loader

कोरोना से बचने के लिए तीन लाख रुपए का सोने का मास्क!

ऐसे समय जब कोरोना से लड़ रहे स्वास्थ्य कर्मियों को पीपीई जैसे प्रोटेक्टिव उपकरण और बुनियादी सुविधाँए नहीं मिलने की ख़बरें कई जगहों से आई हैं, सोने का मास्क सुर्खियों में है। पुणे के एक आदमी ने अपने लिए सोने का मास्क बनवाया है, जिस पर उसे लगभग 3 लाख रुपए खर्च करने पड़े हैं। उस पर हाल यह कि ख़ुद उसी व्यक्ति को नहीं मालूम कि लाखों का यह मास्क कारगर है या नहीं। 
पुणे ज़िले के पिम्पी-चिंचवाड़ के रहने वाले शंकर कुराडे ने 2.89 लाख रुपए खर्च कर सोना का मास्क बनवाया है। 
महाराष्ट्र से और खबरें
उन्होंने एनडीटीवी से कहा, 

'यह एक महीन मास्क है, जिसमें छोटे-छोटे छेद बने हुए हैं, इसलिए सांस लेने में कोई दिक्क़त नहीं है। लेकिन मुझे नहीं पता कि यह कितना प्रभावी होगा।'


शंकर कुराडे, पुणे निवासी

प्रभावी है यह मास्क?

उन्होंने सोशल मीडिया पर चांदी का मास्क पहने एक आदमी को देखा तो उनके मन में सोने के मास्क का विचार आया। कुराडे गहनों के शौकीन हैं, उनके  हाथ और गले में सोने के गहने लदे हुए साफ़ दिखते हैं। उन्होंने कहा, 'मैंने सोशल मीडिया पर एक वीडियो में कोल्हापुर के एक आदमी को चांदी का मास्क पहने देखा तो मेरे मन में सोने का मास्क पहनने का विचार आया। मैंने एक सुनार से बात की और उसने साढ़े पाँच पौंड का  यह मास्क एक हफ़्ते में बना कर मुझे दिया।' 
कुराडे यहीं नही रुके, वे इस तरह के और मास्क बनाने की बात कह रहे  हैं। उन्होंने कहा, 'मेरे परिवार के सभी लोगों के पास सोना है, उन्होंने माँग की तो मैं उन लोगों को भी ऐसा मास्क बनवा कर दूँगा। मुझे नहीं पता कि सोने का मास्क पहनने से कोरोना का संक्रमण मुझे होगा या नहीं, पर सरकारी क़ानून मान कर इसे रोका जा सकता है।' 
कोरोना वायरस के खौफ के बीच आँध्र प्रदेश में विशाखापत्तनम के एक डॉक्टर ने आरोप लगाया था कि उन्हें एक मास्क देकर कहा गया है कि वह इसे 15 दिन तक इस्तेमाल करें। नरसिपटनम एरिया हॉस्पिटल के डॉक्टर सुधाकर राव ने कहा था कि कोरोना वायरस के फैलने के डर के बीच यह नाकाफ़ी है और मुख्यमंत्री को इस पर ध्यान देना चाहिए। उनका यह आरोप काफ़ी अहम इसलिए है कि ऐसी रिपोर्टें आती रही हैं कि कार्रवाई के डर से डॉक्टर और नर्स ऐसी शिकायतें नहीं कर रहे हैं। 
संशाधनों की कमी की शिकायत करने वाले स्वास्थ्य कर्मियों पर कार्रवाई नहीं करने के लिए एम्स और सफदरजंग के रेजिडेंट एसोसिएशन द्वारा प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखे जाने के एक दिन ही विशाखापत्तनम के डॉक्टर की यह शिकायत आई है।
और ऐसे में 3 लाख रुपए के सोने के मास्क की बात हो रही है!

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें