते लगाया था। कश्यप ने इसे सिरे से खारिज करते हुए बेबुनियाद बताया था। 
पुलिस ने यह 'समन' बुधवार को जारी किया है। इसके एक दिन पहले यानी मंगलवार को ही पायल घोष ने महाराष्ट्र के सांसद और केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले के साथ राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाक़ात की थी। पायल ने कश्यप की गिरफ़्तारी और अपने लिए 'वाई' श्रेणी की सुरक्षा की मांग की थी। 
पायल घोष को न्याय दिलाने के लिए सामने आये केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले ने भी राज्यपाल से उन्हें न्याय दिलाने की माँग की। इसके साथ ही एक न्यूज़ चैनल को इंटरव्यू देते हुए रामदास अठावले ने फ़िल्म इंडस्ट्री को ‘काली’ इंडस्ट्री बताते हुए कहा था। उन्होंने आगे कहा था, ‘अनुराग कश्यप अब तक मीडिया के सामने क्यों नही आए। अगर वे गलत नहीं होते तो अपना पक्ष मीडिया के सामने आकर ज़रूर रखते या तो अपने वकील के माध्य्म से रखते, लेकिन कुछ गलत उन्होंने ज़रूर किया है इसलिए वो सामने नहीं आ रहे हैं।'

अनुराग कश्यप ने क्या कहा?

अपने ऊपर लगे आरोपों पर निर्माता अनुराग कश्यप ने अपनी वकील के बयान को सोशल मीडिया पर साझा किया था। जिसमें कहा गया था कि 'अनुराग अपने ऊपर लगे यौन दुराचार के झूठे आरोपों से काफ़ी व्यथित हैं। यह आरोप पूरी तरह झूठे, बेबुनियाद और ग़लत इरादे से लगाये गये हैं। यह दुखद है कि ‘मी टू’ जैसे अहम अभियान को दूसरों के चरित्र हनन का उपकरण बना दिया गया है। इस तरह के काल्पनिक आरोप निश्चित तौर पर इसकी अहमियत को कम कर देंगे।'

इसके अलावा अनुराग कश्यप ने ट्वीट कर कहा था, ‘इतना समय ले लिया मुझे चुप करवाने की कोशिश में। चलो कोई नहीं। मुझे चुप कराते-कराते इतना झूठ बोल गए की औरत होते हुए दूसरी औरतों को भी संग घसीट लिया।'

भूख हड़ताल की धमकी

पिछले दिनों पायल घोष ने अनुराग कश्यप की गिरफ़्तारी की माँग करते हुए भूख हड़ताल पर जाने की धमकी दी थी। पायल के वकील नितिन सतपुते ने बयान जारी कर कहा, 'मेरी क्लाइंट ने मुझे बताया कि अगर उन्हें इंसाफ नहीं मिलेगा तो वह भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगी।' 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें