loader

मुंबई: जेल से रिहा हुईं रिया, पीछा किया तो गाड़ी जब्त हो जाएगी!

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले में रिया चक्रवर्ती को बुधवार को जमानत मिल गई है और कागजी कार्रवाई पूरी होने के बाद शाम को उन्हें रिहा कर दिया गया। लेकिन इस संबंध में मुंबई पुलिस ने मीडिया को लेकर जो दिशा-निर्देश जारी किए हैं, वे बहुत गंभीर हैं। 

पुलिस ने कहा है कि रिहाई के बाद रिया का पीछा करना गैर कानूनी होगा। ऐसा करने वाले वाहनों को जब्त कर लिया जाएगा। सिग्नल पर यदि रिया की गाड़ी रुकी और कोई उसके विजुअल्स या बाइट लेने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ मामला दर्ज किया जाएगा। पुलिस ने कहा कि पीछा करने वाले मीडियाकर्मी अपनी तथा सड़क पर चलने वाले अन्य लोगों की जान के लिए खतरे जैसी स्थितियां पैदा कर देते हैं। 

पुलिस ने स्पष्ट रूप से कहा है कि वह इस प्रकार का व्यवहार करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगी। पुलिस के इन दिशा-निर्देशों को इस प्रकरण में मीडिया द्वारा किये गए व्यवहार के तौर पर देखा जा रहा है।
उल्लेखनीय है कि 28 अगस्त की रात अभियुक्त रिया चक्रवर्ती मुंबई स्थित डीआरडीओ के गेस्ट हाउस में करीब 10 घंटे लंबी चली पूछताछ के बाद जब अपने घर के लिए निकली थीं तो घर जाने के बजाय सीधे सांताक्रूज पुलिस स्टेशन पहुंच गयी थीं।  रिया ने पुलिस के समक्ष गुहार लगाई थी कि उसे खतरा है और मीडिया कर्मी उनके अपने घर में घुसने में बाधक बने हुए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

करीब ऐसा ही दृश्य डीआरडीओ गेस्ट हाउस से इस मामले के एक अन्य आरोपी सिद्धार्थ पिठानी के साथ देखने को मिला था, जब सीबीआई से पूछताछ के बाद वे अपने घर के लिए निकल रहे थे। एक चैनल का रिपोर्टर सिद्धार्थ की कार के दरवाजे के बीच में खड़ा हो गया और बार-बार मना करने के बावजूद वह वहां से हटे बिना सवाल करता रहा। 

गोदी मीडिया के न्यूज़ चैनल्स के स्टूडियो से लेकर सड़क तक इस मामले में जो हुआ उसे कम से कम पत्रकारिता तो नहीं कहा जा सकता। बात सुशांत सिंह की आत्महत्या को हत्या बताने से शुरू हुई थी और ऐसे-ऐसे दावे न्यूज़ चैनल्स के स्टूडियो से किये जाने लगे जैसे कोई क्राइम स्टोरी का प्लॉट उन्हें मिल गया हो। 

कंगना रनौत की एंट्री 

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से लेकर पुलिस की हर कार्रवाई पर सवाल उठाये गए। मामला सीबीआई को सौंप दिया तो कंगना रनौत की एंट्री हुई। कंगना ने मुंबई की तुलना पाक अधिकृत कश्मीर से कर डाली। केंद्र सरकार ने कंगना को वाई कैटेगरी की सुरक्षा प्रदान कर मुंबई भेजा जैसे वह शिव सेना को यह चुनौती दे रही थी कि वह अपनी ताकत के दम पर कुछ भी करा सकती है। 

नशे का एंगल 

गोदी मीडिया द्वारा मुंबई पुलिस ही नहीं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शरद पवार पर भी सीधे आरोप लगाए गए। आत्महत्या जब हत्या सिद्ध होती नहीं दिखी तो मामला नशे की तरफ मोड़ दिया गया और निशाने पर बॉलीवुड की हस्तियों को ले लिया गया। यह बताने की कोशिश की जाती रही कि जैसे नशे का पूरा रैकेट प्रदेश सरकार की शह पर संचालित होता है। 

बॉलीवुड में ड्रग्स कनेक्शन को लेकर रिया का नाम आने पर देखिए वीडियो- 

‘बिहारी बनाम बंगाली’ 

हत्या मामले से शुरू हुई कहानी में नशे का मोड़ आने पर रिया की गिरफ्तारी हो गयी। सुशांत सिंह के वकील मामले में अदालत से ज्यादा मीडिया में पक्ष रखते नजर आये। मुद्दा यहीं नहीं रुका बिहारी बनाम बंगाली तक पहुंच गया। 

महाराष्ट्र सरकार और शिवसेना का बिहारियों को लेकर क्या नजरिया है इस पर भी बहसें हुईं। सोशल मीडिया और खासकर ट्विटर पर करीब एक माह तक सुशांत को इंसाफ पर रिया और बॉलीवुड ही नहीं शिव सेना के खिलाफ ट्रेंड चलाये गए। लेकिन अब रिया जेल से बाहर आ गई हैं। 

8 सितंबर के बाद से ही रिया चक्रवर्ती न्यायिक हिरासत में मुंबई की भायखला जेल में बंद थीं। कोर्ट ने रिया चक्रवर्ती को 1 लाख रुपये के निजी मुचलके पर जमानत दी है। कोर्ट ने कहा है कि रिया को 10 दिनों में एक बार पुलिस स्टेशन जाकर हाजिरी लगानी होगी और जेल से रिहा होने के बाद अपना पासपोर्ट भी जमा करना होगा। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

कोर्ट ने कहा कि वह बिना अनुमति के विदेश यात्रा पर नहीं जा सकती हैं और मुंबई छोड़ने से पहले उन्हें जांच अधिकारी को सूचित करना होगा। लेकिन रिया चक्रवर्ती को मिली यह जमानत अपने पीछे कई सवाल खड़े करती है। 

यह मीडिया के चाल-चरित्र और सुपारी पत्रकारिता की तरफ भी इशारा करती है। सुशांत सिंह मौत प्रकरण में जिस तरह से पत्रकारिता की गयी है, उस पर अंकुश लगाने या पत्रकारिता की सीमा निर्धारित करने को लेकर मुंबई उच्च न्यायालय में मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्तों व समाजसेवी संगठनों द्वारा दो याचिकाएं भी दायर की गयी हैं। जिनकी सुनवाई के दौरान अदालत ने अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की सीमा होने की टिप्पणी भी की है। 

इन याचिकाओं पर क्या निर्णय आता है यह तो समय बताएगा लेकिन इस पूरे प्रकरण में बहुत सी बातें ऐसी हुई हैं, जो एक सभ्य या लोकतांत्रिक समाज में नहीं होनी चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें