loader

9 दिसंबर तक वानखेड़े के परिवार के ख़िलाफ़ कोई बयान नहीं देंगे नवाब मलिक 

महाराष्ट्र के कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने बॉम्बे हाई कोर्ट से कहा है कि वह 9 दिसंबर समीर वानखेड़े के पिता ज्ञानदेव वानखेड़े और उनके परिवार को लेकर न तो कोई ट्वीट करेंगे और न ही बयान देंगे। जस्टिस एस जे कथावाला और एम एन जाधव की डिवीजन बेंच से नवाब मलिक ने यह बात गुरूवार को कही। बेंच ज्ञानदेव वानखेड़े की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। 

पिछली सुनवाई में अदालत ने नवाब मलिक को आगाह किया था कि वे किसी सामग्री को सार्वजनिक करने के पहले उसकी अच्छी तरह से पड़ताल कर लें और उसे सत्यापित भी कर लें। 

मलिक आर्यन ख़ान क्रूज़ ड्रग्स मामले में एनसीबी के अफ़सर समीर वानखेड़े के ख़िलाफ़ लगातार हमला बोल रहे हैं। समीर वानखेड़े के पिता ने नवाब मलिक पर मानहानि का मुक़दमा किया है और कहा है कि मलिक ने उनके और उनके परिवार के ख़िलाफ़ झूठे आरोप लगाए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

मलिक का हमला जारी 

उधर, गुरूवार को नवाब मलिक ने वानखेड़े पर एक और फर्जीवाड़े का आरोप लगाया है। उन्होंने समीर वानखेड़े की मां जाहिदा का मृत्यु प्रमाण पत्र शेयर किया है। नवाब मलिक ने इसके ज़रिए दावा किया है कि वैसे तो वानखेड़े ने अपनी मां जाहिदा को ओशिवारा के कब्रिस्तान में दफनाया था लेकिन जब मृत्यु प्रमाण पत्र बीएमसी से हासिल किया तो उसमें हिंदू दिखाया गया। 

मलिक का कहना है कि जाहिदा की मौत 16 अप्रैल 2015 को हुई थी। पहला सर्टिफिकेट 16 अप्रैल 2015 को बनाया गया जिसे मुंबई के ओशिवारा कब्रिस्तान से जारी किया गया था जिसमें जाहिदा का धर्म मुसलिम बताया गया था। जबकि दूसरा सर्टिफिकेट 17 अप्रैल 2015 को बनवाया गया जिसमें जाहिदा का धर्म हिंदू बताया गया। 

Nawab Malik said No statements against Wankhede family  - Satya Hindi

मलिक ने कुछ दिन पहले वानखेड़े का स्कूल में दाख़िला लेने और इसे छोड़ने का सर्टिफ़िकेट जारी किया था। सर्टिफ़िकेट में वानखेड़े के धर्म के आगे मुसलिम लिखा गया है। इससे पहले वानखेड़े के जन्म प्रमाण पत्र को लेकर भी खासा विवाद हुआ था। 

मलिक लगातार इस बात का दावा कर रहे हैं कि समीर वानखेड़े मुसलिम हैं। मलिक का कहना है कि मुसलिम होने के बावजूद वानखेड़े ने फर्जीवाड़ा कर दलित कोटे से सरकारी नौकरी हासिल की। हालांकि समीर वानखेड़े और उनके परिवार ने मलिक के दावों और आरोपों को पूरी तरह ग़लत बताया है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

जारी किया था निकाहनामा 

नवाब मलिक ने कुछ दिन पहले एक निकाहनामा ट्वीट किया था और कहा था कि यह समीर दाऊद वानखेड़े और शबाना क़ुरैशी का निकाहनामा है और यह एनसीबी अफ़सर की पहली शादी थी। 

काज़ी का दावा 

इसके बाद काज़ी मुजम्मिल अहमद सामने आए थे। उन्होंने ‘आज तक’ के साथ बातचीत में कहा था कि यह निकाहनामा पूरी तरह सही है और निकाह के वक़्त समीर वानखेड़े, शबाना, समीर के माता-पिता और पूरा खानदान मुसलमान था। उन्होंने कहा था कि लोखंडवाला में 2006 में यह शादी बहुत धूमधाम से हुई थी। 

शबाना क़ुरैशी के पिता डॉ. ज़ाहिद क़ुरैशी ने भी कहा था कि समीर का पूरा परिवार इसलामिक नियमों को मानता था और शादी इसलामिक रीति-रिवाज़ से सैकड़ों लोगों की मौजूदगी में हुई थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें