loader

पेट में दर्द की शिकायत के बाद शरद पवार अस्पताल में भर्ती

नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी यानी एनसीपी प्रमुख शरद पवार को मुंबई के अस्पातल में भर्ती काराया गया है। कहा गया है कि उनको पेट में दर्द की शिकायत है। पार्टी ने शाम को एक बयान जारी कर कहा है कि उनको कल एंडोस्कोपी और एक सर्जरी के लिए अस्पताल में भर्ती किया जाना था।

एनसीपी नेता नवाब मलिक ने ट्वीट किया, 'कृपया ध्यान दें, हमारे पार्टी अध्यक्ष शरद पवार साहेब को कल एंडोस्कोपी और सर्जरी प्रक्रिया के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जाना था, लेकिन चूँकि उन्हें फिर से पेट में कुछ दर्द हो रहा है, वह आज मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती हुए हैं।'

एनसीपी ने सोमवार को एक बयान में कहा था कि पवार को गाल ब्लैडर यानी पित्ताशय की बीमारी का पता चला है और सर्जरी की ज़रूरत है। नवाब मलिक ने कहा कि उन्होंने रविवार शाम को पेट में कुछ दर्द महसूस किया था और एक चेकअप कराया था, जिसके बाद डॉक्टरों ने उनके पित्ताशय में पथरी पाई।

पवार को यह दिक्कत और अस्पताल में भर्ती होने की ख़बर तब आई है जब महाराष्ट्र की गठबंधन सरकार और उनकी पार्टी मुश्किल के दौर से गुज़र रही है। मुकेश अंबानी के घर के बाहर विस्फोटक सामग्री से लदी कार मिलने के मामले के बाद एनसीपी नेता और महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख कई आरोपों का सामना कर रहे हैं। इन आरोपों के बाद से गठबंधन सरकार में खटपट की ख़बरें हैं। 

ताज़ा ख़बरें

इस खटपट के बीच ही अब अटकलें हैं कि शरद पवार ने हाल ही में अमित शाह से मुलाक़ात की है। शनिवार को एक गुजराती समाचार पत्र में ख़बर प्रकाशित हुई कि गौतम अडानी के फ़ार्म हाउस पर शरद पवार, प्रफुल्ल पटेल और अमित शाह की मुलाक़ात हुई और यह बैठक देर रात तक चली। इस ख़बर के बाद महाराष्ट्र की राजनीति में बयानबाज़ी शुरू हो गयी कि क्या राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी, भारतीय जनता पार्टी से हाथ मिलाकर प्रदेश में सत्ता परिवर्तन करने वाली है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें
शिवसेना की तरफ़ से ऐसी किसी मुलाक़ात को खारिज किया गया और कहा गया कि यह ख़बर झूठी है। बाद में संजय राउत का बयान आया कि कोई बड़ा नेता यदि केंद्रीय गृह मंत्री से मिलता है तो इसमें ग़लत क्या है। राष्ट्रवादी कांग्रेस ने भी उस ख़बर पर अपनी सफ़ाई दी थी। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें