loader

मुंबई: शाहरूख़ के घर पहुंची NCB, अनन्या पांडे से हुई पूछताछ

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) की टीम गुरुवार को फ़िल्म अभिनेता शाहरूख़ ख़ान के मुंबई स्थित घर पर पहुंची। इसके अलावा अभिनेता चंकी पांडे की बेटी अनन्या पांडे के घर भी एनसीबी की टीम पहुंची और उनसे पूछताछ के लिए हाज़िर होने को कहा गया। शाम को लगभग 4 बजे अनन्या एनसीबी के दफ़्तर पहुंचीं और यहां उनसे पूछताछ की गयी। 

शाहरूख़ ने आज ही मुंबई की आर्थर रोड जेल में जाकर आर्यन से मुलाक़ात की थी। आर्यन का नाम कॉर्डेलिया क्रूज़ ड्रग्स रैकेट मामले में सामने आया था। यह बात काफ़ी दिन से कही जा रही थी कि एनसीबी शाहरूख़ के घर पहुंच सकती है। 

NCB team at Shah Rukh Khan residence  - Satya Hindi

जेल में हैं आर्यन

आर्यन ख़ान इन दिनों कॉर्डेलिया क्रूज़ ड्रग्स रैकेट मामले में जेल में बंद हैं। विशेष एनडीपीएस अदालत ने आर्यन को जमानत देने से इनकार कर दिया है। इसके बाद आर्यन ने जमानत के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। हाई कोर्ट में इस मामले में अगले मंगलवार यानी 26 अक्टूबर को सुनवाई होगी। 

आर्यन के साथ ही उनके दोस्तों अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा को भी जमानत नहीं मिली है। एनसीबी लगातार इन तीनों को जमानत दिए जाने का विरोध करती रही है। 

ताज़ा ख़बरें

आर्यन की वाट्सऐप चैट 

एनसीबी के हाथ आर्यन ख़ान की वाट्सऐप चैट भी लगी है जिसमें आर्यन के ड्रग्स पैडलर से संबंध सामने आए हैं। एनसीबी ने अदालत को बताया था कि आर्यन ख़ान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा एक गैंग की तरह काम कर रहे थे। 

एनसीबी के मुताबिक़, आर्यन की वाट्सऐप चैट से पता लगा है कि उन्होंने ड्रग्स के लिए ट्रांजेक्शन भी किये थे। एनसीबी की ओर से अदालत में पेश हुए एडिशनल सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने कहा था कि आर्यन ड्रग्स पैडलर के साथ वाट्सऐप पर ड्रग्स की बातें कोड वर्ड में किया करता था। 

आर्यन के वकीलों ने अदालत में तर्क दिया था कि एनसीबी के अधिकारियों को आर्यन के पास से न तो कोई ड्रग्स मिली और न ही मेडिकल जांच में ड्रग्स लिए जाने की पुष्टि हुई है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें